Breaking News

उत्तराखंड में भारी बर्फबारी की भविष्यवाणी, UP में 23 जनवरी से बारिश के आसार

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने सोमवार से दिल्ली-एनसीआर और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश की भविष्यवाणी की है। मौसम विभाग की वैज्ञानिक डॉ. सोमा सेन रॉय ने कहा कि आने वाले पश्चिमी विक्षोभ के कारण इन इलाकों में बारिश होने के आसार हैं।

टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को दूसरे वनडे में हराया , देखने को मिला भारतीय तेज गेंदबाजों का दबदबा

बारिश के साथ ठंड भी बढ़ने की संभावना है। उन्होंने कहा कि बारिश के कारण 23 जनवरी से सर्दी फिर बढ़ेगी और यह स्थिति 25 जनवरी तक जारी रहेगी। इस दौरान आसमान में बादल छाए रहेंगे और हल्की बूंदाबांदी होगी।

मैदानी इलाकों में बारिश के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भारी बर्फबारी की भी भविष्यवाणी की गई है। 26 जनवरी से मौसम में सुधार होने की संभावना है।

आपको बता दें कि कश्मीर घाटी के अधिकांश हिस्सों में न्यूनतम तापमान में कमी के बीच शनिवार तड़के कुछ इलाकों में रुक-रुककर हल्की बर्फबारी हुई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि खराब मौसम और पंथ्याल में पत्थर गिरने के चलते श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया गया है।

अधिकारियों के मुताबिक, कश्मीर घाटी के कुछ इलाकों, खासकर ऊपरी इलाकों में शनिवार तड़के हल्की बर्फबारी हुई। उन्होंने कहा कि दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के पहलगाम में पिछले 24 घंटे में 13 इंच, कोकेरनाग में आठ इंच, काजीगुंड में छह इंच और शोपियां में चार इंच बर्फबारी दर्ज की गई।

पंजाब और हरियाणा में शनिवार को भी ठंड का प्रकोप जारी रहा और हिसार इस क्षेत्र का सबसे ठंडा स्थान रहा। मौसम कार्यालय के अनुसार, हरियाणा के हिसार में न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से लगभग तीन डिग्री कम है।

वहीं, अंबाला में न्यूनतम तापमान सात डिग्री सेल्सियस, जबकि करनाल में 4.8 डिग्री सेल्सियस रहा। चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं, पंजाब के बठिंडा में रात का तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 4.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अमृतसर में न्यूनतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस, जबकि लुधियाना में 6.4 डिग्री सेल्सियस रहा।

पिछले दो दिनों में हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी के कारण सार्वजनिक उपयोगिता प्रणाली बाधित हो गई है। राज्य में तीन राष्ट्रीय राजमार्ग सहित 355 सड़कें अवरुद्ध हैं। चंबा में 14, कांगड़ा में 2, किन्नौर में 29, कुल्लू में 47 सड़कें और 2 राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच), मंडी जिले में 29 , शिमला में 54 और लाहौल स्पीति में 177 सड़कें बंद रहीं।

कुल्लू में भारी बर्फबारी के कारण रोहतांग दर्रा एनएच-3 और एनएच-305 बंद कर दिया गया है। एनएच-505 ग्राम्फू से लोसर और एनएच-3 दारचा से सरचू गर्मियों तक बंद रहेंगे। प्रदेश में 194 विद्युत आपूर्ति योजनाएं बाधित हैं। बिजली योजनाओं का सबसे ज्यादा खामियाजा चंबा को भुगतना पड़ रहा है।

About News Room lko

Check Also

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को मिला पीआईएमएस प्रमाणन

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को आज प्रतिष्ठित ISO 27701:2019 PIMS (गोपनीयता सूचना प्रबंधन प्रणाली) प्रमाणन ...