Breaking News

PMGSY के संपर्क मार्गों को लेकर सख्त निर्देश

लखनऊ। ग्रामीण सड़क विकास अभिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने PMGSY पीएमजीएसवाई के 33 जनपदों में कार्यक्रम क्रियान्वयन इकाई से जुड़े ग्रामीण अभियत्रण विभाग के अभियन्ताओं को निर्देश दिया कि पीएमजीएसवाई के तहत बन रहे सभी सम्पर्क मार्गों का जीआईएस मैपिंग का कार्य हर हाल में 25 अगस्त तक पूरा कर लिया जाय। उन्होंने कहा कि जिन सम्पर्क मार्गों पर अनुरक्षण कार्य एक वर्ष से नहीं हो रहा है उनको चिन्हित कर ठेकेदारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर कार्यवाही की जाय अन्यथा ठेकेदारों का पक्ष लेने तथा लापरवाही के आरोप में अधिशाषी अभियन्ताओं के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।

PMGSY को लेकर

पीएमजीएसवाई PMGSY को लेकर मुख्य कार्यपालक अधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह सोमवार को ग्रामीण सड़क विकास अभिकरण के सभा कक्ष में आरईडी-पीआईयू के अभियन्ताओं के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने समीक्षा बैठक में अभियन्ताओं से कहा कि वे सम्पर्क मार्गों के निर्माण में आने वाली लागत का तकनीकी आधार पर सही आगणन करें न कि अनुमानित रूप से धनराशि की मांग कर और बाद में अतिरिक्त राशि को समर्पित कर कार्य को लम्बित करें।

मुख्य अभियन्ता आरईडी

बैठक में मुख्य अभियन्ता आरईडी द्वारा बताया गया कि अनुरक्षण कार्य में लापरवाही पर उन्नाव में 58 लाख 80 हजार 30 रूपये तथा अलीगढ़ में 12 लाख 23 हजार की वसूली सम्बन्धित ठेकेदारों से की गई। सीईओ ने इसी प्रकार जौनपुर में पिंडरा कठिरांव से मड़ियांहू रोड तक बने सम्पर्क मार्ग का एक वर्ष से अनुरक्षण न होने पर सम्बन्धित ठेकेदार एके पाठक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराते हुए अनुबन्ध निरस्त करने के साथ ही कार्य में लापरवाही पर सम्बन्धित अधिशाषी अभियन्ता केसी श्रीवास्तव के खिलाफ विभागीय कार्यवाही करने का निर्देश दिया। मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने जनपद रामपुर, उन्नाव, बलिया, जौनपुर, भदोही, बांदा, फैजाबाद, संभल, बाराबंकी तथा मुजफ्रनगर में सम्पर्क मार्गों का अनुरक्षण सम्बन्धित ठेकेदारों द्वारा न किये जाने पर उन सभी ठेकदारों को नोटिस जारी करने हेतु अधिशाषी अभियन्ताओं को निर्देश दिया।

Loading...

प्रदेश में ग्रामीण

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में ग्रामीण अभियंत्रण विभाग द्वारा प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अन्तर्गत 33 जनपदों में सम्पर्क मार्ग का निर्माण तथा अनुरक्षण का कार्य किया जाता है। आरईडी द्वारा निर्मित 962 सम्पर्क मार्ग जिनकी कुल लम्बाई 4939 किमी0 है, जिसमें से 48 सम्पर्क मार्ग लम्बाई 240 किमी का सम्बन्धित ठेकेदारों द्वारा अनुक्षण नहीं किया जा रहा है।
समीक्षा बैठक में यूपीआरआरडीए के मुख्य अभियन्ता सुधांशु कुमार, वित्त नियंत्रक श्रीकृष्ण डौंडियाल, आरईडी के मुख्य अभियन्ता रवीन्द्र सिंह गंगवार, उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी बृजेश कुमार त्रिपाठी सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

कारगिल चौक पर शरारती तत्वों ने ‘नागरिकता कानून संशोधन’ के विरोध में किया बवाल

नागरिकता कानून संशोधन के विरोध में कारगिल चौक पर शरारती तत्वों का करीब तीन घंटे ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *