Breaking News

….सीधे आत्मा से बातें करती हैं पंकज उधास की गजलें

गजल सम्राट पंकज उधास (Pankaj Udhas) सोमवार 26 फरवरी 2024 को 72 वर्ष की उम्र में अपने चाहने वालों को उदास कर दुनिया को अलविदा कह गये। पंकज जी को पेनक्रियाज कैंसर था। उनकी बेटी नायाब उधास ने फोन पर यह सूचना दी। उनके परिवार में पत्नी फरीदा और दो बेटियां रेवा और नायाब हैं। उनका अंतिम संस्कार आज मुंबई में होगा।

👉कहीं आपको भी तो नहीं है एलर्जी की समस्या? बार-बार होती हैं ये दिक्कतें तो हो जाइए अलर्ट

पंकज उधास भारतीय संगीत के एक ऐसे प्रकाश स्तंभ थे, जिन्होने अपनी आवाज ने हर पीढ़ी के लोगों को मंत्रमुग्ध किया था। उनके गायन ने भावनाओं को व्यक्त किया और उनकी गजलें सीधे आत्मा से बात करती थी।

....सीधे आत्मा से बातें करती हैं पंकज उधास की गजलें

“चांदी जैसा रंग है तेरा, सोने जैसे बाल”, गाने के साथ उन्होंने गायकी की दुनिया में कदम रखा था। पंकज उधास का पहला गाना फिल्म “कामना” में था, जो उषा खन्ना द्वारा संगीतबद्ध और नक्श लायलपुरी द्वारा लिखा गया था।

👉10,000 से ज्यादा लोगों का BJD के टिकट के लिए आवेदन, पार्टी नेता का दावा- नवीन पटनायक फिर होंगे सीएम

उनका पहला गजल एल्बम “आहट” सन् 1980 में रीलिज हुआ था। मुख्य तौर पर गजल गायक पंकज ने नाम, साजन, मोहरा, ये दिल्लगी, फिर तेरी कहानी याद आई, तेरे बिन सहित कई फिल्मों में पार्श्व गायक के रूप में अपनी बड़ी पहचान बनाई। सन् 2003 में उन्हे “संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार” और साल 2006 में उन्हें “पद्मश्री” से नवाजा गया था।@शाश्वत तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

सीएमएस अशरफाबाद कैम्पस द्वारा ‘ओपेन डे समारोह’ का भव्य आयोजन

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल अशरफाबाद कैम्पस द्वारा विद्यालय प्रांगण में आयोजित ‘ओपेन डे एवं पैरेन्ट्स ओरिएन्टेशन ...