Breaking News

मोदी के ‘खटाखट मॉडल’ में आने वाला है इन मंत्रालयों का नंबर, पीएमओ में मेगा प्रेजेंटेशन की तैयारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘खटाखट मॉडल’ शुरू हो चुका है। मंत्रिमंडल में शपथ लेने के 24 घंटे के भीतर दो महत्वपूर्ण फैसले लेकर मोदी के फैसलों की चर्चाएं शुरू हो गईं। किसान सम्मान निधि की किस्त के साथ दिन की शुरुआत होने और शाम ढलते ढलते ग्रामीण और शहरी इलाकों में तीन करोड़ नए घर बनाने का फैसला लिया गया। जानकारी के मुताबिक आने वाले दिनों में जल्द ही कई और मंत्रालय के बड़े फैसले होने वाले हैं। इसके लिए अगले सप्ताह से पीएमओ में अलग-अलग मंत्रालयों की पूरी प्रेजेंटेशन की योजना बनाई जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी-7 की महत्वपूर्ण बैठक से वापस आने के बाद 100 दिनों की योजनाओं को अमल में लाने की तैयारियां शुरू करेंगे।

शपथ लेने के 24 घंटे के भीतर किसानो और जरूरतमंदों के घरों को लेकर बड़ा फैसला ले लिया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जहां तीन करोड़ नए घर बनाए जाने का फैसला हुआ। वहीं, किसानों के लिए किसान सम्मान निधि की अगली नई किस्त को मंजूरी दी गई है। सूत्रों के मुताबिक इन दो महत्वपूर्ण मंत्रालयों के अलावा रेलवे, स्वास्थ्य, टेलीकम्युनिकेशन, आईटी, शिक्षा, कृषि, विज्ञान, और अंतरिक्ष के साथ पूर्वोत्तर के राज्यों समेत कई अन्य महकमों में कई योजनाओं को पूरी तरह से जमीन पर उतारने की तैयारी की जा चुकी है।

सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव शुरू होने से पहले ही अलग-अलग मंत्रालयों में जो एक्शन प्लान तैयार करने को कहा था, अब उसकी प्रेजेंटेशन होनी है। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उस दौरान न सिर्फ सवा सौ दिनों के तैयार किए जाने वाले एक्शन प्लान के बारे में जानकारी ली। बल्कि प्रमुख अधिकारियों को इस बाबत दिशा निर्देश भी दिए गए। सूत्रों के मुताबिक सवा सौ दिनों की पूरी योजना को अगले सप्ताह तक प्रेजेंटेशन के लिहाज से तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। सूत्रों के मुताबिक पीएमओ में 17 से 18 जून को सवा सौ दिनों की कार्य योजना का प्रेजेंटेशन हो सकता है। जानकारी के मुताबिक यह प्लान पहले ही प्रमुख वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष पेश किया जा चुका है। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्रा से वापसी के बाद इसको पीएमओ के समक्ष पेश किया जाना तय है।

इसी वर्ष मार्च में ही 100 दिनों की प्लानिंग को लेकर पीएम मोदी की ओर से अधिकारियों को पूरी तरह से दिशा निर्देश जा चुके थे। उसके बाद देश के सभी मंत्रालयों के सचिवों का एक समूह तैयार किया गया। जिसको “सेक्टोरल ग्रुप ऑफ सेक्रेट्रीज” का नाम दिया गया। इस ग्रुप से ताल्लुक रखने वाले एक वरिष्ठ अधिकारी कहते हैं कि बेहतर तालमेल और क्रियान्वयन को लेकर सचिवों का अलग-अलग समूह बना है। जिसमें उनके महकमों की पूरी कार्ययोजना बन कर तैयार है। जैसे ही पीएमओ और मंत्री समूह परिषद से प्रेजेंटेशन के बाद हरी झंडी मिलती है, उसको तत्काल प्रभाव से अमल में लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

About News Desk (P)

Check Also

स्पेस एजुकेशन हब बनाने के प्रयास

लखनऊ। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की अध्यक्षता में राजभवन पर अंतरिक्ष विज्ञान शिक्षा संवर्द्धन कार्यक्रम ‘आविष्कार‘ ...