Breaking News

रेलवे ने जारी किया दिव्यांगजनों हेतु ऑनलाइन पोर्टल से रियायती प्रमाण पत्र प्राप्त करने की सुविधा

  • दिव्यांगजन अब घर बैठे प्राप्त कर सकेंगें रियायती प्रमाण पत्र

लखनऊ। दिव्यांग जनों के रियायती प्रमाण पत्र हेतु रेलवे ने एक पोर्टल तैयार किया गया है जिसके द्वारा दिव्यांग जनों को रियायती प्रमाण पत्र बनवाने की विशेष सहायता प्रदान की जा रही है तथा इस पोर्टल की सहायता से दिव्यांग जन ऑन लाइन रियायती प्रमाण पत्र सम्बन्धी प्रक्रियाओं को घर बैठे पूर्ण करके अपना रेल रियायती प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते है तथा उनको इस कार्य हेतु मंडल कार्यालय आने की आवश्यकता नही होगी। ऑन लाइन की इस प्रक्रिया में सबसे पहले प्रार्थी को रेलवे की वेबसाइट http://divyangjanid.indianrail.gov.in पर लॉग इन कर स्वयं को रजिस्टर्ड करना होगा उसके बाद एक निर्धारित प्रक्रिया को अपना कर प्रार्थी अपना रियायती टिकट प्रमाण-पत्र जारी कर सकते है।

निर्धारित श्रेणियों में दिव्यांगजन यात्री फोटो पहचान पत्र जारी करने/नवीनीकरण के लिए आवेदन करने के पात्र हैं (आईआरसीटीसी/काउंटर पर रियायती रेल टिकट प्राप्त करने के लिए) निर्धारित मापदण्डों को पूरा करना अनिवार्य है।

स्कूल सुरक्षा बिल में निजी स्कूलों के सुझाव को शामिल करने का होगा प्रयास : विजय किरण आनंद

* पूर्णतया दृष्टिबाधित व्यक्ति (100% दृष्टिबाधित)
* मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति जो अनुरक्षक के बिना यात्रा नहीं कर सकता।
* पूरी तरह से सुनने और बोलने में अक्षम व्यक्ति (दोनों बीमारियां एक साथ एक ही व्यक्ति में)।
* आर्थोपेडिक रूप से विकलांग/पैराप्लेजिक व्यक्ति/मरीज जो एक एस्कॉर्ट की सहायता के बिना यात्रा नहीं कर सकते हैं।
* पहली बार आवेदकों को “न्यू यूजर” विकल्प का उपयोग करके साइन अप करना आवश्यक है।
* उपयोगकर्ता बनाते समय, यह आवश्यक है कि राज्य और निकटतम रेलवे स्टेशन (सर्टिफिकेट जारी करने वाले अस्पताल के निकटतम स्टेशन) को ठीक से चुना जाए ताकि मामले को आगे की प्रक्रिया के लिए सही मंडल को भेजा जा सके।
* यदि उपयोगकर्ता आधार का उपयोग करके स्वयं को प्रमाणित करना चुनता है, तो यह आवेदन के तेजी से प्रक्रिया को सुगम करने में मदद कर सकता है क्योंकि यात्री के मूल विवरण को आधार द्वारा ही प्रमाणित किया जाएगा और पते के प्रमाण के लिए कोई और दस्तावेज और सत्यापन नहीं होगा (यदि आधार पता वर्तमान पते के समान है) और जन्म तिथि प्रमाण की आवश्यकता नही होगी।
* आधार सत्यापन हालांकि गैर-अनिवार्य है और उपयोगकर्ता आधार आईडी प्रदान किए बिना भी पंजीकरण कर सकता है।
* आवेदक के पास एक वैध फोन नंबर होना चाहिए।
* उपयोगकर्ता के पंजीकृत हो जाने के बाद, आवेदक पंजीकृत मोबाइल नंबर का उपयोग करके लॉगिन कर सकता है और आवश्यक विवरण भर सकता है।
* कार्ड जारी होने के बाद कार्ड धारक का नाम, पिता का नाम, जन्म तिथि और लिंग जानकारी बदलने की अनुमति नहीं है।
* आवेदक को निम्नलिखित दस्तावेजों की स्कैन कॉपी के साथ तैयार रहना आवश्यक है (अनुमत प्रकार: पीडीएफ, जेपीईजी, जेपीजी, पीएनजी – अधिकतम आकार: प्रत्येक 600 केबी)।
* सरकारी डॉक्टर / सरकारी अस्पताल द्वारा जारी विकलांगता प्रमाण पत्र।
* . रेलवे रियायत प्रमाण पत्र (आवेदक होम पेज पर प्रदान किया गया टेम्पलेट)।
* पासपोर्ट साइज फोटो।
जन्म प्रमाण की तिथि 
* जन्म और मृत्यु रजिस्ट्रार या नगर निगम द्वारा जारी किया गया जन्म प्रमाण पत्र।
* अंतिम बार उपस्थित/मान्यता प्राप्त शैक्षिक बोर्ड द्वारा जारी स्थानांतरण/स्कूल छोड़ने/मैट्रिकुलेशन प्रमाणपत्र
* पासपोर्ट
* आधार कार्ड/डाउनलोड किया गया आधार (ई-आधार)
* वी. पैन कार्ड
* मतदाता पहचान पत्र
* लेटरहेड पर ग्रुप ए राजपत्रित अधिकारी या तहसीलदार द्वारा जारी जन्म तिथि का प्रमाण पत्र
* संगठन के आधिकारिक लेटरहेड पर अनाथालय/चाइल्ड केयर होम के प्रमुख द्वारा दी गई घोषणा
फोटो आईडी प्रमाण
* आधार कार्ड/डाउनलोड किया गया आधार (ई-आधार)
* पासपोर्ट
* आयकर विभाग द्वारा जारी पैन कार्ड
* भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी मतदाता पहचान पत्र
* आरटीओ द्वारा जारी ड्राइविंग लाइसेंस
* केंद्र/राज्य सरकार द्वारा जारी सीरियल नंबर वाला फोटो पहचान पत्र।
* राज्य / केंद्र सरकार, जिला प्रशासन, नगर निकायों और पंचायत प्रशासन के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा जारी क्रमांक वाले फोटो पहचान पत्र।
* अपने छात्रों के लिए मान्यता प्राप्त स्कूल/कॉलेज द्वारा जारी फोटो युक्त छात्र पहचान पत्र।
* चल रहे बैंक खाते की फोटो पासबुक (केवल अनुसूचित सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, अनुसूचित निजी क्षेत्र के भारतीय बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक)
• लैमिनेटेड फोटोग्राफ वाले बैंकों द्वारा जारी क्रेडिट कार्ड। राशन/पीडीएस फोटो कार्ड।
• लेटरहेड पर राजपत्रित अधिकारी या तहसीलदार द्वारा जारी फोटो वाला पहचान प्रमाण पत्र।
• जल विधेयक (3 महीने से अधिक पुराना नहीं)।
• टेलीफोन बिल (लैंडलाइन या पोस्ट पेड मोबाइल बिल- 3 महीने से अधिक पुराना नहीं)
• बिजली बिल (3 महीने से अधिक पुराना नहीं)
• संपत्ति कर रसीद (एक वर्ष से अधिक पुरानी नहीं)
• गैस कनेक्शन बिल (3 महीने से अधिक पुराना नहीं)
• आधार कार्ड/डाउनलोड किया गया आधार (ई-आधार)
• पति/पत्नी का पासपोर्ट/पासपोर्ट/माता-पिता का पासपोर्ट (नाबालिग के मामले में) (बशर्ते आवेदक का वर्तमान पता पति/पत्नी/माता-पिता में उल्लिखित पते से मेल खाता हो)
• आयकर विभाग द्वारा जारी पैन कार्ड
• भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी मतदाता पहचान पत्र
• आरटीओ द्वारा जारी ड्राइविंग लाइसेंस।
•चल रहे बैंक खाते की फोटो पासबुक (केवल अनुसूचित सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, अनुसूचित निजी क्षेत्र के भारतीय बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक)
क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट (3 महीने से अधिक पुराना नहीं)
• • डाकघर पासबुक / खाता विवरण
• राशन/पीडीएस फोटो कार्ड
• केंद्र/राज्य सरकार द्वारा जारी सीरियल नंबर वाला फोटो पहचान पत्र।
• राज्य / केंद्र सरकार, जिला ए के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा जारी किए गए सीरियल नंबर वाले फोटो पहचान पत्र
• मंत्रालयों, नगर निकायों और पंचायत प्रशासन।
• लेटरहेड पर बैंक से फोटो वाला हस्ताक्षरित पत्र/लेटरहेड पर पंजीकृत कंपनी के नियोक्ता द्वारा जारी हस्ताक्षरित पत्र/मान्यता प्राप्त शैक्षणिक संस्थान द्वारा जारी हस्ताक्षरित पत्र।
• आयकर निर्धारण आदेश
• पंजीकृत किराया समझौता।
• लेटरहेड पर राजपत्रित अधिकारी/तहसीलदार द्वारा जारी पते का प्रमाण पत्र।
• ग्राम पंचायत के मुखिया या उसके समकक्ष प्राधिकारी द्वारा जारी पते का प्रमाण पत्र।

रेलवे ने जारी किया दिव्यांगजनों हेतु ऑनलाइन पोर्टल से रियायती प्रमाण पत्र प्राप्त करने की सुविधा

• आवेदक को सभी दस्तावेजों की सेल्फ अटेस्टेड सॉफ्ट कॉपी अपलोड करनी होगी।
• रियायत प्रमाण पत्र पर उल्लिखित डॉक्टर का नाम, पंजीकरण संख्या और विकलांगता की प्रकृति स्पष्ट रूप से उल्लिखित होनी चाहिए और अपलोड किए गए रियायत प्रमाण पत्र में पठनीय होनी चाहिए।
• चिकित्सालय का विवरण भरते समय आवेदक को राज्य एवं चिकित्सालय शहर का सही फीडिंग सुनिश्चित करना होगा।
• विवरण भरने के बाद आवेदक आवेदन जमा कर सकता है। आवेदन की स्थिति आवेदक डैशबोर्ड पर दिखाई देगी।
• किसी भी विवरण के संपादन/सुधार की अनुमति नहीं है, इसलिए ऑनलाइन कार्ड आवेदन जमा करने से पहले, कृपया दर्ज की गई सभी सूचनाओं की सत्यता की जांच कर लें।
• यदि आवेदन पूर्ण रूप से नहीं भरा गया है तो आवेदक इसे ड्राफ्ट के रूप में सेव कर सकता है। हालांकि, इसे उपयोगकर्ता निर्माण के एक महीने के भीतर प्रस्तुत किया जाना चाहिए, अन्यथा उपयोगकर्ता विवरण हटा दिए जाएंगे और नए पंजीकरण की आवश्यकता होगी।
• ऑनलाइन आवेदन पत्र भरते समय आवेदक को यह ध्यान रखना होगा कि प्रविष्टियां उचित हों अन्यथा आवेदन निरस्त कर दिया जायेगा।
• यदि आवेदन अस्वीकृत हो जाता है (आवेदन की स्थिति में उल्लेखित अस्वीकृति का कारण), तो आवेदक को ऑनलाइन आवेदन या अपलोड किए गए दस्तावेजों में आवश्यक सुधार करने के बाद फिर से आवेदन करने की अनुमति दी जाती है।
• किसी भी शिकायत के लिए, उपयोगकर्ता अपनी शिकायत https://pgportal.gov.in/ पर दर्ज कर सकते हैं या उपयोगकर्ता प्रोफ़ाइल विकल्प (लॉगआउट बटन के अलावा) में उपलब्ध फीडबैक फॉर्म का उपयोग कर सकते हैं।
• कार्ड के अनुमोदन के बाद, आवेदक पंजीकृत मोबाइल नंबर के साथ लॉग इन करके कार्ड को देख और डाउनलोड कर सकता है और उत्पन्न कार्ड को प्रिंट कर सकता है।

उल्लेखनीय है की ऑनलाइन दिव्यांग कार्ड के आवेदन हेतु मेडिकल कार्ड की प्रति भी अपलोड करनी आवश्यक है इस प्रक्रिया को सरल बनाने हेतु प्रार्थी अपना मेडिकल कार्ड भारत सरकार के ऑनलाइन पोर्टल https://www.swavlambancard.gov.in पर आवेदन कर के भी प्राप्त कर सकते है। उत्तर रेलवे,लखनऊ मंडल के मंडलीय कार्यालय में ऑनलाइन दिव्यांगजनों के रियायती प्रमाण पत्र हेतु वर्तमान समय में कुल 5303 आवेदकों के ऑनलाइन आवेदन पत्र प्राप्त किये जा चुके हैं, जिनकी प्रक्रिया प्रगति पर है। इस सुविधा का लाभ उठाने वाले प्रत्येक दिव्यांग जन से अपेक्षा की जाती है कि आप सभी आवेदन करने से पूर्व समस्त निर्देशों को भलीभांति पढ़ें एवं उनका अनुपालन करते हुए आवश्यक प्रपत्र तैयार करके आवेदन की प्रक्रिया को अमल में लायें, ताकि रियायती प्रमाण पत्र निर्धारित समय पर बिना किसी अवरोध के जारी किये जा सकें।

रिपोर्ट-दया शंकर चौधरी

About Samar Saleel

Check Also

बुद्ध जयंती के कार्यक्रमों में दिखी भारत-नेपाल की साझा बौद्ध विरासत की झलक

काठमांडू। काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास ने बुद्ध जयंती के अवसर पर कई भव्य कार्यक्रम आयोजित ...