Breaking News

विकास कार्यों से सेनानियों को श्रद्धांजलि

         डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

चौरी चौरा घटना का नए सिरे से स्मरण अभिनव अवसर था। इसके शताब्दी वर्ष का मूल उद्देश्य भी यही था। देश को स्वतन्त्र कराने में जिन्होंने भी योगदान दिया,उन सबके प्रति सम्मान व्यक्त करना वर्तमान पीढ़ी का कर्तव्य होता है। ऐसा करने से राष्ट्रभाव की प्रेरणा मिलती है।

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जयंती पर उनके सहायक वयोवृद्ध सेनानी के नरेंद्र मोदी ने चरण स्पर्श किये थे। इससे वह भावविह्वल हुए। पहली बार उन्हें ऐसा सम्मान मिला था। इसी प्रकार योगी आदित्यनाथ ने चौरी चौरा के स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों के परिजनों का सम्मान किया। इन सभी लोगों के लिए यह विलक्षण पल था।

शक्तिशाली राष्ट्र का संकल्प

केंद्र व प्रदेश की वर्तमान सरकारें राष्ट्रीय स्वाभिमान के जागरण व विकास को एक साथ लेकर चल रही है। प्रधानमंत्री ने योगी आदित्यनाथ के कार्यों की बहुत प्रशंसा की। कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार के प्रयास से किस तरह देश व प्रदेश की तस्वीर बदल रही है, गोरखपुर इसका उदाहरण है। यहां खाद कारखाना फिर से शुरु हो रहा है। इससे किसानों को लाभ होगा व युवाओं को रोजगार मिलेगा। एम्स बन रहा है।

मेडिकल कॉलेज से बड़ी संख्या में लोगों की जीवनरक्षा हो रही है। कई दशकों से इन्सेफेलाइटिस से यह क्षेत्र प्रभावित रहा है। इन्सेफेलाइटिस से नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री के नेतृत्व में जो कार्य हुआ है,उसकी पूरी दुनिया में प्रशंसा हो रही है। अनेक मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। पूर्वांचल में कनेक्टिविटी को बेहतर बनाया गया है।

चार लेन व छह लेन की सड़कें बन रही हैं। गोरखपुर से आठ शहरों हेतु हवाई यात्रा सुविधा उपलब्ध हो गयी है। कुशीनगर में इण्टरनेशनल एयरपोर्ट की स्थापना से क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। यह सभी विकास कार्य स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि हैं।

Loading...

विद्यार्थियों की भागीदारी

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चौरी चौरा की घटना 4 फरवरी,1922 को इसी स्थान पर हुई थी। प्रधानमंत्री की प्रेरणा व मार्गदर्शन में राज्य सरकार ने चौरी चौरा शताब्दी महोत्सव के आयोजन का निर्णय लिया। इन्सेफेलाइटिस पर नियंत्रण प्रधानमंत्री द्वारा संचालित स्वच्छ भारत मिशन की सफलता का उदाहरण है।

प्रधानमंत्री के नेतृत्व और मार्गदर्शन में स्वच्छता,स्वदेशी व स्वावलम्बन,आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को मूर्तरूप दे रहा है। विद्यालयों में लेखन, पेंटिंग, वाद विवाद प्रतियोगिता, ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित साहित्य की प्रदर्शनी आयोजित की जाएगी। स्वतंत्रता सेनानियों एवं घटनाओं के सम्बन्ध में विशिष्ट शोध को बढ़ावा देने का कार्यक्रम भी प्रारम्भ हो रहा है।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिजनों को शॉल एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने सौ दिव्यांगजन को मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल का वितरण किया तथा हरी झण्डी दिखाकर उन्हें रवाना किया। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने शहीद स्मारक,चौरी चौरा पर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की। उन्होंने संग्रहालय का भ्रमण कर कराये जा रहे सौन्दर्यीकरण कार्याें का निरीक्षण किया तथा राष्ट्र गीत वन्दे मातरम के समवेतिक गान में प्रतिभाग किया।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

मुद्दों से भटकाने में भाजपा सरकार का कोई जवाब नहीं: अखिलेश यादव

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *