Breaking News

Birthday Special: जानें पीएम मोदी के 5 सीक्रेट्स…

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज आज 69वां बर्थडे मना रहे हैं। उम्र के इस पड़ाव को लोग आराम का दाैर बताते हैं लेकिन इस उम्र में भी पीएम मोदी एक युवा की तरह जोश से भरे दिखते हैं। पीएम मोदी इस उम्र में भी काफी एक्टिव रहते हैं। खास बात तो है कि उनकी कुछ बातें ऐसी हैं जो भीड़ से एकदम अलग होती हैं। वह उल्टी घड़ी पहनते हैं। आइए जानें बर्थडे पर उनकी लाइफ के कुछ सीक्रेट्स-

गुजरात के वडनगर में हुआ नरेंद्र मोदी का जन्म-
नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर, 1950 को गुजरात के मेहसाणा जिला स्थित वडनगर में हुआ। उनकी मां हीराबेन मोदी और पिता दामोदरदास थे। नरेंद्र मोदी अपने मां-बाप की छह संतानों में तीसरे नंबर के थे।

बचपन में पीएम नरेंद्र मोदी गुल्ली डंडा खेलते थे-
एक चायवाले से पीएम तक का सफर तय करने वाले नरेंद्र मोदी बचपन से ही काफी एक्टिव थे। पीएम ने खुद इस बात का खुलासा अपने इंटरव्यू में किया है। नरेंद्र मोदी बचपन में गुल्ली डंडा खेलने के साथ ही तालाबों में तैरने भी जाते थे।

पीएम लोगों के साथ रहना ज्यादा पसंद करते-
वहीं अधिकांश संघ की शाखाओं में बीतता था। जहां वह काफी कुछ सीखते थे। इसके अलावा पीएम अकेले की बजाय लोगों के साथ रहना ज्यादा पसंद करते थे। बचपन में योग से भी जुड़ गए थे।

Loading...

बचपन में क्लास रूम से चाॅक के टुकड़े लाते थे-
नरेंद्र मोदी ने काफी समय तक अपने कपड़े खुद धाेए हैं। वहीं बचपन में वह क्लास रूम से चाॅक के टुकड़े उठाकर लाते थे क्योंकि उन टुकड़ों को घर लाकर अपने सफेद जूतों पर रगड़ते थे। जिससे जूते हमेशा चमकते रहें।

पीएम मोदी अक्सर हाफ कुर्ते पहने दिखाई देते-
वहीं पीएम नरेंद्र मोदी अक्सर हाफ कुर्ते पहने दिखाई देते हैं। उनके हाफ कुर्ते पहनने के पीछे की लंबी बाहें हैं। पीएम का मानना है कि वह अगर लंबी बाहें रखेंगे तो ज्यादा धुलाई करनी पड़ेगी।

पीएम की नींद 3 से 4 घंटों में ही पूरी हो जाती-
पीएम नरेंद्र मोदी बेहद कम समय सोते हैं। पीएम की नींद 3 से 4 घंटों में ही पूरी हो जाती है। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी उल्टी घड़ी पहनना पसंद करते हैं। पीएम मोदी खुद उल्टी घड़ी पहनने के पीछे का राज भी बता चुके है।

तो इसलिए पीएम उल्टी घड़ी पहनना पसंद करते-
वह कहते हैं कि उन्हें बहुत सी मीटिंग करनी पड़ती और वक्त भी देखना पड़ता है। ऐसे में अगर मीटिंग में घड़ी की तरफ देखा जाए तो वहां माैजूद लोगों को लगता है कि वो जाने के लिए इशारा कर रहे हैं।

Loading...

About Jyoti Singh

Check Also

जिन्दगी की जद्दोजहद को दर्शाता है उपन्यास डिवाईडेड लाइफ

लखनऊ के रहने वाले एवं पेशे से अधिवक्ता वी.पी सुनील को लेखन का शौक छात्र ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *