ऊंचाहार से सपा विधायक की बढ़ी मुश्किलें, 2 बार से विधायक हैं मनोज पांडेय इस बार भी हैट्रिक की उम्मीद

रायबरेली। बसपा से भाजपा में आये स्वामी प्रसाद मौर्या ने 2022 के यूपी चुनाव के शंखनाद के बाद सपा का दामन थाम लिया है। इससे सूबे समेत उँचाहार की सियासत भी गरमा गई है। राजनीतिक गलियारे में चर्चा है कि वो या उनके बेटे उत्कृष्ट मौर्य ऊंचाहार सीट से सपा के सिंबल पर चुनाव लड़ सकते हैं। वहीं, यहां से मोदी लहर में सपा की साइकिल दौड़ाने वाले पूर्व कैबिनेट मंत्री मनोज पांडेय को सदर भेजा जा सकता है।

प्रतापगढ़ के रहने वाले हैं स्वामी प्रसाद मौर्य

रायबरेली । स्वामी प्रसाद मौर्य मूल रूप से प्रतापगढ़ जिले के बाघराय थाना क्षेत्र के बाबागंज के रहने वाले हैं। उनका इलाका रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के क्षेत्र में आता है। इसलिए यहां खुद को पनपता नहीं देख, उन्होंने रायबरेली जिले को अपनी कर्मस्थली बनायी । स्वामी प्रसाद ने रायबरेली की डलमऊ सीट से 1996 में पहली बार चुनाव जीता और विधानसभा पहुंचे। वो मायावती सरकार में मंत्री बने।

इस सीट से पहले ओबीसी विधायक ही नहीं बल्कि मंत्री बनने वाले पहले नेता बने। इसके बाद वो 2002 चुनाव में दोबारा विधायक चुने गए। 2007 में भी उन्होंने इस सीट से भाग्य आजमाया, लेकिन वो हार गए। साल 2008 में परिसीमन के बाद डलमऊ का नाम खत्म हो गया। डलमऊ का कुछ हिस्सा सरेनी विधानसभा सीट में चला गया और बाकी हिस्से को मिलाकर इस सीट को ऊंचाहार विधानसभा का नाम दे दिया गया।

दो बार से विधायक बनते आ रहे है मनोज पांडेय

ऊंचाहार सीट पर अभी तक दो बार 2012 और 2017 में चुनाव हुए हैं। दोनों बार यहां से सपा उम्मीदवार के तौर पर पूर्व कैबिनेट मंत्री मनोज पांडेय ने जीत दर्ज की है, जबकि योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे उत्कृष्ट मौर्य दो बार हारे हैं। ऊंचाहार रायबरेली जिला मुख्यालय से 38 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस विधानसभा सीट पर सबसे अधिक दलित मतदाता हैं। उसके अलावा यादव, मौर्य, ब्राह्मण, राजपूत और अन्य ओबीसी वोटर्स भी बड़ी संख्या में हैं।

स्वामी प्रसाद मौर्य की पुत्र वधू बीजेपी से ब्लॉक प्रमुख

हाल ही में संपन्न हुए पंचायत चुनाव में स्वामी प्रसाद मौर्य की पुत्र वधू संगीता मौर्य दीनशाह गौरा से बीजेपी की निर्विरोध ब्लॉक प्रमुख चुनी गई हैं। इसमें भी सपा प्रत्याशी से पर्चा छीनने के आरोप लगे थे और सपा विधायक डा मनोज पांडेय धरने पर भी बैठे थे। अब जब स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा का दामन थामा है। तो अटकले बढ़ गयी हैं।

मनोज पांडेय का टिकट कटा तो भाजपा की राह होगी आसान

सूत्र बताते हैं कि इस सीट पर सपा विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री मनोज पांडेय का वर्चस्व कायम है। यहां ब्राह्मण, मुस्लिम और यादव वोट का समीकरण भी अच्छा है। अगर टिकट कटा तो भाजपा को फायदा मिलने की उम्मीद है। अब क्या होगा यह तो वक्त ही बताएगा।

रिपोर्ट-दुर्गेश मिश्र

About Samar Saleel

Check Also

एसपी के नेतृत्व में निकली तिरंगा यात्रा, लोगों ने की पुष्प वर्षा

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें हर घर तिरांगा लगाने का दिया गया संदेश, ...