Breaking News

दुनिया की एक-तिहाई आबादी पर टीबी का खतरा, जानिये बचाव का तरीका

दुनिया की एक-तिहाई आबादी पर तपेदिक का खतरा मंडरा रहा है. एक नए अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है. यह अध्ययन यूरोपियन रेसपिरेटरी जर्नल में प्रकाशित हुआ है, जिससे पता चलता है कि दुनिया के हर चार में से एक व्यक्ति के शरीर में तपेदिक का बैक्टीरिया मौजूद है. क्षय रोग, माइक्रोबैक्टीरियम टुबरकोलोसिस नामक बैक्टीरिया से होता है, जिससे हर साल एक करोड़ लोग प्रभावित होते हैं और लगभग 20 लाख लोगों की मौत हो जाती है. यह सबसे घातक संक्रामक रोग है.

इसके अलावा, कई लोग इस बैक्टिरीया से ग्रसित होते हैं, लेकिन उन्हें सक्रिय तपेदिक रोग नहीं होता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने साल 2035 तक दुनिया से तपेदिक को खत्म करने का लक्ष्य निर्धारित किया है. इस अध्ययन में कहा गया है कि दुनिया की लगभग एक-चौथाई आबादी निष्क्रिय तपेदिक रोग की चपेट में है. डेनमार्क के आरहौस यूनिवर्सिटी के एसोसिएट प्रोफेसर क्रिस्चियन वेजसे का कहना है, “इस लक्ष्य को उन लोगों का इलाज किए बिना प्राप्त करना मुश्किल है, जिन्हें सक्रिय तपेदिक रोग नहीं है. क्योंकि अगर शरीर में इसका बैक्टीरिया मौजूद है तो उस व्यक्ति को जीवन में कभी भी तपेदिक रोग हो सकता है.”

टीबी का इलाज-
टीबी का इलाज अब पूरी तरह संभव है. टीबी की पहचान के बाद अपने डॉक्टर की सलाह से एंटी टीबी दवाइयों से तुरंत इलाज शुरू कर देना चाहिए. टीबी के इलाज के लिए एंटीबॉयोटिक्स का 6 से 8 महीनों का कोर्स होता है.

टीबी से कैसे बचें –
टीबी की चपेट में आने से बचने के लिए भीड़-भाड़ वाले स्थानों से दूर रहें, जहां आप नियमित रूप से संक्रमित लोगों के संपर्क में आ सकते हैं. अपनी सेहत का ख्याल रखें और नियमित रूप से अपनी शारीरिक जांचे कराते रहें. टीबी का इलाज पूरी तरह मुमकिन है. सरकारी अस्पतालों और डॉट्स सेंटरों में इसका फ्री इलाज होता है. टीबी का इलाज लंबा चलता है. इसे ठीक होने में 6 महीने से 2 साल तक का समय लग सकता है.

About Samar Saleel

Check Also

देश की प्रसिद्ध और ऐतिहासिक मस्जिद, जहां ईद-उल-अजहा के मौके पर जा सकते हैं आप

इस वर्ष 17 जून 2024 को ईद उल अजहा का पर्व मनाया जा रहा है। ...