Breaking News

क्या अपने दम पर उपराष्ट्रपति चुनाव भी जीत सकती हैं BJP, इस वजह से हैं भाजपा का पलड़ा भारी

Vice-President Election: देश में राष्ट्रपति  के साथ-साथ उपराष्ट्रपति चुनाव की चर्चा तेज हो गई है.उपराष्ट्रपति चुनाव में उसके पास अपने कैंडिडेट की जीत सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त वोट हैं। उप-राष्ट्रपति के चुनाव में केवल लोकसभा और राज्यसभा के सांसद वोट करते हैं। इसमें संसद के नामित सदस्य भी मतदान कर सकते हैं।

उपराष्ट्रपति चुनाव में BJP के पास 395 सांसद या वोट हैं जो जीत के जादुई आंकड़े 388 से सात ज्यादा हैं। अब तक भाजपा की अगुआई वाले एनडीए और विपक्ष ने अपने उम्मीदवार घोषित नहीं किए हैं। । उप-राष्ट्रपति के चुनाव में केवल लोकसभा और राज्यसभा के सांसद वोट करते हैं। इसमें संसद के नामित सदस्य भी मतदान कर सकते हैं। 21 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आने के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी.

अब राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव से पहले कोई उपचुनाव या द्विवार्षिक चुनाव नहीं होगा, ऐसे में उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए निर्वाचक मंडल यानी इलेक्टोरल रोल 775 सदस्यों का है। इसमें लोकसभा के 543 और राज्यसभा के 232 सदस्य शामिल हैं।ऐसे में उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए निर्वाचक मंडल यानी इलेक्टोरल रोल 775 सदस्यों का है।इसे लेकर राजनीतिक पार्टियों ने इसे लेकर प्रत्याशियों का मंथन शुरू कर दिया है.  इसमें लोकसभा के 543 और राज्यसभा के 232 सदस्य शामिल हैं।

 

About News Room lko

Check Also

स्वच्छता कार्य में शून्य मृत्यु का लक्ष्य, सफाई मित्रों कि सुरक्षा की गारंटी

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें सीवर और सेप्टिक टैंक की सफाई के दौरान ...