वैचारिक धरातल पर विकास विमर्श

डॉ दिलीप अग्निहोत्री
डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

कुछ माह पूर्व उत्तर प्रदेश के सत्ता पक्ष को लेकर अनेक अटकलें लगाई जा रही थी। इनका कोई आधार नहीं था। फिर भी कयास लगाए गए। लेकिन एक एक कर ऐसे सभी आकलन ध्वस्त होते गए। केंद्रीय नेतृत्व द्वारा योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा का एक सिलसिला चल रहा है। इस संबन्ध में तथ्यों पर आधारित तर्क दिए जा रहे है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा,गृहमंत्री अमित शाह पिछले कुछ महीनों में कई बार उत्तर प्रदेश की यात्रा पर आए।

हर बार इन्होंने योगी के नेतृत्व को सराहनीय बताया। उनकी सरकार की उपलब्धियों को रेखांकित किया। इस क्रम में लखनऊ मोदी और योगी की एक फोटो खूब चर्चा में है। लखनऊ राजभवन के गलियारे में दोनों नेता टहल रहे है। मोदी का हांथ योगी के कंधे पर है। नरेंद्र मोदी उम्र व पद दोनों में योगी से बड़े है। ऐसा लग रहा है जैसे वह अपने अनुज से विचार विमर्श कर रहे है। कुछ दिन पहले नरेंद्र मोदी ने पूर्वांचल एक्सप्रेस को लोकार्पण किया था। उसमें नरेंद्र मोदी व योगी आदित्यनाथ साथ साथ थे।

प्रधानमंत्री को एयर शो स्थल पर पहुंचना था। प्रधानमंत्री के प्रति शिष्टाचार के नियम है। मुख्यमंत्री व राज्यपाल उनके साथ रहते है। किंतु वह अपने वाहन से पहले उतर कर प्रधानमंत्री की अगवानी को पहुंचते है। प्रधानमंत्री का वाहन धीमी गति से वहां आता है। जिनके लिए ऐसे सामाजिक या संवैधानिक शिष्टाचारों का महत्व नहीं होता,उन्होंने इस दृश्य का मजाक बनाया। कहा कि योगी आदित्यनाथ पैदल है। जबकि वह शिष्टाचार का पालन कर रहे थे। लखनऊ राजभवन में दूसरा दृश्य था। इसमें शिष्टाचार भी है। भावना और विचार भी है। वस्तुतः नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ के व्यक्तिगत व सार्वजनिक जीवन में बड़ी समानता है। दोनों की कार्यशैली भी एक जैसी है। जिसमें कर्मयोग का भाव है। अंतर यह कि योगी आदित्यनाथ ने विधिवत सन्यास धारण किया है। वह गोरक्ष पीठाधीश्वर है। श्री महंत है। जबकि नरेंद्र मोदी सामाजिक सन्यास पर अमल करते है। इसके लिए उन्होंने अपने परिवार का त्याग किया है।

नरेंद्र मोदी ने कुछ समय पहले कहा भी था कि आदित्यनाथ केवल योगी ही नहीं कर्मयोगी भी है। इसके पहले नरेंद्र मोदी ने अलीगढ़ व काशी में योगी आदित्यनाथ की जम कर प्रशन्सा की थी। उनका कहना था कि योगी सरकार की उपलब्धियां गिनाने के लिए बहुत समय लग जायेगा। यह भी दुविधा रहती है कि जिस उपलब्धि की चर्चा करें,और किसको छोड़ दें। लखनऊ में प्रधानमंत्री का कार्यक्रम समाप्त होने के बाद योगी आदित्यनाथ गोरखपुर पहुंचे थे। यहां उनके सन्यास व समाज सेवा के जीवन का एक बार फिर समन्वय दिखाई दिया। उन्होंने गोरक्ष धाम में विधि विधान के अनुरूप पूजन किया। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी यहां पूजन हेतु पहुंचे। समाज सेवा के अंतर्गत योगी गरीब परिवारों को आवास की चाभी प्रदान की। प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत उत्तर प्रदेश में अब तक पैंतालीस लाख लोगों को आवास उपलब्ध कराए गए। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार द्वारा सबको विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सामान्य रूप से मिल रहा है। पांच वर्ष पहले पहले जेई एईएस से हजारों मासूम मौत के शिकार हो जाते थे। जिसका प्रमुख कारण घरों में शौचालय न होना था।

प्रदेश में सरकार बनने के बाद स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत हर घर में शौचालय उपलब्ध कराया गया, जिससे इस बीमारी का नब्बे प्रतिशत से अधिक समाधान करने में सफलता मिली है। बिना भेदभाव के प्रदेश में बिजली उपलब्ध करायी जा रही है। शहरी क्षेत्र में झूलते हुए तारों को भी हटाया जा रहा है।गोरखपुर के नये क्षेत्रों में भी बुनियादी सुविधाओं का लाभ उपलब्ध कराया जा रहा है। गोरखपुर में फर्टिलाइजर प्लाण्ट,सैनिक स्कूल, पीएसी की महिला बटालियन की स्थापना हो रही है। अगले माह में एम्स एवं फर्टिलाइजर प्लाण्ट का लोकार्पण प्रधानमंत्री द्वारा किया जायेगा। प्रधानमंत्री की संकल्पना को साकार करते हुए आगामी वर्ष तक हर गरीब के सिर पर छत की व्यवस्था करनी है। समाज के सभी तबकों के लिए सरकार कार्य कर रही है। वनटांगिया गांव में जो लोग पांच साल पहले झोपड़ियों में रहते थे। आज उन सबके पास अपना मकान है। स्कूल के साथ स्मार्ट क्लास है। बिजली और सोलर पैनल से गांव रोशन है। प्रधानमंत्री आवास योजना के साथ मलिन बस्तियों को भी जोड़ा जा रहा है। अन्य तबकों के लिए भी योजनाएं बनाई जा रही है। माफियाओं द्वारा कब्जा की गयी जमीनों को मुक्त कराकर गरीबों के लिए मुक्त आवास बनाने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि हम मेडिकल हब बनने की तरफ बढ़ रहे हैं। पिछले सत्तर वर्षों में प्रदेश के अन्दर केवल बारह मेडिकल कालेज थे। अब साढ़े चार वर्षों में ही तैतीस नए मेडिकल कालेज बन रहे हैं। इनमें से आठ ऐसे मेडिकल कालेज हैं जिनमें एमबीबीएस की पढ़ाई भी शुरू हो चुकी है। नौ मेडिकल कालेज जल्द ही शुरू हो जाएंगे। सभी जनपदों में विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवा उपलब्ध कराने हेतु नए विशेषज्ञ चिकित्सकों की तैनाती शुरू कर दी गई है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी गोरखपुर पहुंचे। उन्होंने गोरखनाथ मंदिर पहुंच कर गुरु गोरक्षनाथ की विधिवत पूजा अर्चना की। गीता प्रेस का अवलोकन किया। इसके बाद उन्होंने बूथ सम्मेलन को संबोधित किया। अट्ठाइस हजार से अधिक बूथ कार्यकर्ताओं को आगामी विधान सभा तैयारियों के प्रति जागरूक किया। वह वनटांगिया गांव रजही भी गए। गोरखपुर क्षेत्र में कुल बाँसठ विधानसभा सीटें हैं।

वर्तमान समय मे चवालीस सीटों पर भाजपा का कब्जा है। पार्टी ने इसमें वृद्धि का लक्ष्य निर्धारित किया है। नड्डा ने ​कहा कि आज उत्तर प्रदेश में फोरलेन और सिक्सलेन हाइवे, पूर्वांचल एक्सप्रेस वे और एक के बाद एक विकास की नई कहानी लिखी जा रही है। उन्होंने गोरखपुर में वनटंगिया परिवारों से मिलन एवं संवाद भी किया। कहा कि सही नेता सही पार्टी और सही नेतृत्व से विकास की एक नई कहानी लिखी जाती है।पौधारोपण व जंगल बसाना धर्मार्थ का काम है। जिन लोगों ने जंगल लगाए और प्रकृति की पूजा की उनकी तकदीर हमेशा बदलती गई। वह हमेशा विकास की ओर बढ़ते गए। जनजातीय समाज ने जंगल लगाए।

जब जंगल फल फूल गए तो उस समय की कांग्रेस सरकार ने जनजातीय समुदाय को निकालने का काम शुरू किया। योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद ऐसे समुदाय की चिंता की। पहले सांसद के रूप में योगी आदित्यनाथ योगी ने जनजातीय समयदाय को जमीन का अस्थायी कब्जा दिलाया था। मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने रेवेन्यू गांव के रूप में इन सभी लोगों को स्थान दिलाया। शासन की सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई।

About Samar Saleel

Check Also

शिक्षा के प्रसार में गोरक्ष पीठ का योगदान

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें भारत अपने ज्ञान विज्ञान के बल पर विश्व ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *