Breaking News

अजा एकादशी के व्रत से सभी पाप होते हैं खत्म…

भादो महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी को अजा एकादशी के नाम से जाना जाता है। अजा एकादशी को कामिका या अन्नदा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस साल यह एकादशी 26 अगस्त यानि सोमवार को पड़ रही है। सोमवार के दिन एकादशी होने से अजा एकादशी का विशेष महत्व है। तो आइए हम आपको अजा एकादशी की महिमा के बारे में बताते हैं-

कैसे करें पूजा
अजा एकादशी के दिन खास तरह से की जाती है। इस दिन सुबह स्नान कर पवित्र मन से पूर्व दिशा में गौमूत्र झिड़क दें। उसके बाद उस जगह पर गेहूं रख दें। गेहूं के ऊपर तांबे के लोटे में जल भरकर कलश रखें। कलश के ऊपर अशोक का पत्ता या पान रखें। अब कलश के ऊपरी भाग में नारियल रख दें। भगवान विष्णु की मूर्ति को कलश के समीप रखें और दीपक जलाएं। विष्णु भगवान को फल, धूप, दीप और नैवेद्य चढ़ाएं। साथ ही फल रूप में प्रसाद चढ़ाएं। पूजा के बाद प्रसाद ग्रहण करें। दीपक एकादशी के दिन जलता रहने दें उसे द्वादशी के दिन ही हटाएं। कलश को हटाने के बाद पानी को घर में छिड़क दें और बचे हुए पानी को तुलसी के पौधे में डाल दें।

व्रत रखने के नियम
अजा एकादशी के व्रत में सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करें, उसके सूर्य देवता को जल अर्पित करें। ध्यान रखें जल हमेशा तांबे के लोटे से चढ़ाएं उसके बाद सूर्य भगवान को लाल फूल अर्पित करें। व्रत के दिन किसी मंदिर में जाएं और ध्वज दान करें। शिवलिंग की पूजा करें उस पर तांबे के लोटे से जल चढ़ाएं और काला तिल अर्पित करें। सूर्यास्त के बाद घर के मंदिर में या तुलसी जी के पास दीया जलाएं। साथ ही हनुमान जी के पास बैठकर सीताराम-सीताराम का जाप करें। अजा एकादशी के दिन विष्णु जी और लक्ष्मी जी की पूजा। पूजा से पहले गणेश जी का ध्यान धारण करें। अजा एकादशी का व्रत पवित्र मन से करें। इस दिन केवल फलाहार करें। किसी तरह का कोई अन्न नहीं खाएं। दिन फल भी केवल एक ही बार खाएं।

अजा एकादशी के व्रत से होते हैं सभी मनोरथ पूरे
अजा एकादशी का व्रत रखकर कोई विष्णु भगवान की सच्चे मन से पूजा करने पर सभी मनोकामनाएं पूरी होती है और प्रत्येक स्थान पर सफलता मिलती है।

अजा एकादशी है खास
अजा एकादशी विशेष महत्व की है क्योंकि इस विष्णु भगवान की पूजा होगी। साथ में सोमवार होने के कारण शिव जी की भी अर्चना होगी। इस तरह विष्णु और शिव की एक ही दिन पूजा होने से विशेष फल मिलता है। अजा एकादशी व्रत की कथा सुनने से अश्वमेध यज्ञ के समान फल मिलता है। राजा हरिश्चन्द्र को अजा एकादशी का व्रत करने से अपना खोया गया राज्य वापस मिल गया तथा उनका पुत्र भी जीवित हो उठा।

अजा एकादशी का है विशेष महत्व
ऐसी मान्यता है कि एकादशी भगवान विष्णु को बहुत प्रिय थी। इसलिए एकादशी का व्रत करने से भक्त को सभी सांसारिक सुख मिलते हैं। एकादशी के दिन रात्रि जागरण, दान और गाय की पूजा का खास महत्व होता है।

About Samar Saleel

Check Also

आज का राशिफल: 23 जून 2024

  मेष राशि:  आज का दिन आपके लिए सकारात्मक परिणाम लेकर आएगा। आप अपनी आय ...