Breaking News

Coconut : कल है रविपुष्य नक्षत्र, जानें एकाक्षी नारियल का अचूक उपाय

कल रविवार 20 मई 2018 को रवि-पुष्य नक्षत्र का शुभ संयोग बन रहा है। पुष्य नक्षत्र जब रविवार के दिन होता है तब इसे रवि-पुष्य संयोग के नाम से जाना जाता है। रवि-पुष्य सभी कार्यों के लिए शुभ व श्रेष्ठ मुहूर्त होता है। इस वर्ष केवल 3 रवि-पुष्य के संयोग बन रहे हैं। इस दिन एकाक्षी नारियल Coconut की पूजा करना अति शुभ होता है।

रवि पुष्य नक्षत्र में फलदायी है एकाक्षी Coconut

रवि पुष्य के दिन एकाक्षी नारियल Coconut का प्रयोग अधिकांश रूप से तंत्र प्रयोगों में किया जाता है। बता दें एकाक्षी नारियल में ऊपर की तरफ आँख के सामान एक चिन्ह होता है। इसे कुबेर स्थान या धन स्थान पर रखने पर शुभ फल प्राप्त होते हैं। कहा जाता है कि रवि पुष्य के दिन यदि एकाक्षी नारियल को विधि-विधान से घर में स्थापित कर लिया जाए तो घर में कभी पैसों की कमी नहीं रहती है।

आइए जानें एकाक्षी नारियल के टोटके और मंत्र –

  • सबसे पहले स्नान कर शुद्ध वस्त्र धारण करें।
  • रविपुष्य नक्षत्र के दिन शुभ मुहूर्त में अपने सामने थाली में चंदन या कुमकुम से अष्ट दल बनाकर उस पर इस नारियल को रख दें और अगरबत्ती व दीपक लगा दें।
  • शुद्ध जल से स्नान कराकर इस नारियल पर पुष्प, चावल, फल, प्रसाद आदि रखें।
  • लाल रेशमी वस्त्र ओढ़ाएं। इसके बाद आधा मीटर लंबा रेशमी वस्त्र बिछाकर उस पर केसर से यह मंत्र लिखें –

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं महालक्ष्मीं स्वरूपाय एकाक्षिनालिकेराय नम: सर्वसिद्धि कुरु कुरु स्वाहा

Loading...
  • इस रेशमी वस्त्र पर नारियल को रख दें और यह मंत्र पढ़ते हुए उस पर 108 गुलाब की पंखुडियां चढ़ाएं। हर पखुंड़ी चढ़ाते समय इस मंत्र का उच्चारण करते रहें-

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं एकाक्षिनालिकेराय नम:।

  • इसके बाद गुलाब की पंखुडियां हटाकर उस रेशमी वस्त्र में नारियल को लपेटकर थाली में चावलों की ढेरी पर रख दें और इस मंत्र की 1 माला जपें-

 ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं ऐं एकाक्षाय श्रीफलाय भगवते विश्वरूपाय सर्वयोगेश्वराय त्रैलोक्यनाथाय सर्वकार्य प्रदाय नम:।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

भूल से भी दूसरों की इन 6 चीजों का उपयोग न करे अथवा आपको भी हो सकता है बड़ा नुकसान

दोस्तों हर मनुष्य की अपनी एक एनर्जी होती हैं. वही यह एनर्जी हमारे आस पास ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *