Breaking News

बाबा की नगरी में मनेगा प्रकाश शिव उत्सव, रोशनी से नहाया जल थल व नभ

● काशी के कण कण में बसने वाले शंकर दुनिया को देंगे अध्यात्म की नई रोशनी

वाराणसी। भगवान राम के वनवास से लौटने के बाद अयोध्या नगरी में जिस तरह दीपोत्सव मनाया गया था, अब उसी तर्ज़ पर श्री काशी विश्वनाथ धाम के उद्घाटन के समय शिव की नगरी काशी में प्रकाश उत्सव मनाने की तैयारी चल रही है। तैयारियों ऐसी है कि काशी का कण कण प्रकाशित होगा। कई लाख झालरों और दीपों की अद्भुत छठा जन जन को धरती पर स्वर्ग सा नज़ारा दिखाने के लिए पर्याप्त होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने महत्वाकांक्षी योजना श्री काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन 13 दिसम्बर को करेंगे।

श्री काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन दुनिया के लिए मिसाल होगा। धाम के विकास, विस्तार और सौंदर्यीकरण के बाद 50 हज़ार स्क्वायर मीटर में धाम की आभा निखर के दुनिया के सामने दिखने लगी है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बाबा धाम के लोकार्पण के मौक़े को भी बेहद ख़ास बना रहे है। जिससे पूरी दुनिया भारत के आध्यात्मिक दर्शन को आत्मसात कर सके।

देश की धार्मिक राजधानी काशी में धार्मिक आयोजन के समय भी राष्ट्रीयता का बोध कराती रोशनी पूरी दुनिया में उजाला फैलाएगी। पूरी काशी रोशनी में नहा रही है। चौक -चौराहे, स्ट्रीट लाइट के खंभे, सरकारी भवन, सभी घाट, काशी में स्थित सभी विश्वविद्यालय, कॉलेज स्कूल, बिल्डिंग, होटल रेस्टोरेंट, रेलवे स्टेशन, आरओबी, ऐतिहासिक टाउन हॉल, कुंड तालाब, टीवी टावर जैसे अधिकतर जगहों पर तिरंगे रंग में रोशनी की गई है। अकेले नगर निगम 28 से अधिक स्थानों पर करीब 55 लाख से अधिक झालरो से शहर को रोशन किया है।

13 दिसम्बर को लोकार्पण के दिन काशी में करोड़ो दीप और झालर टिमटिमाएँगे। मानो तारे जमीन पर आ गए हो,यही नहीं 13 दिसम्बर को शायद वाराणसी दुनिया का ऐसा शहर होगा जहां रात में भी दिन का अहसास होगा। काशी के कण कण में बसने वाले शंकर दुनिया को नई रौशनी देंगे। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के दिन सभी नावें सजेंगी। लेज़र शो होगा।

नगर निगम के अधिशासी अभियंता अजय कुमार राम ने बताया कि तीन तरह की झालरों से शहर रोशन हो रहा है। नगर निगम अकेले 28 से अधिक स्थानों पर करीब 55 लाख अधिक झालरो से सजाया है। जिसमे, फसाड लाइट, एलईडी स्ट्रिप एलईडी झालर है।

ज़रूरत और सुंदरता के मुताबिक़ तिरंगा रंग और पिली और अन्य लाइट का इस्तेमाल किया गया है। इसके अलावा अलग-अलग सरकारी और निजी संस्थाओं और काशीवासियो ने शहर से लेकर गांव तक करोड़ो की संख्या में झालर और दीपो से अप्रितम सजावट किया है।

रिपोर्ट-संजय गुप्ता

About Samar Saleel

Check Also

10 अक्टूबर को आईटीआई लखनऊ में लगेगा अप्रेन्टिस व रोजगार मेला, 39 कम्पनिययां 3700 से अधिक पदो पर करेंगी युवाओं का चयन 

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। मुख्यमंत्री मिशन रोजगार योजना के अन्तर्गत 10 ...