Breaking News

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना से कहा तैयार रहो, सीमा पर सब ठीक?

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को वरिष्ठ सैन्य कमांडरों से कहा कि उन्हें किसी भी आकस्मिक स्थिति में कार्रवाई के लिए तैयार करना चाहिए। यह तैयारी उच्च स्तर पर होनी चाहिए। रक्षा मंत्री ने सैन्य कमांडर सम्मेलन में सुरक्षा और राष्ट्रीय संप्रभुता सुनिश्चित करने के लिए सेना की सराहना की। उन्होंने कहा, उन्हें भारतीय सेना और उसके नेतृत्व पर पूरा भरोसा है। हमें परिचालन आकस्मिकताओं के लिए तैयार रहना चाहिए।

ताइवान से चल रहे तनाव के बीच चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपनी सेना को देश की राष्ट्रीय सुरक्षा के सामने अस्थिरता का खतरा बढ़ने की बात कहते हुए युद्ध लड़ने, जीतने के लिए तैयारी रहने और क्षमता बढ़ाने का आदेश दिया। हालांकि जिनपिंग ने संबोधन में किसी देश विशेष का नाम लेने से परहेज किया।

ऑस्ट्रेलिया की एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, शी जिनपिंग मंगलवार को बीजिंग में एक केंद्रीय सैन्य आयोग के संयुक्त अभियान कमान सेंटर का दौरा करने गए थे। इस दौरान उन्होंने सैनिकों से मुलाकात भी की और ताइवान व अन्य देशों के साथ बढ़ते तनाव को देखते हुए सेना को आदेश दिया कि युद्ध की स्थिति कभी भी बन सकती है इसलिए सेना को चौबीस घंटे युद्ध के लिए तैयार रहना है। जिनपिंग ने कहा कि वो किसी भी युद्ध की तैयारी को व्यापक रूप से मजबूत करेंगे।

बीस लाख से अधिक जवानों और अधिकारियों वाली दुनिया की सबसे बड़ी सेना को अपने नए कार्यकाल के पहले पहले संबोधन में जिनपिंग ने कहा कि दुनिया ऐसे बदलावों से गुजर रही है जो पिछली एक सदी में नहीं देखे गए। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा बढ़ती अस्थिरता एवं अनिश्चितता के खतरे का सामना कर रही है और सेना के सामने कठिन कार्य है। जिनपिंग का यह बयान संसाधन संपन्न हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की आक्रामक सैन्य गतिविधियों को लेकर बढ़ती अंतरराष्ट्रीय चिंता के बीच आया है। उधर, चीन और भारत की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में लंबे समय से गतिरोध जारी है।

रक्षा मंत्री ने अपनी सीमाओं की रक्षा करने और #आतंकवाद से लड़ने के अलावा नागरिक प्रशासन को मदद देने में सेना की भूमिका को सराहा। उन्होंने प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों समेत नागरिक उद्योगों के सहयोग से विशिष्ट प्रौद्योगिकियों को विकसित करने में सेना के प्रयासों और आत्मनिर्भरता की दिशा में प्रगति की भी सराहना की। सैन्य कमांडर सम्मेलन 11 नवंबर तक चलेगा। इस दौरान सेना का शीर्ष नेतृत्व मौजूदा सुरक्षा परिदृश्य और वर्तमान सुरक्षा तंत्र के लिए चुनौतियों के पहलुओं पर विचार-विमर्श करेगा।

About News Room lko

Check Also

दूसरे और अंतिम चरण की वोटिंग आज , पीएम मोदी-अमित शाह भी डालेंगे वोट

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें इस चरण में राज्य की 14 जिलों की ...