Breaking News

गुजरात की कंपनी के 5 करोड़ लूटने वाला मास्टरमाइंड कन्याकुमारी से गिफ्तार, 77 लाख रुपये बरामद

जमुआ-गिरिडीह मुख्य मार्ग के बाटी मोड़ के पास बीते 21 जून की रात डीवाई कंपनी के पांच करोड़ रुपये लूटकांड मामले का मास्टरमाइंड खिरोधर साव उर्फ गुलाब साह और मुन्ना रविदास को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

गिरफ्तार मास्टरमाइंड के पास से पुलिस ने 77 लाख रुपये नगद बरामद किया है. इस मामले जानकारी एसपी दीपक कुमार शर्मा ने प्रेस वार्ता कर दी.

गुलाब साह और मुन्ना को पुलिस ने कन्याकुमारी से गिरफ्तार किया है. गुलाब की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस की टीम लगातार कई राज्यों में छापामारी कर रही थी जिसके बाद पुलिस की विशेष टीम को यह सफलता हासिल हुई है. बताया गया की गुजरात की डीवाई कंपनी की इतनी मोटी रकम लूटने की योजना बरही का गुलाब साह ने बनाया था और अपने गिरोह में अन्य लोगों को शामिल किया था. घटना को अंजाम देने के बाद गुलाब साह हजारीबाग जिले के बरही में स्थित अपने निवास पर भी पहुंचा था, लेकिन चार दिनों के बाद पुलिस की सक्रियता देखकर वह स्कार्पियो समेत फरार हो गया. बताया जाता है कि उसने झारखंड छोड़ बिहार के किसी इलाके में शरण लिया था.

आपको बता दें कि बीते 21 जून की रात अपराधियों ने जमुआ थाना इलाके के बाटी मोड़ के पास उस वक्त डीवाई कंपनी के पांच करोड़ रुपये को नगद लूट लिया जब कंपनी के कर्मी क्रेटा कार में पटना से कोलकाता ले जा रहे थे. क्रेटा कार के अंडरग्राउंड सेफ में कंपनी के पांच सौ रुपये की गड्डियां भरी हुई थी. इस मामले को लेकर क्रेटा कार के चालक मयुर सिंह जडेजा ने जमुआ थाना में आवेदन देकर जमुआ थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी थी. रास्ते में गिरिडीह जिला के जमुआ थाना क्षेत्र में बाटी के पास रोड पर स्कार्पियो तथा एक्सयूवी वाहन से आये अपराधकर्मियों द्वारा उक्त क्रेटा वाहन को ओवर टेक कर रोक लिया तथा उसके चालक व सहयोगी को कब्जे में लेकर क्रेटा वाहन के सेफ में रखे पांच करोड़ रूपया लूट लिया था.

गौरतलब रहे कि गिरिडीह पुलिस ने पांच करोड़ लूटकांड का उदभेदन करने में सफलता हासिल कर ली है. मुख्य सात आरोपियों में से छह आरोपियों को पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से पूर्व में ही गिरफ्तार कर लिया था. साथ ही घटना में प्रयुक्त आठ मोबाइल, एक्सयूभी वाहन और क्रेटा कार में लगाये गये एक जीपीएस को भी पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया था. गिरफ्तार आरोपियों में राजेश सिंह धनबाद जिले के गोविंदपुर थाना क्षेत्र के रामनगर विलेज रोड, मो. करीम अंसारी गोविंदपुर के अमलाटांड़, विनोद विश्वकर्मा गोविंदपुर के अमरपुर उपर बाजार और शहजाद आलम गोविंदपुर के फकीरडीह का रहने वाला है. जबकि रंजीत कुमार हजारीबाग जिले के बरही थाना क्षेत्र के धमना और अजीत कुमार सिंह चतरा जिला के इटखोरी थाना क्षेत्र के कोनी गांव का रहने वाला है.

ये सभी आरोपी खुद को कभी रिकवरी एजेंट बताते थे तो कभी अपने आपको अधिकारी. अपराध से इनलोगों का पुराना संबंध रहा है. घटना को अंजाम देने वालों में से कुल छह अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसमें चार धनबाद जिले के गोविंदपुर के हैं और दो हजारीबाग जिले के बरही के रहने वाले हैं. जबकि इस लूटकांड का मास्टरमाइंड गुलाब साह अब भी फरार चल रहा था. जिसकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने बड़ी लूटकांड मामले का खुलासा कर लिया है. बता दें कि इस लूटकांड को अंजाम देने के लिए करीब डेढ़ माह पूर्व ही साजिश रची गयी थी, गिरोह के सदस्यों ने बरही में ही इस लूटेरा गिरोह ने क्रेटा कार में चिप प्लांट किया था. उस वक्त गिरोह के लोगों ने डीवाई कंपनी के कर्मियों से सेल टैक्स का अधिकारी बनकर सात लाख रुपये की वसूली की थी.

लूटकांड की इस घटना को अंजाम देने के लिए डीवाई कंपनी के पटना स्थित कार्यालय में गिरोह का ही एक व्यक्ति लंबे समय से रेकी कर रहा था. क्रेटा कार में मोटी रकम लोड होने की सूचना उसी व्यक्ति ने गिरोह को उपलब्ध करायी और उसके बाद गिरोह के लोग जीपीएस के माध्यम से कार को ट्रैक करने लगे. फिर गिरिडीह जिले के जमुआ के बाटी गांव के पास रोक कर उससे पांच करोड़ रुपये लूट लिये थे. हालांकि 5 करोड़ में से लगभग 4 करोड़ की बरामदगी की जा चुकी है.

About News Desk (P)

Check Also

‘सब राजनीतिक ड्रामा..’ एमयूडीए में कथित घोटाले को लेकर BJP के धरने पर भड़के डिप्टी CM डीके शिवकुमार

कर्नाटक: कर्नाटक में मैसुरु शहरी विकास प्राधिकरण (एमयूडीए) द्वारा भूखंड आवंटित करने में कथित फर्जीवाड़े के ...