Wednesday , September 22 2021
Breaking News

पर्यटन विकास के व्यापक प्रयास

डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तीर्थाटन व पर्यटन के क्षेत्र में दशकों से चली आ रही नीति में व्यापक सुधार किया है। उन्होंने आस्था के साथ विकास को भी जोड़ा है। काशी मथुरा अयोध्या आदि विश्व प्रसिद्ध नगरों का होना उत्तर प्रदेश के लिए गौरव की बात है। किंतु इस गौरव के अनुरूप विशेष जिम्मेदारी की अपेक्षा भी अपेक्षा रहती है। पिछली सरकारों ने इस ओर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया। स्वतन्त्रता के बाद ही इन स्थलों का विश्व स्तरीय विकास होना चाहिए था।

इसका लाभ अर्थव्यवस्था को भी मिलता। लेकिन ऐसा नहीं किया गया। योगी आदित्यनाथ ने अनेक अवसरों पर कहा कि पिछली सरकारें इन स्थलों का नाम लेने से डरती थी। उन्हें लगता था कि ऐसा करने से उनकी सेकयलर छवि खराब होगी। जबकि यह जनहित से जुड़ा विषय था। इसलिए योगी आदित्यनाथ ने तीर्थाटन व पर्यटन विकास पर ध्यान दिया। यहां के विकास का लाभ बिना भेदभाव के सभी स्थानीय लोगों को मिल रहा है। इसके साथ ही पर्यटन के लिए पहुंचने वाले लोगों को भी सुविधाएं उपलब्ध हो रही है। यह संयोग था कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अयोध्या यात्रा के अगले दिन जन्माष्टमी पर्व पड़ा।

अयोध्या में राष्ट्रपति ने अनेक विकास कार्यों का भी शुभारंभ किया। योगी आदित्यनाथ सभी क्षेत्रों की यात्रा के दौरान विकास की योजनाएं भी ले जाते है। जन्माष्टमी पर वह मथुरा गए। यहां प्रभु श्रीकृष्ण के दर्शन करने के साथ ही विकास कार्यों से संबन्धित डाक्यूमेंट्री देखी। इसके माध्यम से विकास कार्यों की समीक्षा की। वस्तुतः भारतीय चिंतन में उत्साहधर्मी पर्वों की परंपरा रही है।इनके साथ किसी न किसी रूप में देवों के नाम भी जुड़े हुए है। इनसे आध्यात्मिक चेतना का भी बोध होता है। दीपावली के साथ अयोध्या धाम और प्रभु श्री राम का नाम जुड़ा है। जन्माष्टमी व होली की कल्पना मात्र से मथुरा गोकुल और प्रभु श्री कृष्ण का स्मरण हो जाता है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मथुरा के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

बृज तीर्थ विकास परिषद बनने के बाद विधायकों और सांसद हेमा मालिनी के सहयोग से ब्रजमंडल की पांच हजार साल की प्रतीक्षा पूरी हुई। उन्होंने कहा कि विगत चार वर्षों में अच्छा विकास हुआ है।सप्तपुरियों में से एक मथुरा को और विकास की जरूरत है। बृजवासियों को भगवान की लीला देखने सेवा करने का सौभाग्य मिला है। वर्तमान सरकार ने सत्ता संभालने के बाद ही मथुरा नगर निगम बनाया। सात तीर्थ घोषित किए गए थे।मथुरा वृन्दावन,बरसाना बलदेव,गोवर्धन,गोकुल को तीर्थ स्थल का दर्जा दिया गया है। इनके विकास हेतु ब्रज तीर्थ विकास परिषद का गठन किया गया है। मथुरा वृंदावन में मद्य मांस की बिक्री पर पाबंदी लगेगी। बिना किसी को उजाड़े बिना सुनियोजित विकास किया जाएगा।

योगी आदित्यनाथ मथुरा में जन्माष्टमी पर श्री कृष्णोत्सव का शुभारंभ किया। कहा कि यहां भौतिक विकास के साथ आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत को संभालना भी हम सबके फोकस में हैं। अयोध्या अब नई अयोध्या बन रही है। आजादी के बाद पहले राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद और पहले प्रधानमंत्री के रूप में  नरेंद्र मोदी अयोध्या गए। योगी आदित्यनाथ ने श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर नंदलला के दर्शन किए। कहा कि पांच हजार साल पूर्व भगवान ने स्वयं अवतार लिया और योगमाया भी प्रकट हुईं। जन्माष्टमी के अवसर पर यहां आने और उत्सव में शामिल होने की तीन वर्षों की साधना अब पूरी हुई।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने ब्रज तीर्थ विकास परिषद की ओर से किए गए विकास कार्यों की डॉक्यूमेंट्री का अवलोकन किया। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राम कृष्ण से दूर भागने वाले अब उन्हें आराध्य बता रहे है। उन्होंने कहा अब त्योहार मनाने में समय की बंदिश नहीं है। कान्हा तो आधी रात को ही आए। ब्रज भूमि तो पुण्यभूमि है। कुंभ की शानदार भव्य बैठक कुंभ का आयोजन संपन्न हुआ। कुंभ संपन्न होने के बाद दूसरी लहर आई। यह बिहारी लाल की कृपा है। गोवंश को संरक्षित करने का कार्य वर्तमान सरकार ने किया है। दुग्ध की गुणवत्ता बेहतर बनाने के प्रयास किये जा रहे है। टीकाकरण के बाद इन गोवंशों को ईयरटैग किया जा रहा है। निराश्रित गोवंश को संरक्षण देने वालों को राज्य सरकार द्वारा नौ सौ रुपये प्रतिमाह प्रति गोवंश दिया जा रहा है। गोवंश के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए गौ आश्रय स्थल बनाए जा रहे हैं।

About Samar Saleel

Check Also

21 सितंबर से चलेगी सामान्य बहस….25 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र को संबोधित करेंगे PM मोदी

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अमेरिका की यात्रा के दौरान ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *