Breaking News

138 करोड़ के देश में सिर्फ़ 5.8 करोड़ इनकम टैक्स रिटर्न : मनीष खेमका

   मनीष खेमका

138 करोड़ के देश में इस वर्ष सिर्फ़ 5.8 करोड़ इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल किए गए. इनमें से भी व्यक्तिगत करदाता सिर्फ़ डेढ़-दो करोड़ ही होंगे।बाक़ी अन्य रिटर्न फर्मों व एचयूफ जैसी संस्थाओं के हैं। सभी के समान-समावेशी विकास की वकालत करने वाले विद्वानों को समावेशी योगदान की बात भी पहले करनी चाहिए। साथ ही साथ देश में मुफ़्तख़ोरी की आदत को भी हमें रोकना होगा।

उन मूर्खों की बात जाने दीजिए, जिन्हें लगता है कि सरकार के पास कारूँ का ख़ज़ाना है। वह सब कुछ कर सकती है, लेकिन करती नहीं है। वास्तव में हम-आप ही सरकार हैं। हमारा आपका योगदान ही सरकार का ख़ज़ाना है। 2021-22 के बजट के मुताबिक़, आयकर व जीएसटी केंद्र सरकार को कुल 27 लाख करोड़ रुपये का कर राजस्व प्राप्त हुआ था।

इसे यदि 138 करोड़ जनता में बाँट दें तो प्रत्येक नागरिक के हिस्से में साल भर में 19565 रुपये आएंगे। माने महीने में सिर्फ़ 1630 रुपये। आप ख़ुद सोचिए क्या इतने पैसे में केंद्र सरकार व सेना-पुलिस के सभी कर्मचारियों को तनख़्वाह-पेंशन समेत रक्षा, स्वास्थ्य, शिक्षा, रेल-सड़क-पुल जैसी तमाम बुनियादी सुविधाओं का ख़र्च उठाया जा सकता है?

(लेखक का परिचय –  Co Chairman at PHD Chamber of Commerce and industry)

About reporter

Check Also

भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी : जब माँ यशोदा और अर्जुन को दिखाया था अपना विराट स्वरूप

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें पूरा देश आज हर्षोल्लास से भगवान श्रीकृष्ण की ...