कमजोर इम्यूनिटी वाले और बीमार व्यक्ति न लें कोवैक्सीन, भारत बायोटेक ने जारी की फैक्टशीट

भारत बायोटेक के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर कृष्णा एल्ला ने कहा है कि कोवैक्सीन 200 प्रतिशत सुरक्षित है, हमें वैक्सीन बनाने का अच्छा अनुभव है और हम विज्ञान को गंभीरता से लेते हैं. साइड इफेक्ट को लेकर कंपनी ने कहा कि अगर कोई इम्यूनो कॉम्प्रोमाइज्ड हैं या किसी को पहले से कोई बीमारी है और दवा चल रही है, तो ऐसे लोग फिलहाल कोवैक्सीन न लें. भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन की डिटेल फैक्टशीट में इसकी जानकारी दी है.

इसके पहले सरकार की तरफ से कहा गया था ऐसे मरीज जो इम्यूनो सप्रेससेंट हैं या फिर इम्यून डेफिशिएंसी का शिकार हैं, वो भी वैक्सीन ले सकते हैं. हालांकि, ट्रायल में ऐसे लोगों पर वैक्सीन का असर अपेक्षाकृत कम देखा गया है. आमतौर पर कीमोथेरेपी करा रहे कैंसर के मरीज, एचआईवी पॉजिटिव लोग और स्टेरॉयर्ड लेने वाले लोग इम्यूनो-सप्रेस्ड होते हैं. यानी इनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है.

भारत बायोटेक ने ये भी कहा कि ऐसे लोग जिन्हें खून से जुड़ी बीमारी है या ब्लड थीनर्स के शिकार हैं, वो भी कोवैक्सीन की खुराक न लें. वहीं, जो फिलहाल बीमार हैं, कुछ दिनों से बुखार है या कोई एलर्जी है, उन्हें भी कोवैक्सीन की डोज नहीं लेनी चाहिए. प्रेग्नेंट महिलाओं और ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली मांओं को सरकार ने पहले से ही वैक्सीनेशन से बाहर रखा है.

Loading...

भारत बायोटेक ने अपनी फैक्टशीट में ये भी सुझाव दिया कि अगर कोवैक्सीन की खुराक लेने के बाद किसी में कोविड-19 से संक्रमित होने के लक्षण दिखते हैं, तो आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना होगा. इसके रिजल्ट को ही सबूत माना जाएगा. भारत बायोटेक ने कहा कि ये सुझाव रक्षात्मक तौर पर दिए गए हैं. कंपनी ने कहा कि अगर वैक्सीनेशन के बाद किसी को कोविड के लक्षण दिखते भी हैं, तो वो बेहद हल्के लक्षण हो सकते हैं. कोवैक्सीन से कोई एलर्जी हो सकती है, इसकी भी बहुत कम संभावना है. ऐसा बहुत रेयर केस में ही हो सकता है.

भारत बायोटेक ने कहा है कि वैक्सीन की खुराक लगने का मतलब यह नहीं है कि इसके बाद कोविड-19 से बचाव के लिए निर्धारित अन्य मानकों का पालन करना बंद कर दिया जाए. वैक्सीन प्राप्तकर्ताओं को एक फैक्टशीट और फॉर्म दिया गया है, जिसे पीडि़त को प्रतिकूल प्रभावों के सामने आने के सात दिन के अंदर जमा करना होगा.

Loading...

About Aditya Jaiswal

Check Also

पुष्पक विमान प्रेरणा का व्यापक विकास

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें पुष्पक विमान प्राचीन भारत के ज्ञान विज्ञान का ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *