Breaking News

संसार को खतरे में डालने के लिये चोरी छुपे Amazon व Microsoft बना रही है ऐसे रोबोट

एक रिपोर्ट के अनुसार Amazon, Microsoft  Intel जैसी कंपनियां कातिल रोबोट का विकास करके संसार को खतरे में डाल सकती हैं लीथल ऑटोनॉमस हथियारों को लेकर किए गए एक सर्वे में ये बात सामने आई डच एनजीओ पैक्स ने 50 कंपनियों की इस मुद्दे में रैंकिंग की इनसे पूछा गया कि ये कंपनियां ऐसी किसी तरह की तकनीक का विकास कर रही हैं जो कि डेडली आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में सहायक हो सकती है, क्या वे इस तरह के मिलिट्री प्रोजेक्ट में सहायता कर रही हैं  क्या वे इस तरह के कार्य से अपने आपको भविष्य में दूर रखेंगी इस सप्ताह छपी रिपोर्ट को लिखने वाले फ्रैंक स्लिजपर ने बोला कि ये कंपियां क्यों इन बातों से मना नहीं कर रही हैं कि वे ऐसे किसी तकनीक के विकास में शामिल नहीं हैं

हथियार खुद निर्णय लेंगे कि किसे मारना है-
ये हथियार ऐसे होंगे जो कि खुद इस बात का निर्णय करेंगे कि किसे मारना है या किस पर हमला करना है इस प्रोसेस में किसी आदमी का इन्वॉल्वमेंट नहीं होगा इससे पूरी संसार की शांति को खतरा होने कि सम्भावना है यूनीवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया में कंप्यूटर साइंस के प्रोफेसर स्टुअर्ट रसेल ने बोला कि ऑटोनॉमस वीपन्स बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं क्योंकि ऐसी स्थिति में एक अकेला आदमी ही करोड़ों हथियारों को लॉन्च कर सकता है

यह हथियार कितना खतरनाक होने कि सम्भावना है इसका पता इसी बात से लगा सकते हैं कि फेशियल रिकग्निशन टेक्नीक का उपयोग करके किसी खास एथनिक ग्रुप का सफाया किया जा सकता है या कि सोशल मीडिया पेज को स्टडी करके किसी खास सियासी विचारधारा वाले लोगों को भी समाप्त किया जा सकता है

मिलिट्री पर्पज़ के लिए यूज़ पर भी बहस जारी-
मिलिट्री पर्पज़ के लिए आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के इस्तेमाल पर भी बहस छिड़ गई है कुछ लोग इसका विरोध कर रहे हैं पिछले वर्ष गूगल ने पेंटागन के एक प्रोजेक्ट Maven को रिन्यू करने से इन्कार कर दिया जो कि ड्रोन वीडियोज़ में आदमियों को ऑब्जेक्ट से अलग पहचानने के लिए था रसेल ने बोला कि अभी के समय में जो भी हथियार हैं उनको ऑटोनॉमस बनाने के लिए लगातार प्रयास हो रही है

इस तकनीक से नयी कैटेगरी के ड्रोन बन सकते हैं जो कि इस वक्त उपस्थित नहीं हैं उदाहरण के लिए ये वर्ष 2017 की फिल्म स्लॉटरबॉट्स में दिखाए गए हथियारबंद मिनी ड्रोन की तरह हो सकते हैं इस तरह के हथियारों से आप उन्हें एक कार्गो या कंटेनर में लाखों की संख्या में कहीं भी भेज सकते हैं जो कि बहुत ज्यादा खतरनाक होने कि सम्भावना है अप्रैल में यूरोपियन यूनियन ने गाइडलाइन जारी की थी कि कंपनियों  सरकारों को किस तरह से आर्टिफिशिल इंटेलीजेंस डेवेलप की जानी चाहिए

About News Room lko

Check Also

रिलायंस रिटेल बना भारत में गैप ब्रांड का आधिकारिक रिटेलर

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें Published by- @MrAnshulGaurav Wednesday, July 06, 2022 नई दिल्ली: ...