Breaking News

परिवारवाद के चलते अब तक कई बार टूटी है कांग्रेस, एक बार फिर से टूट के कगार पर!

दया शंकर चौधरी

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में कांग्रेस पार्टी पर जमकर हमला बोला। पीएम मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी जिसने करीब 6 दशकों तक शासन किया, उसका ये हाल हो गया है कि पार्टी का राज्यसभा तबका एक तरफ चलता है और लोकसभा का अलग। ऐसी डिवाइडेड पार्टी या कहें कंफ्यूज पार्टी न खुद का भला कर सकती है न देश का। राज्यसभा में जो तबका है वो उमंग के साथ चर्चा करता है। जबकि कांग्रेस का दूसरा तबका है जो महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा के दौरान लोकसभा से वॉकआउट कर जाता है।

राष्ट्रीय स्तर पर इन दिनों यदि देखा जाये तो पीएम मोदी की ये दलील कहीं न कहीं सच साबित हो रही है। मोदी ने कई बार कांग्रेस को एक परिवार की पार्टी बताते हुए कांग्रेस मुक्त भारत का नारा दिया है। ऐसा लगता है कि मोदी का ये नारा अब सच साबित हो रहा है। कांग्रेस की नीति और नियत का आलम ये है की तमाम वरिष्ठ कांग्रेसियों का एक तबका देश की सबसे पुरानी पार्टी के अस्तित्व को बचाये रखने के लिए पार्टी हाई कमान को नशीहतें दे रहा है। बावजूद इसके पार्टी नेतृत्व इस ओर कोई ध्यान न देते हुए अपने पुराने पैटर्न पर ही कायम है।

कांग्रेस के इतिहास को यदि देखा जाए तो भारत के प्रमुख राजनीतिक दलों में शुमार कांग्रेस का गठन 28 दिसंबर 1885 को हुआ था। इसकी स्थापना अंग्रेज एओ ह्यूम (थियिसोफिकल सोसाइटी के प्रमुख सदस्य) ने की थी। दादा भाई नौरोजी और दिनशा वाचा भी इसके संस्थापकों में शामिल थे। संगठन का पहला अध्यक्ष व्योमेश चंद्र बनर्जी को बनाया गया था। उस समय कांग्रेस के गठन का मुख्‍य उद्देश्य भारत की आजादी था, लेकिन स्वतंत्रता के पश्चात यह भारत की प्रमुख राजनीतिक पार्टी बन गई। हालांकि यह बात और है कि आजादी के बाद महात्मा गांधी ने कहा था कि कांग्रेस के गठन का उद्देश्य पूरा हो चुका है, अत: इसे खत्म कर देना चाहिए।

एक बार फिर संकट में है देश की 135 साल पुरानी पार्टी

कांग्रेस एक बार फिर संकट के दौर से गुजर रही है। गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल जैसे नेता पार्टी की नीतियों और नेतृत्व को लेकर मुखर हो रहे हैं। यूं तो कांग्रेस कई बार टूटी है, फिर से खड़ी भी हुई है। एक बार फिर ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस टूट सकती है। वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में देखें तो कांग्रेस अब तक के सबसे खराब दौर से गुजर रही है। सबसे आखिरी झटका कांग्रेस को दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिया था, जिनके एक फैसले से मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस चारों खाने चित हो गई। राजस्थान में भी मध्यप्रदेश को दोहराया जा रहा था, लेकिन वहां स्थिति संभल गई और सचिन पायलट जाते-जाते अन्तत: रुक गए। हालांकि कांग्रेस के लिए यह कोई नई बात नहीं थी। अपनी स्थापना के कुछ समय बाद से ही पार्टी में तोड़फोड़ का सिलसिला लगातार जारी है।

कांग्रेस से टूट कर बने 70 राजनीतिक दल

आजादी से पहले ही कांग्रेस दो बार टूट चुकी थी। 1923 में सीआर दास और मोतीलाल नेहरू ने स्वराज पार्टी का गठन किया था। 1939 में नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने सार्दुलसिंह और शील भद्र के साथ मिलकर अखिल भारतीय फॉरवर्ड ब्लॉक का निर्माण किया। आजादी के बाद कांग्रेस से टूटकर लगभग 70 दल बन चुके हैं। इनमें से कई खत्म हो चुके हैं, जबकि कुछ आज भी अस्तित्व में हैं। आजादी के बाद पहली कांग्रेस को 1951 में टूट का सामना करना पड़ा, जब जेबी कृपलानी ने अलग होकर किसान मजदूर प्रजा पार्टी बनाई और एनजी रंगा ने हैदराबाद स्टेट प्रजा पार्टी बनाई। सौराष्ट्र खेदुत संघ भी इसी साल बनी। 1956 में सी. राजगोपालाचारी ने अलग होकर इंडियन नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी बनाई। 1959 में बिहार, राजस्थान, गुजरात और ओडिशा में कांग्रेस टूट गई। यह सिलसिला लगातार जारी रहा और 1964 में केएम जॉर्ज ने केरल कांग्रेस बनाई। 1967 में चौधरी चरणसिंह ने कांग्रेस से अलग होकर भारतीय क्रांति दल बनाया। बाद में इन्होंने लोकदल के नाम से पार्टी बनाई। चौधरी चरण सिंह कुछ समय के लिए भारत के प्रधानमंत्री भी रहे।

कांग्रेस के चुनाव चिन्ह

मूल कांग्रेस का चुनाव चिह्न दो बैलों की जोड़ी था, लेकिन आंतरिक कलह के चलते 12 नवंबर, 1969 को कांग्रेस ने इंदिरा गांधी को पार्टी से बर्खास्त कर दिया। उस समय इंदिरा ने कांग्रेस (आर) नाम से एक नई पार्टी बनाई, जिसका चुनाव चिह्न गाय और बछड़ा था। बाद में इंदिरा गांधी की कांग्रेस (आर) कांग्रेस (आई) हो गई और कालांतर मे यही कांग्रेस आईएनसी यानी इंडियन नेशनल कांग्रेस हो गई।

इस तरह बना “पंजा” निशान: आपातकाल के बाद 1977 में हुए लोकसभा के चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस में मायूसी छाई हुई थी। हार के बाद आत्ममंथन में जुटी कांग्रेस के किसी नेता ने इंदिरा गांधी को सिद्ध संत देवरहा बाबा के दर्शन करने की सलाह दी थी। श्रीमती गांधी देवरहा बाबा के दर्शन के लिए यूपी में देवरिया से 40 किलोमीटर दूर उनके आश्रम पर पहुंची। बाबा ने इंदिरा गांधी को दर्शन के बाद हाथ उठाते हुए आशीर्वाद दिया था और कहा कि यही हाथ तुम्हारा भला करेगा। कहा जाता है कि वहां से वापस आने के बाद कांग्रेस ने चुनाव आयोग से चुनाव निशान गाय-बछड़ा के स्थान पर हाथ का पंजा आवंटित करने की मांग की और यह चुनाव चिन्ह (पंजा) आज तक चल रहा है।

1984 में श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए चुनाव में कांग्रेस ने विपक्ष का लगभग सूपड़ा साफ कर दिया था। एकतरफा बहुमत के साथ राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने थे।लेकिन उनकी ही सरकार में रक्षामंत्री रहे वीपी सिंह ने बगावत का झंडा बुलंद किया और कांग्रेस को 1998 में सत्ता से बाहर होना पड़ा। वीपी सिंह ने कांग्रेस से बाहर होकर जनमोर्चा नाम से नया दल बनाया और बोफोर्स मुद्दे के चलते वे भाजपा और वामपंथी दलों की बैसाखी के सहारे प्रधानमंत्री बने। बाद में इसी जनमोर्चा से टूटकर जनता दल, जनता दल (यू), राजद, जद (एस), सपा आदि दल बने।

उत्तर से दक्षिण और पूर्व से लेकर पश्चिम तक पार्टी से टूटने वाले नेताओं और उनके द्वारा बनाई गई पार्टियों की फेहरिस्त काफी लंबी है। कुछ पार्टियां काल के गाल में समा गईं, वहीं कुछ का अस्तित्व आज भी बरकरार है। इनमें पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस आंध्रप्रदेश में वायएसआर कांग्रेस, महाराष्ट्र में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (शरद पवार) छत्तीसगढ़ में स्व. अजीत जोगी की जनता कांग्रेस बीजू जनता दल (बीजू पटनायक पहले कांग्रेस में थे फिर जनता दल में शामिल हुए बाद में ओडिशा में बीजद नाम से नया दल बना। वर्तमान में बीजू पटनायक के बेटे नवीन पटनायक राज्य के मुख्‍यमंत्री हैं।), चौधरी चरणसिंह का लोकदल, जो कि राष्ट्रीय लोकदल के नाम से जिंदा है। और भी छोटे-मोटे दल हैं जिनका असर नहीं के बराबर है।

कौनसे नेता निकले: कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाने वाले नेताओं की सूची भी काफी लंबी है, लेकिन इनमें से कुछ देर-सबेर कांग्रेस में ही लौट आए, कुछ ने अपना अलग वजूद कायम किया। प्रणब मुखर्जी, अर्जुन सिंह, माधव राव सिंधिया, नारायणदत्त तिवारी, पी. चिदंबरम, तारिक अनवर ऐसे कुछ प्रमुख नाम हैं, जो कांग्रेस पार्टी छोड़कर तो गए लेकिन बाहर अपेक्षा के अनुरूप सफल नहीं हो पाए और फिर कांग्रेस में ही लौट आए। इसके उलट ममता बनर्जी, शरद पवार, जगन मोहन रेड्‍डी, मुफ्ती मोहम्मद सईद ऐसे नेताओं में शुमार हैं, जिन्होंने कांग्रेस से बाहर जाकर अपना अलग वजूद कायम किया। ममता बनर्जी (टीएमसी) पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री हैं, जगन मोहन रेड्‍डी (वायएसआर कांग्रेस) आंध्रप्रदेश के मुख्‍यमंत्री हैं, वहीं शरद पवार की पार्टी महाराष्ट्र की ‍शिवसेना नीत सरकार में शामिल है। सईद भी कश्मीर के मुख्यमंत्री बने, बाद में उनकी बेटी महबूबा भी मुख्‍यमंत्री बनीं। छत्तीसगढ़ के पहले मुख्‍यमंत्री रहे स्व. अजीत जोगी का नाम भी ऐसे ही नेताओं में शुमार है, लेकिन वे कांग्रेस से अलग होकर कुछ खास नहीं कर पाए। आज भी जोगी की पार्टी अस्तित्व में है और उनके निधन के बाद उनकी पत्नी रेणु जोगी और बेटा अमित जोगी पार्टी को चला रहे हैं।

सर्वाधिक समय सत्ता में रहने का रिकॉर्ड: आजादी के बाद से लेकर 2014 तक 16 आम चुनावों में से कांग्रेस ने 6 में पूर्ण बहुमत हासिल किया, जबकि 4 बार सत्तारुढ़ गठबंधन का नेतृत्व किया। कांग्रेस भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में सर्वाधिक समय (करीब 55 वर्ष) तक सत्ता में रही। पहले चुनाव में कांग्रेस ने 364 सीटें जीतकर प्रचंड बहुमत प्राप्त किया था, लेकिन 16वीं लोकसभा में यही पार्टी 44 सीटों पर सिमट गई, जबकि 17वीं लोकसभा में स्थिति में मामूली सुधार हुआ और यह संख्या बढ़कर 51 तक पहुंच गई। इस चुनाव में तो कांग्रेस के लिए सबसे बड़ा झटका अमेठी में लगा, जहां राहुल गांधी भाजपा की स्मृति ईरानी के खिलाफ चुनाव हार गए। सोनिया गांधी द्वारा अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद राहुल गांधी कुछ समय तक पार्टी के अध्यक्ष रहे, लेकिन उन्हें अपेक्षित सफलता नहीं मिली और उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। फिलहाल सोनिया गांधी ही पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष हैं। इनसे पहले पंडित जवाहर नेहरू, कामराज, नीलम संजीव रेड्‍डी, इंदिरा गांधी, पीवी नरसिंहराव, सीताराम केसरी, राजीव गांधी आदि दिग्गज नेता अध्यक्ष रह चुके हैं।

देश को दिए 7 प्रधानमंत्री: इस पार्टी को देश में 7 प्रधानमंत्री देने का श्रेय जाता है। इनमें पंडित नेहरू, गुलजारीलाल नंदा (कार्यवाहक प्रधानमंत्री), लालबहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, पीवी नरसिंहराव और मनमोहन सिंह हैं। मनमोहन सिंह ने 2004 से 2014 तक कांग्रेस नीत यूपीए की गठबंधन सरकार का नेतृत्व किया था। कांग्रेस पार्टी के दामन पर 1975 में देश में आपातकाल लगाने का दाग भी लग चुका है। उस समय प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी थीं।

भले ही नरेन्द्र मोदी कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हों, लेकिन कांग्रेस के इतिहास पर बारीकी से नजर डालें तो यह पार्टी कई बार टूटी है, लेकिन उतनी मजबूती से खड़ी भी हुई है। फिलहाल कांग्रेस के सामने नेतृत्व का भी संकट है। इसी को लेकर बार-बार सवाल भी उठ रहे हैं। लेकिन, ऐसी उम्मीद है कि कांग्रेस इस संकट से भी उबर जाएगी। भारतीय लोकतंत्र के लिए भी यह आवश्यक है कि कांग्रेस का अस्तित्व बना रहे। कांग्रेस पार्टी के जी -23 नेताओं का समूह अब देशव्यापी “सेव द आइडिया ऑफ इंडिया” कैंपेन लॉन्च कर रहा है। इसके लिए रैलियों और जनसभा की शुरुआत जम्मू से कर दी गई है, जहां पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने सभी को आमंत्रित किया है। गुलाम नबी आजाद भी कांग्रेस के जी -23 में शामिल हैं। पिछले साल अगस्त में 23 कांग्रेस नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर सक्रिय नेतृत्व और व्यापक संगठनात्मक बदलाव की मांग की थी।

2014 के लोकसभा चुनाव के बाद कुछ एक राज्यों को छोड़ दें, तो पूरे देश में कांग्रेस अपना जनाधार खोती चली गई। कांग्रेस में शीर्ष नेतृत्व में बदलाव को लेकर सुगबुगाहट तेज हुई तो राहुल गांधी ने कुछ समय के लिए पार्टी की कमान संभाल ली। मगर 2019 के लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस का अध्यक्ष पद छोड़ दिया। सोनिया गांधी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बन गईं। इसके बाद कई और राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी हार झेलनी पड़ी।

अगस्त के महीने में नेताओं ने लिखी चिट्ठी: चुनावों में कांग्रेस के लगातार खराब प्रदर्शन से पार्टी के भीतर संगठनात्मक बदलाव की मांग तेज होने लगी। इसी बीच कांग्रेस के शीर्ष 23 नेताओं ने पिछले साल अगस्त के महीने में चिट्ठी लिखकर हंगामा खड़ा कर दिया। चिट्ठी लिखने वाले इन्हीं नेताओं को ग्रुप-23 (जी-23) कहा गया। जी-23 के नेताओं द्वारा लिखी गई चिट्ठी को कांग्रेस के कई नेताओं ने पार्टी नेतृत्व और खासकर गांधी परिवार को चुनौती दिए जाने के तौर पर लिया था।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए एक और राहत पैकेज ला सकती है सरकार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें कोरोना की दूसरी लहर से मचे हाहाकार के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *