Breaking News

चार साल की हुई आयुष्मान योजना, गरीब मरीजों को मिला लाभ

आयुष्मान योजना गरीबों के लिए वरदान : जिला अध्यक्ष

आयुष्मान भारत दिवस पर लाभार्थियों ने साझा किये अनुभव

औरैया। प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना ने 23 सितंबर को चार साल का सफर तय कर लिया। इस दौरान योजना कमजोर वर्ग के लिए संजीवनी साबित हुई। योजना के सफलता पूर्वक चार साल पूरे होने पर शुक्रवार 23 सितंबर को जिला मुख्यालय ककोर के कलक्ट्रेट सभागार में आयुष्मान दिवस पर विशेष समारोह हुआ। समारोह में मुख्य अतिथि जिला अध्यक्ष श्रीराम मिश्रा, विशिष्ट अतिथि उप जिला अध्यक्ष चन्द्रकान्ति , को जिलाधिकारी प्रकाश चंद्र श्रीवास्तव व अपर जिलाधिकारी रेखा चौहान द्वारा पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया गया। इसके बाद योजना समन्वयक द्वारा आयुष्मान योजना की चार साल की प्रगति पर पीपीटी के माध्यम से प्रस्तुतीकरण दिखाया गया।

समारोह में योजना के चार साल होने पर योजना में सूचीबद्ध पात्र लाभार्थियों को आयुष्मान कार्ड वितरित किए गये। इसके साथ ही जिलाधिकारी द्वारा योजना में उपचारित मरीजों से उपचार संबंधित फीडबैक भी लिया गया। समारोह में राजकीय चिकित्सकालयों में जिला संयुक्त चिकित्सालय और निजी चिकित्सकालयों में नयन ज्योति आई केयर सेण्टर को सबसे अधिक मरीजों के उपचार करने के लिए प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया जाएगा। इसके साथ ही कुल आयुष्मान योजना से मुफ्त इलाज प्राप्त कर चुके पांच लाभार्थियों ने अपने अपने अनुभव भी साझा किया।

इस मौके पर मुख्य अतिथि जिला अध्यक्ष श्रीराम मिश्रा ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना परिवारों के लिए वरदान साबित हो रही है। इसमें शामिल लाभार्थी का पांच लाख रुपये तक का इलाज मुफ्त होता है। लाभार्थी जिम्मेदारी से अपना आयुष्मान कार्ड बनवा लें, जिससे इस योजना का लाभ उन्हें मिल सके।

समारोह में लाभार्थी श्याम नारायण श्रीवास्तव ने जब बताया की आयुष्मान योजना के तहत उनका कैसे बिना पैसे खर्च किये पूरा निःशुल्क ह्रदय रोग का इलाज कानपुर में हुआ तभी जिलाधिकारी ने कहा की भगवान न करे किसी के घर बीमारी आए। उन्होंने जनपदवासियों से अपील किया कि जैसे श्याम नारायण जी ने अपना मुफ्त इलाज करवाया वैसे ही जो परिवार आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के लिए पात्र हैं वह नजदीकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, जिला अस्पताल और कॉमन सर्विस सेंटर में जाकर अपना कार्ड बनवा लें, जिससे बीमार होने की स्थिति में शीघ्र एक वर्ष में 5 लाख रुपए का इलाज मिल सके।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अर्चना श्रीवास्तव ने बताया कि शुरुआत में जिले के एक ही अस्पताल को योजना के अंतर्गत लाभार्थी मरीजों के इलाज के लिए पंजीकृत किया गया था। धीरे धीरे जनपद के महत्वपूर्ण अस्पताल भी इस योजना से जुड़कर लाभार्थियों को निशुल्क उपचार की सुविधा दे रहे हैं। वर्तमान में जनपद के 12 अस्पताल इस योजना में पंजीकृत हैं। आज चार वर्ष बीतने के बाद कुल 1.53 लाख लाभार्थियों और 77874 परिवारों को योजना से आच्छादित कर दिया गया है। जिसमें से 9892 मरीजों को निशुल्क उपचार की सुविधा दी गई है।

कार्यक्रम में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व योजना के नोडल डॉ वीरेंद्र भारती, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ शिशिर पुरी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वीपी शाक्य, डॉ राकेश सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला सूचना अधिकारी, जिला सांख्यिकी अधिकारी, जिला श्रम परिवर्तन अधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधन इकाई के सदस्य, आयुष्मान योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ ज्योतिन्द्र मिश्रा, जन सेवा केंद्रों प्रबंधक व जिला क्रियान्वयन इकाई के सदस्य दिलीप और विपिन कुमार सहित योजना से जुड़े लाभार्थी व अन्य लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्ट-शिव प्रताप सिंह सेंगर 

About Samar Saleel

Check Also

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई पीपीपी मोड पर बायो-सीएनजी प्लाण्ट स्थापित किये जाने संबंधी ‘कमेटी ऑफ सेक्रेटरीज’ की बैठक

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ...