Breaking News

शिवराज बने कृषि मंत्री; वरिष्ठों का कद बरकरार, आठ ग्राफिक्स में देखें किसे-क्या मिला

नई दिल्ली:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में नई सरकार की पहली कैबिनेट बैठक सोमवार शाम को हुई। इसके तुरंत बाद विभागों के बंटवारे का एलान हो गया। सबसे पहले बात करते हैं सीसीएस यानी केंद्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा संबंधी समिति में शामिल रहने वाले मंत्रियों की। इनमें चार मंत्रालय होते हैं- गृह, रक्षा, वित्त और विदेश। इनमें कोई भी बदलाव नहीं किया गया है। यानी अमित शाह गृह मंत्री, राजनाथ सिंह रक्षा मंत्री, निर्मला सीतारमण वित्त मंत्री और एस जयशंकर विदेश मंत्री बने रहेंगे। जानते हैं इस बार मंत्रिपरिषद में किसे-क्या जिम्मेदारी सौंपी गई है…

देखें मोदी सरकार 3.0 के मंत्रियों की पूरी लिस्ट

1. पांच सबसे वरिष्ठ मंत्रियों की जिम्मेदारियों में बदलाव नहीं
सीसीएस में शामिल चार मंत्रियों अमित शाह, राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण और एस जयशंकर के इतर पांचवें सबसे वरिष्ठ मंत्री हैं नितिन गडकरी। उनकी जिम्मेदारी में भी बदलाव नहीं किया गया है। लगातार तीसरी बार वे सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री बने हैं। पहले बताया जा रहा था कि एनडीए के सबसे अहम घटक दल और 16 सांसदों वाली टीडीपी सड़क परिवहन मंत्रालय चाहती है। हालांकि, गडकरी की जिम्मेदारी बरकरार रखी गई है। प्रधानमंत्री की टीम में गडकरी ऐसे इकलौते वरिष्ठ मंत्री बन गए हैं, जिनकी जिम्मेदारी में 2014 से अब तक कोई बदलाव नहीं हुआ है।

2. 10 शीर्ष मंत्रियों में शामिल चार नए चेहरों को यह जिम्मेदारी
प्रधानमंत्री मोदी के बाद वरिष्ठता के क्रम में आने वाले 10 शीर्ष मंत्रियों में इस बार चार नए नाम जुड़े थे। इनमें पहले हैं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। उन्हें कृषि, किसान कल्याण और ग्रामीण विकास मंत्री बनाया गया है। वहीं, कैबिनेट मंत्री बने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के पास स्वास्थ्य मंत्रालय की जिम्मेदारी होगी। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ऊर्जा और आवास जैसे अहम मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभालेंगे। शीर्ष 10 मंत्रियों में एचडी कुमारस्वामी इकलौते गैर-भाजपाई हैं। उन्हें भारी उद्योग और इस्पात मंत्रालय का जिम्मा मिला है। 10वें नंबर पर शपथ लेने वाले पीयूष गोयल पहले की तरह उद्योग और वाणिज्य मंत्री बने रहेंगे। ये सभी मंत्रालय मोदी सरकार के विकास के एजेंडे के लिहाज से महत्वपूर्ण हैं।
इन मंत्रियों को राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) का जिम्मा सौंपा गया

3. बाकी चर्चित मंत्रालय किसके पास होंगे?
रेल
सबसे पहले बात करते हैं रेल मंत्रालय की। यह माना जा रहा था और जदयू को भी इस बात की उम्मीद थी कि अगला रेल मंत्री बिहार से ही होगा। हालांकि, ऐसा हुआ नहीं। अश्विनी वैष्णव को रेल मंत्री बनाए रखा गया है। वी. सोमन्ना और रवनीत सिंह बिट्टू को रेल राज्य मंत्री बनाया गया है। रवनीत सिंह पंजाब के लुधियाना से चुनाव हार गए थे, फिर भी उन्हें मंत्री बनाया गया है। वे पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं।

महिला एवं बाल विकास, खाद्य प्रसंस्करण
पिछली सरकार में स्मृति ईरानी के पास महिला एवं बाल विकास मंत्रालय था। अब अन्नपूर्णा देवी को यह प्रभार मिला है। दिवंगत नेता रामविलास पासवान के बेटे और लोजपा-रामविलास के प्रमुख चिराग पासवान को खाद्य प्रसंस्करण मंत्री बनाया गया है।

नागरिक उड्डयन

मोदी सरकार में सबसे युवा मंत्री और तेदेपा कोटे से आने वाले के. राममोहन नायडू नागरिक उड्डयन मंत्री होंगे।अभी तक यह जिम्मेदारी ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास थी। सिंधिया को अब संचार और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री बनाया गया है।

राज्य मंत्रियों को मिला इन विभागों का जिम्मा

जलशक्ति
पिछली बार जल शक्ति मंत्रालय संभालने वाले गजेंद्र सिंह शेखावत अब संस्कृति और पर्यटन मंत्री होंगे। उनकी जगह गुजरात भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल को जल शक्ति मंत्री बनाया गया है।

युवा एवं खेल और सूचना प्रसारण
अभी तक इन दोनों मंत्रालयों की जिम्मेदारी अनुराग ठाकुर के पास थी। इस बार वे मंत्री नहीं बनाए गए हैं। उनकी जगह मनसुख मांडविया को खेल एवं युवा मामलों का मंत्री बनाया गया है। सबसे युवा महिला मंत्री रक्षा एकनाथ खडसे खेल राज्य मंत्री बनाई गई हैं। अश्विनी वैष्णव को रेल, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी के साथ-साथ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है।

About News Desk (P)

Check Also

स्पेस एजुकेशन हब बनाने के प्रयास

लखनऊ। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की अध्यक्षता में राजभवन पर अंतरिक्ष विज्ञान शिक्षा संवर्द्धन कार्यक्रम ‘आविष्कार‘ ...