Breaking News

औरैया में तीन दिन से लापता मजदूरों के शव पुरहा नदी में मिले

औरैया। जिले के बिधूना क्षेत्र में तीन दिन पहले मजदूरी करने निकले लापता दो मजदूरों के शव पुरहा नदी से बरामद किए गए हैं। एक का शव सुबह हमीरपुर गांव के पास तो दूसरे का शव पुर्वा पट्टी गांव के पास पुल के नीचे मिला है। दोनों मजदूरों की हत्या कर नदी में फेंके जाने की आशंका जताई जा रही है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है।

आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार की सुबह यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बिधूना कोतवाली की चौकी रूरूगंज क्षेत्र के गांव जुगराजपुर निवासी दो मजदूर श्रीचन्द्र (46) व गिरीश सविता (50) रविवार को चपोरा गांव निवासी किसान सुल्तान सिंह के खेत में ट्रेक्टर द्वारा आलू रखने के बाद बरहा बनाने का काम करने के लिए गये थे, जहां से दोनों गायब थे। दोनों मजदूर शाम को घर नहीं पहुंचे तो चिंतित परिजन व ग्रामीण दोनों की खोजबीन में जुटे थे।

खोजबीन करते समय मंगलवार की सुबह करीब 8 बजे चपोरा गांव के पास पुरहा नदी में बनी अड्डी पर श्रीचन्द्र की दोनों व ग्रीश की एक चप्पल मिली तो उसी के सहारे पुरहा नदी के किनारे ढूंढना शुरू किया। नदी के किनारे किनारे आगे बढ़े तो हमीरपुर गांव के सामने नदी में झाड़ियों में फंसा शव दिखाई दिया। पास जाकर देखा तो शव श्रीचन्द्र का था।

ग्रामीणों ने श्रीचन्द्र का शव मिलने की जानकारी परिजनों को दी तो उनमें कोहराम मच गया। वहीं सूचना मिलते ही कोतवाली निरीक्षक जीवाराम व रूरूगंज चौकी इंचार्ज तन्मय चौधरी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गये थे। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

वहीं श्रीचन्द्र का शव मिलने के बाद ग्रामीणों ने तालाबों में सिंघाड़ा निकालने वाली डूंगी (नाव) पुरहा नदी में ग्रीश को ढूंढने का अभियान चलाया। तो शुरू दिन में करीब 11 बजे पुर्वा पट्टी गांव के पास पुरहा नदी के पुल के आगे नदी के घुमाव पर घास में उलझा ग्रीश का शव मिला।

गिरीश के शरीर पर पैंट शर्ट दोनों मौजूद हैं। दूसरे शव के मिलने की जानकारी होते ही पुलिस क्षेत्राधिकारी महेन्द्र प्रताप सिंह व कोतवाल जीवाराम पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गये हैं। साथ ही शव को कब्जे में ले पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजने की तैयारी में लगी है।

मृतक मजदूर के पुत्र बीरू ने बताया कि उसके पिता व गांव के गिरीश चन्द्र सविता रविवार को चपोरा गांव में काम करने गये थे। जहां से वह लापता हो गये थे। शाम तक जब घर नहीं पहुंचे तभी वह व परिजन उन्हें तलाश रहे थे। दोनों के गायब होने की जानकारी पुलिस को भी दी थी।

बताया कि आज सुबह चपोरा अड्डी के पास पुरहा नदी किनारे चप्पल मिली। नदी में आगे ढूंढा तो हमीरपुर के सामने झाड़ियों में फंसा शव मिला है। वहीं एक अन्य व्यक्ति बताया का खेत से ही गायब थे। जब वह लोग तलाश रहे थे तो फावड़ा खेत में ही रखा मिला था।

वहीं मृतक गिरीश के छोटे भाई रामू सविता ने बताया कि जमीन के लेकर उनका गांव में ही मेवाराम व उनके लड़कों से विवाद हो गया था। जिसके बाद उन्होंने चौकी रूरूगंज में शिकायत की थी।

बताया कि जब भाई गिरीश गायब हुए तो वह कल बिधूना थाने रिपोर्ट लिखाने गया था। जहां से उसे भगा दिया गया था। बताया कि वह लोग अपने भाई को तलाश रहे थे, तभी आज पुर्वा पट्टी के पास पुरहा नदी के पुल के नीचे शव मिला है।

मृतक के एक बेटा व दो बेटियां हैं

श्रीचन्द्र की पत्नी का नाम श्री देवी हैं। उसके एक लड़का बीरू, दो लड़कियां सोनाली व रूबी हैं। जिनका रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है। श्रीचन्द्र का एक लड़के की पहले ही मृत्यु हो चुकी है।

गिरीश के भी एक बेटा व दो बेटियां 

वहीं गिरीश सविता के भी तीन बच्चे हैं। जिसमें एक लड़का शिवम, दो लड़कियां प्रिया व नेहा हैं। उसके पत्नी की पहले ही मृत्यु हो चुकी है। गिरीश के बच्चे भी किसी अनहोनी के भय से रो-रोकर कर परेशान हो रहे हैं।

रिपोर्ट – संदीप राठौर चुनमुन

About Samar Saleel

Check Also

पेड़ से लटका मिला बाघ का शव, स्निफर डॉग की मदद से शुरू सर्चिंग

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में एक हैरान ...