Breaking News

जेल में बंद भाईयों से मिलने आई बहनों के लिए बैठने की रही उत्तम व्यवस्था : धर्मवीर प्रजापति

• प्रदेश की विभिन्न जेलों में 80973 महिलाओं ने पहुंचकर राखी बांधी

• गत् वर्ष की तुलना में इस वर्ष 10 हजार से अधिक महिलाओं ने राखी बांधी

• गाजियाबाद की जेल में सबसे अधिक संख्या में बहनों ने राखी बांधी

लखनऊ। मुख्यमंत्री की प्रेरणा से गत् वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रदेश के विभिन्न जेलों में निरूद्ध बंदियों को राखी बांधने की समुचित व्यवस्था किये जाने के निर्देश दिये गये थे। प्रदेश की विभिन्न जेलों में रह रहे बंदियों को उनकी बहनों ने जेलों में पहुंचकर राखी बाधी। इस वर्ष 80973 महिलाओं व बहनों ने प्रदेश के विभिन्न जेलों में जाकर राखी बांधी। जबकि गत् वर्ष 70 हजार 448 महिलाओं ने राखी बॉधी थी। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष बंदियों की संख्या कम होने के बावजूद भी 10 हजार 5 सौ से अधिक महिलाओं ने राखी बांधी।

जेल में बंद भाईयों से मिलने आई बहनों के लिए बैठने की रही उत्तम व्यवस्था : धर्मवीर प्रजापति

यह जानकारी देते हुए कारागार एवं होमगॉर्डस राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मवीर प्रजापति ने बताया कि रक्षाबंधन पर्व पर 31 अगस्त, 2023 को वे स्वयं आगरा की जिला जेल एवं सेन्ट्रल जेल पहुंचकर महिलाओं के लिए जेल प्रशासन द्वारा दी गयी व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया और आई हुई महिलाओं एवं उनके परिजनों से हालचाल लिया। इस दौरान बहन-भाई के बीच प्यार व भावुक पल को देखकर वे स्वयं भी भावुक हो गये। ग्यातब्य हो 29 अगस्त को लखनऊ स्थित नारी बंदी निकेतन की महिलाओं ने श्री प्रजापति को राखी बाँधी थी।

जेल में बंद भाईयों से मिलने आई बहनों के लिए बैठने की रही उत्तम व्यवस्था : धर्मवीर प्रजापति

राखी बांधने वाली बहनों को कारागार मंत्री ने अपनी तरफ से 16500 रुपए दिए। इस प्रकार रक्षाबंधन पर बहन को उपहार दिए जाने की परंपरा का उन्होंने निर्वहन किया। श्री प्रजापति ने बताया कि प्रदेश की बहुत सी ऐसी जेले रही, जहॉ पर बड़ी तादात में महिलायें अपने भाईयों को राखी बांधने आई।

👉पटना AIIMS के डॉक्टर ने की आत्महत्या, तोडना पड़ा दरवाजा

गाजियाबाद में सबसे अधिक 4435 महिलाओं ने राखी बाधी। जबकि लखनऊ में 3991, मथुरा में 3741, फिरोजाबाद में 3336, नोएडा में 2810, आगरा में 2501 एवं सेन्ट्रल जेल आगरा में 639,कानपुर नगर 2225 ,अलीगढ़ 2022, महिलाओं ने अपने भाईयों को राखी बांधने आई। इसी प्रकार बहुत सी जेले ऐसी रही जहाँ 1000 से अधिक की संख्या में बहनें राखी बांधने आयीं।

जेल में बंद भाईयों से मिलने आई बहनों के लिए बैठने की रही उत्तम व्यवस्था : धर्मवीर प्रजापति

श्री प्रजापति ने बताया कि रक्षाबंधन के दिन यूपी की सभी जेलों में भाई बहन के पर्व को देखते हुए कैदियों से मिलने आई बहनों के लिए बेहतर व्यवस्था की गई थी। इस त्यौहार के दृष्टिगत जेलों में मिलने आने वाले लोगों के लिए पीने की पानी की व्यवस्था और मिलने आए परिवार के लिए बैठने की उत्तम व्यवस्था की गई थी।

👉मुख्यमंत्री योगी बोले, चंद्रमा के साथ अब सूर्य भी बनेगा ‘आत्मनिर्भर भारत’ की शक्ति का साक्षी

उन्होंने कहा कि जो भी लोग आए उन्हें कहीं भी किसी प्रकार की कोई दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ा। उन्होंने कहा कि राखी का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। रक्षाबंधन के इस पावन पर्व पर प्रदेश के जेलों में रह रहे बंदियों के मध्य भी हर्षोल्लास का माहौल रहा। बहनों ने अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर उनके स्वास्थ्य और सफल जीवन की कामना की।

About Samar Saleel

Check Also

आंधी-तूफान के साथ भारी बारिश के आसार, IMD ने बताया अगले 5 दिनों के मौसम का हाल…

पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा तट के आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ ...