Breaking News

तीर्थ यात्रियों के लिए अच्छी खबर, केदारनाथ हेली सेवा का किराया हुआ कम

 चार धाम यात्रा-2023 पर उत्तराखंड आने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए बहुत ही अच्छी खबर है। एमपी, दिल्ली, यूपी, राजस्थान, गुजरात सहित देश-विदेश से केदारनाथ-बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में तीर्थ यात्री दर्शन के लिए आते हैं। महंगाई के बीच तीर्थ यात्रियों को राहत मिलने वाली है।

उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण (उकाडा) ने गुप्तकाशी हेलीपैड से केदारनाथ धाम तक का किराया तय कर लिया है। इस बार एक तरफ का किराया प्रति यात्री 3870 रुपये होगा। पिछले साल 2022 की तुलना में हेली सेवा के किराये में कमी की गई है। हेली सेवा की बुकिंग अप्रैल प्रथम सप्ताह में शुरू होने जा रही है।

केदारनाथ पैदल मार्ग पर लोनिवि डीडीएमए द्वारा बर्फ हटाने का काम जारी है। हालांकि लगातार खराब मौसम केदारनाथ पैदल मार्ग से बर्फ हटाने में खलल डाल रहा है। शुक्रवार को भी मौसम ने मजदूरों के हाथ रोक दिए। बर्फबारी के कारण मजदूरों का काम प्रभावित हुआ।

ठीक एक महीने बाद भगवान केदारनाथ धाम की यात्रा शुरू हो जाएगी। 25 अप्रैल को बाबा केदार के कपाट देश-विदेश के तीर्थयात्रियों के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे। इस लिहाज से जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने सभी विभागों को यात्रा तैयारियों को युद्ध स्तर पर करने के निर्देश दिए हैं किंतु लगातार बारिश और बर्फबारी से यात्रा तैयारियों में मुश्किलें पैदा हो रही है।

इस साल चार धाम यात्रा 2023 में केदारनाथ हेली सेवा का एक तरफ का किराया पिछली बार से पांच रुपये कम होगा। उकाडा केदारनाथ धाम के लिए सिरसी और फाटा से पहले ही हेली कंपनियों का चयन और किराया तय कर चुका है। गुप्तकाशी हेलीपैड के लिए प्राप्त टेंडर फाइनल किए गए। ट्रांसभारत और आर्यन कंपनी के रेट सबसे कम आए।

समें सबसे कम किराया 3870 प्रति यात्री आया, उकाडा ने दूसरे स्थान पर रेट देने वाली कंपनी से सबसे कम रेट की बराबरी करने को कहा है। उकाडा के सीईओ सी. रविशंकर ने बताया कि अप्रैल पहले सप्ताह तक आईआरसीटीसी के जरिए हेली टिकटों की बुकिंग शुरू हो जाएगी। इस बार टिकट की कालाबाजारी रोकने के लिए अतिरिक्त उपाय किए गए हैं।

About News Room lko

Check Also

पर्यावरण संरक्षा जागरूकता के लिए बस्ती स्टेशन पर रेल कर्मियों ने बोर्ड एवं बैनर के माध्यम से यात्रियों को किया जागरूक

लखनऊ। पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मण्डल में मिशन लाइफ के तहत पर्यावरण को अनुकूल करने हेतु ...