Breaking News

आरएसएस प्रचारक से लेकर पहले गुजरात सीएम और बाद में देश के पीएम बनने तक का सफर

1958 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रांतीय प्रचारक लक्ष्मण राव इनामदार गुजरात के वडनगर पहुंचे। इस अवसर पर वहां एक विशेष शाखा का आयोजन किया गया। इनामदार को वडनगर में बाल स्वयंसेवकों को निष्ठा की शपथ दिलानी थी।

शपथ ग्रहण का सिलसिला शुरू हुआ और आठ साल के बच्चे तक पहुंच गया. इस लड़के का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी था. यह साल नरेंद्र मोदी का संघ के साथ जुड़ने का पहला साल था. उनके पिता दामोदर दास मोदी वडनगर रेलवे स्टेशन पर चाय की दुकान चलाते थे। नरेंद्र सुबह अपने पिता के काम में मदद करता है और जैसे ही स्कूल का समय होता है, वह अपना बैग उठाता है और अपनी कक्षा में प्रवेश करता है।

बचपन बीत गया, लेकिन परिवार ने कम उम्र में ही नरेंद्र को शादी के बंधन में बांध दिया. जब वे 18 वर्ष के हुए तो गौने की बात शुरू हो गई, नरेंद्र घर से भाग गए। कारवां मैगजीन ने इस घटना के बारे में नरेंद्र मोदी के भाई सोमा मोदी के हवाले से कहा- ”परिवार को पता नहीं था कि नरेंद्र कहां गए हैं. दो वर्ष बाद एक दिन वे अचानक घर लौटे और बोले कि अब मेरा संन्यास समाप्त हो गया है और मैं अहमदाबाद जाऊंगा। मैं वहां चाचा की कैंटीन में काम करूंगा।”

संघ मुख्यालय केशव भवन में प्रवेश

नरेंद्र अहमदाबाद पहुंचे. कुछ समय तक चाचा की कैंटीन में काम किया और फिर अपनी चाय की दुकान खोल ली। अहमदाबाद का गीता मंदिर चाय बेचने का उनका पहला स्थान बन गया। मन्दिर की गली से स्वयंसेवक आते-जाते रहते थे। चूँकि नरेन्द्र भी स्वयं सेवक थे। इसलिए उनकी बाकी स्वयंसेवकों से अच्छी बनती थी। समय बीतता गया और नरेंद्र मोदी की खबर प्रांत प्रचारक लक्ष्मण राव इनामदार तक पहुंची. इनामदार ने उन्हें संघ के मुख्यालय केशव भवन में आकर रहने की सलाह दी। नरेंद्र पहुंचे और उन्हें केशव भवन में रहने वाले लोगों की देखभाल की जिम्मेदारी दी गई। नरेंद्र मोदी सबके लिए नाश्ता बनाते हैं. केशव भवन की साफ-सफाई और कार्यालय के अन्य काम निपटाने की जिम्मेदारी भी उन पर थी।

आपातकाल के दौरान सक्रिय

केशव भवन में नरेन्द्र ने संगठन की बारीकियाँ सीखीं। देश में आपातकाल लगा हुआ था. नरेंद्र मोदी को आपातकाल विरोधी अभियान सामग्री तैयार करने और उन्हें राज्य भर में भूमिगत कार्यकर्ताओं को वितरित करने का काम सौंपा गया था। उन्होंने यह काम बखूबी किया. जब आपातकाल ख़त्म हुआ और देश में एक बार फिर सरकार बहाल हुई तो संघ ने नरेंद्र के कंधों पर जिम्मेदारी का भार बढ़ा दिया. अब उन्हें संघ और उसके अन्य संगठनों के बीच समन्वय स्थापित करना था। इस तरह नरेंद्र मोदी पहली बार सीधे राजनीति के करीब आये.

संगठन में साहस दिखाया

साल बीत गया. भारतीय जनता पार्टी का गठन 1980 में हुआ था, लेकिन अपने पहले लोकसभा चुनाव में उसे केवल दो सीटें मिलीं। इसके बाद बीजेपी आलाकमान ने हिंदुत्व की राह पर चलने का फैसला किया. 1987 में संघ ने अपने प्रचारक नरेंद्र मोदी को संगठन मंत्री बनाया. उन दिनों गुजरात बीजेपी को दो दिग्गज नेता केशुभाई पेटल और शंकर सिंह वाघेला चलाते थे. नरेंद्र मोदी को इन दोनों नेताओं का हाथ मजबूत करना था.

नरेंद्र मोदी ने संगठन की कमान संभालते ही गुजरात में रथ यात्राएं निकालना शुरू कर दिया. इसका फायदा बीजेपी को 1989 के लोकसभा चुनाव में मिला. 1984 के चुनाव में सिर्फ एक सीट जीतने वाली बीजेपी ने गुजरात में 12 सीटें जीतीं। नरेंद्र मोदी का कद और बढ़ गया. इसके बाद बीजेपी ने सोमनाथ से अयोध्या तक रथ यात्रा निकालने का ऐलान किया. मोदी को गुजरात में इस यात्रा को पूरा करने की जिम्मेदारी मिली, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया.

About News Desk (P)

Check Also

भारत से कुवैत पहुंचते ही मौत की आग में समाए लोकनंदम; केरल के राज्यपाल बोले- हादसा शब्दों से परे

कुवैत के मंगफ इलाके में एक छह मंजिला इमारत में भीषण आग लगने से 49 ...