महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरुष नसबंदी बहुत आसान- डॉ. सिंह

जनपद में दो चरणों में चार दिसंबर तक चल रहा पुरुष नसबंदी पखवाड़ा

कानपुर। गुणवत्तापरक प्रजनन स्वास्थ्य सेवाओं की पहुँच जन समुदाय तक बनाये रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग प्रयासरत है। इसी क्रम में 22 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक पुरुष नसबंदी पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत पुरुष लाभार्थियों का परिवार नियोजन पर संवेदीकरण के साथ गुणवत्तापूर्ण नसबंदी सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व परिवार कल्याण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. एस.के.सिंह ने बताया कि ‘पुरुषों ने परिवार नियोजन अपनाया, सुखी परिवार का आधार बनाया’ थीम के साथ मनाए जा रहे पुरुष नसबंदी पखवाड़े के प्रथम चरण में 22 से 28 नवम्बर तक लक्षित दंपति को परिवार नियोजन के प्रति संवेदीकृत किया जा रहा है। द्वितीय चरण में 29 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक सेवा प्रदायगी सप्ताह के तहत विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा और स्वास्थ्य केन्द्रों पर पुरुष नसबंदी की सेवाएं दी जायेंगी।

डॉ. सिंह ने बताया कि शारीरिक बनावट के आधार पर महिलाओं की अपेक्षा पुरुष नसबंदी बहुत ही सरल और आसान होती है। पखवाड़े के प्रथम सप्ताह में आशा व ए.एन.एम. परिवार नियोजन में पुरुषों की सहभागिता, परिवार नियोजन के उपलब्ध साधनों की जानकारी, सीमित परिवार के लाभ, विवाह की सही आयु (लड़के की 21 वर्ष एवं लड़की की 18 वर्ष) , विवाह के बाद कम से कम दो साल बाद पहला बच्चा, पहले व दूसरे बच्चे के जन्म में तीन साल का अंतर, प्रसवोत्तर व गर्भपात पश्चात परिवार कल्याण सेवाओं की जानकारी दी जा रही है।

डॉ. सिंह ने बताया कि यू.एच.एम. चिकित्सालय, डॉ. जे.एल.रोहतगी, मा. काशीराम संयुक्त चिकित्सालय और के.पी.एम. के साथ ही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सरसौल, भीतरगांव,घाटमपुर, पतारा, बिधनू, कल्यानपुर, चौबेपुर, शिवराजपुर, बिल्हौर, ककवन पर 22 नवम्बर से 4 दिसम्बर के बीच विभिन्न तिथियों में पुरुष नसबंदी कैंप आयोजित किये जा रहे हैं । डॉ.एस.के. सिंह ने बताया कि पुरुष नसबंदी के बाद लाभार्थी को 2000 रुपये, महिला नसबंदी के लिए लाभार्थी को 1400 रुपये और प्रसव उपरांत नसबंदी पर 2200 रूपए की प्रोत्साहन राशि दी जाती है।
बास्केट ऑफ़ च्वाइस के माध्यम से आशा व एएनएम देंगी परिवार

नियोजन साधनों की जानकारी- उप जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी राजेश यादव ने बताया कि दंपति सम्पर्क चरण में गांवों में 22 से 28 नवम्बर तक आशा, एएनएम व आशा संगिनी द्वारा योग्य दंपति को पुरुष गर्भ निरोधक साधनों के लिए संवेदीकरण, चिन्हीकरण एवं पंजीकरण किया जाएगा । वहीं प्रचार-प्रसार सामग्री के माध्यम से पुरुष नसबंदी की जानकारी दी जा रही है । पुरुष नसबंदी पखवाड़े की जानकारी देने के साथ परिवार पूर्ण होने पर पुरुषों को नसबंदी अपनाने के लिए प्रेरित करने में जनप्रतिनिधियों का सहयोग लिया जाएगा।

रिपोर्ट-शिव प्रताप सिंह सेंगर

About Samar Saleel

Check Also

आस्था के अनुरूप अयोध्या-अभिव्यक्ति

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें अयोध्या जी के प्रति भारत ही नहीं दुनिया ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *