Breaking News

सीएम सुक्खू बोले- न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के हिसाब से देंगे करुणामूलक नौकरियां

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने कहा है कि न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के हिसाब से सरकार करुणामूलक नौकरियां देगी। मंगलवार को विधानसभा सदन में प्रश्नकाल के दौरान विधायक केएल ठाकुर के सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व सरकार ने इस मामले पर कुछ काम नहीं किया।

धरती की तरफ तेजी से आ रहा है यह दुश्मन, 22 एटम बम के बराबर ताकत, सब कुछ हो जाएगा बर्बाद !

प्रदेश सरकार ने इस मामले पर विचार करने के लिए कमेटी बनाई है। कमेटी के साथ दो बार चर्चा हो चुकी है। जल्द कार्य योजना सामने लाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व सरकार ने करुणामूलक आधार की नौकरियों के सरकारी विभागों में 1,766 और निगमों-बोर्डों में 734 आवेदन रिजेक्ट किए। सिर्फ 25 फीसदी को ही नौकरियां दीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते तीन साल में करुणामूलक नौकरियों के लिए सरकारी विभागों में 4,099 और निगम-बोर्डों में 2,971 आवेदन आए।

सीएम सुक्खू बोले- न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के हिसाब से देंगे करुणामूलक नौकरियां

इस मामले पर गंभीरता से सोचना होगा। उधर, मुख्यमंत्री के जवाब पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि करुणामूलक आधार पर सबसे अधिक नौकरियां पूर्व सरकार ने दी हैं। भाजपा सरकार ने नौकरियां देने के लिए नियम बदले। पहले 50 वर्ष की आयु के बाद कर्मचारी की मृत्यु होने पर उनके परिजनों को नौकरी नहीं मिलती थी। हमारी सरकार ने प्रावधान किया कि अगर सेवानिवृत्ति से एक दिन पहले भी मृत्यु होती है तो करुणामूलक नौकरी दी जाएगी। जयराम ने कहा कि आयु की शर्त में भी भाजपा सरकार ने छूट दी। विधायक केएल ठाकुर ने पूछा था कि करुणामूलक आधार की नौकरियां कब तक दी जाएंगी।

विधायक नैय्यर की माता के निधन पर जताया शोक

मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने चंबा के विधायक नीरज नैय्यर की माता चंचल नैय्यर के निधन पर शोक व्यक्त किया है। 81 वर्षीय चंचल ने चंडीगढ़ में आखिरी सांस ली। सुक्खू ने कहा कि वंचित वर्गों के कल्याण के लिए उनके योगदान को सदैव याद रखा जाएगा। मुख्यमंत्री ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिवार को इस अपूरणीय क्षति को सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की।

बैठक में विधानसभा की कार्यवाही पर की चर्चा

विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने सत्र शुरू होने से से पहले कार्य सलाहकार समिति की बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर, संसदीय कार्य मंत्री हर्षवर्धन चौहान, समिति सदस्य विपिन सिंह परमार, राकेश जम्वाल, संजय रत्न, केएल ठाकुर और इंद्र दत्त लखनपाल मौजूद रहे। यह बैठक सप्ताह भर चलने वाली कार्यवाही को निर्धारित करने पर आधारित थी।

विद्यार्थियों ने देखी विधानसभा की कार्यवाही

इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ लीगल स्टडीज हरी देवी के छात्र-छात्राओं ने मंगलवार को सदन की कार्यवाही देखी। इससे पहले वे विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया से मिले। इस दौरान छात्र-छात्राओं ने विधानसभा अध्यक्ष से आज होने वाली कार्यवाही के बारे पूछा और संसदीय प्रणाली की जानकारी ली। पठानिया ने छात्र-छात्राओं को अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि लोकसभा और विधानसभा लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर हैं।

About News Desk (P)

Check Also

भिखारी को अपने कपड़े पहनाकर कार में जिंदा जलाया, 90 लाख हड़पने के लिए रची खौफनाक साजिश… एक और गिरफ्तार

आगरा। मौत का नाटक रचकर बीमा कंपनियों के 90 लाख रुपये हड़पने के मामले में थाना ...