मंत्री तो तमाम बने पर बिधूना किसी को नहीं रहा याद, क्षेत्र के पिछड़ेपन पर आंसू बहा रहे लोग

बिधूना/औरैया। देश की आजादी से अब तक मंत्री तो तमाम बने पर बिधूना व दिबियापुर विधानसभा क्षेत्रों का पिछड़ापन आज तक दूर नहीं हो सका है। इस क्षेत्र में कोई ऐसा कार्य नहीं हो सका है जिसे तरक्की के नजरिए से जनता देख कर राजनीतिक दलों के क्षेत्रीय नेताओं पर भरोसा कर सकें।

कन्नौज संसदीय क्षेत्र का हिस्सा बने बिधूना विधानसभा क्षेत्र में नए परिसीमन में पृथक हुए बिधूना विधानसभा क्षेत्र के हिस्से से नवगठित दिबियापुर विधानसभा क्षेत्र अब तक के जनप्रतिनिधियों की बेरुखी से समस्याओं के मकड़जाल में फंसे आज तक क्षेत्र के विकास की बाट जोह रहे हैं जबकि कन्नौज संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़े डॉ राम मनोहर लोहिया को बिधूना क्षेत्र की जनता ने ही हारने से बचाकर संसद पहुंचाया था वही डॉक्टर लोहिया के प्रमुख शिष्य माने जाने वाले सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव भी कन्नौज संसदीय क्षेत्र से सांसद रहने के साथ केंद्र सरकार के रक्षा मंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं।

मुलायम सिंह के मुख्यमंत्री काल में बिधूना विधानसभा क्षेत्र को एक राजकीय डिग्री कालेज व पॉलिटेक्निक की सौगात मिली थी लेकिन पॉलिटेक्निक कॉलेज तो आज भी नहीं बन सका है राजकीय डिग्री कॉलेज तो संचालित है लेकिन उसमें शिक्षकों व कर्मचारियों की भारी कमी के चलते छात्रों की संख्या नगण्य है। तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के शासनकाल में बिधूना में रोडवेज बस अड्डा भी बना लेकिन सपा सरकार जाने के बाद आज तक बसपा भाजपा की सरकार में दो-दो बार उद्घाटन किए जाने के बाद भी आज तक बस अड्डा संचालित नहीं हो सका है। यही नहीं कांग्रेस सरकार में केंद्रीय मंत्री व दिल्ली सरकार की मुख्यमंत्री रही शीला दीक्षित भी कन्नौज संसदीय क्षेत्र की ही सांसद थी और उनके कार्यकाल में अवश्य औरैया जिले को एनटीपीसी पाता पेट्रो केमिकल्स जैसी सौगाते जरूर मिली हैं, जिन्हें जिले के लोग जरूर याद करते हैं।

इस क्षेत्र में धान की अधिक पैदावार होने के चलते क्षेत्रीय लोगों की सरकारी पेपर मिल की स्थापना कराए जाने खेलकूद स्टेडियम बनाए जाने सभी गांवों को सड़कों से जोड़े जाने की मांगे वर्षों से लंबित हैं किंतु किसी ने इस पर ध्यान नहीं दिया है। बिधूना व दिबियापुर विधानसभा क्षेत्र की राजनीति में सक्रिय बिधूना विधानसभा क्षेत्र के मौजूदा भाजपा विधायक विनय शाक्य, पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री सतीश पाल, पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री चौधरी रामबाबू यादव भी पूर्व में प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके हैं। मौजूदा समय में दिबियापुर विधानसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक लाखन सिंह राजपूत भी प्रदेश सरकार में कृषि राज्य मंत्री के पद पर आसीन हैं लेकिन इन क्षेत्रों में अब तक तमाम मंत्री पद चुकने के बावजूद भी इन विधानसभा क्षेत्रों की तकदीर व तस्वीर नहीं बदली है।इन क्षेत्रों के लोग आज भी अपने पिछड़ेपन पर आंसू बहाते हुए अब तक के जनप्रतिनिधियों को कोसने पर मजबूर हैं।

रिपोर्ट-अनुपमा सेंगर

About Samar Saleel

Check Also

नृत्य प्रतियोगिता में पंखुड़ी पाण्डेय ने जीता गोल्ड मेडल

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजाजीपुरम (द्वितीय कैम्पस) की ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *