Breaking News

उपद्रवी छात्रों ने छात्राओं को धुना , स्कूल प्रशासन को भनक नहीं

लखनऊ। राजधानी के बख्शी का तालाब थानाक्षेत्र में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है जहाँ  दबंग छात्रों ने 11 छात्राओं को को लात घूंसे व बेल्टों से बेरहमी से पीट दिया। उपद्रवियों का तांडव करीब आधे घंटे तक चलता रहा लेकिन इसकी भनक स्कूल प्रशासन को नहीं लगी। मासूम बच्चियां चीखती रहीं लेकिन उनकी आवाज किसी तक नहीं पहुंची। आखिर जान बचाकर लड़कियां अपने घर भागीं इसके बाद परिजन स्कूल पहुंचे और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर थाने पर बवाल करने लगे।
प्राप्त जानकारी के अनुसार , बीकेटी थानाक्षेत्र के मवई खंतारी स्थित गाँव में पूर्व माध्यमिक विद्यालय मे सोमवार दोपहर करीब बारह बजे बच्चों को मिड-डे-मील का भोजन दिया जा रहा था। इस दौरान कक्षा 7 में पढ़ने वाले मवई खंतारी निवासी कौशलेंद्र और आनंद का साथ में पढ़ने वाली लड़कियों से खाने को लेकर विवाद हो गया। इस दौरान दोनों ओर से कहासुनी होने लगी। बात बढ़ने पर दोनों दबंग छात्रों ने बेल्ट निकाली और 11 लड़कियों को बेरहमी से पीट दिया। दबंग छात्राओं की पिटाई से सभी लड़कियों के शरीर पर काले निशान पड़ गए। पिटाई से घायल घायल हुई छात्राओं में निशा, किरन, मनीषा, शांति, रोशनी, रागिनी, पूजा, सरिता, रीता, रेशमी और सावित्री हैं। सभी लड़कियां संसारपुर गांव की रहने वाली हैं।
छात्रों की पिटाई के दौरान बेटियां चिल्लाती रहीं लेकिन स्कूल की प्रधानाचार्य कांति राय, सहायक अध्यापिका निरुपमा और रेनू कक्ष में बैठकर गप्पे लड़ाती रहीं। छात्राओं की चीख उनतक नहीं पहुंची। किसी तरह जान बचाकर घर भागी बच्चियों ने परिजनों को जब घटना बताई तो उनका खून खौल गया। परिजनों के साथ सैकड़ों गांव वाले भी स्कूल पहुंचे और अध्यापकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा करने लगे। इसकी सूचना पुलिस को लगी तो पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को थाने ले आई। इसके बाद दोनों पक्षों ने थाने पर जमकर हंगामा काटा। पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर मामला शांत कराया। लड़कियों के परिजनों ने एसडीएम बक्शी का तालाब को लापरवाह प्रिंसिपल और अध्यापकों को हटाने की मांग को लेकर प्रार्थनापत्र दिया है।
Loading...

About Samar Saleel

Check Also

IPS अमिताभ ठाकुर ने ऑफिस टाइम में निजी काम से अदालतों में जाने की सूचना RTI में देने से किया मना

लखनऊ। स्टेशनरी खर्चे और सरकारी गाड़ियों की लॉग बुक्स की जानकारी आरटीआई में नहीं देने ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *