शुरू हुई बिना मान्यता मदरसों की चेकिंग, एसडीएम ने स्वयं संभाला मोर्चा, चार में तीन मदरसा बिना मान्यता के मिले  

बिधूना। शासन के निर्देश पर बिधूना तहसील में संचालित मदरसों की चेकिंग के लिए मंगलवार को उपजिलाधिकारी ने स्वयं मोर्चा सम्हाला। इस दौरान उन्होंने कस्बा के अलावा कुदरकोट व रठगांव स्थित मदरसों की चेकिंग की गयी। चेकिंग के दौरान रठगांव में मदरसा के संचालक ही मान्यता से संबंधित कागजात दिखा सके, जबकि तीन मदरसा संचालक मान्यता से संबंधित कागजात नहीं सके।

उपजिलाधिकारी लवगीत कौर ने बताया कि शासन के निर्देश एवं जिलाधिकारी के आदेश पर आज उन्होंने कस्बा समेत तहसील क्षेत्र के चार मदरसों पर जाकर मान्यता से संबंधित कागजात चेक किये। बताया कि इस दौरान रठगांव स्थित मदरसा रियाजिन बाई इस्लामियां स्कूल के अलावा अन्य किसी मदरसा का संचालक या संस्था प्रमुख मान्यता से संबंधित कागजात नहीं दिखा सका। बताया कि रठगांव स्थिति मदरसा के प्रबंधक मुस्तफा हुसैन ही मान्यता से संबंधित कागजात दिखा सके।

बताया कि उन्होंने कुदरकोट स्थित मदरसा चिश्वया अंजुमन तालामुलकुरान प्राथमिक विद्यालय की भी चेकिंग की संचालक ने मान्यता होने की बात कही पर कागजात नहीं दिखा सके। बताया कि इसके अलावा कस्बा के मोहल्ला अम्बेडकर नगर स्थित गरीब नवाज मस्जिद मदरसा एवं तिलकनगर (पुराना बिधूना) स्थित ख्वाजा गरीब नमाज मस्जिद में संचालित मदरसा के संचालक मान्यता से संबंधित कोई कागजात नहीं सके। दोनों मदरसा बिना मान्यता के संचालित होते पाये गये।

दूसरी ओर तहसील पहुंचे कुदरकोट स्थित मदरसा चिश्वया अंजुमन तालामुल कुरान प्राथमिक विद्यालय के संचालक अहकाम खान व प्रधानाध्यापक मोहम्मद असलम ने मान्यता पत्र दिखाते हुए बताया कि बताया कि उनके मदरसा को इटावा बीएसए द्वारा दिनांक 7/7/1994 को प्राथमिक स्तर की स्थायी मान्यता प्रदान की गयी थी। बताया कि जब एसडीएम मौके पर गयीं तो वह मान्यता पत्र ढूंढते रहे उस समय नहीं मिला। उनके जाने के बाद मिला गया तो वह उसे दिखाने आये हैं।

रिपोर्ट – राहुल तिवारी/संदीप राठौर चुनमुन

About Samar Saleel

Check Also

नाबालिगों के जायदाद पर हक तल्फी पर उतरी संरक्षिका, बच्चों ने मांगा न्याय

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें अपनी दादी व अधियारियों पर नाबालिग बच्चों ने ...