Breaking News

पुष्कर महोत्सव के दौरान एनडीआरएफ ने चिकित्सा शिविर लगाकर किया जरुरतमंदों का उपचार

वाराणसी। पर्यटक और श्रद्धालु बड़ी संख्या में देश-विदेश से काशी दर्शन के लिए आते हैं और घाटों के किनारे गंगाजी में स्नान और काशी विश्वनाथ के दर्शन के साथ दर्शनीय स्थलों का भी भ्रमण करते हैं। साल भर में कई विशेष पर्वों के दौरान घाटों पर भारी भीड़ उमड़ी रहती है।

👉वर्ल्ड हैंड हाइजीन डे : बीमारी से रखनी है दूरी तो हाथ धोना है जरूरी

इस दौरान प्रशासन को सहयोग करते हुए एनडीआरएफ (NDRF) टीमें उप महानिरीक्षक मनोज कुमार शर्मा के निर्देशन में मोटर बोट, अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरण और अनुभवी व प्रशिक्षित बचावकर्मियों के साथ गंगा घाटों पर तैनात होती हैं।

एनडीआरएफ NDRF

इसके अतिरिक्त एनडीआरएफ वाराणसी की विशेष मेडिकल टीम को डॉक्टर, पैरामेडीक्स और नर्सिंग स्टाफ के साथ घाटों पर जरुरतमन्द लोगों की सहायता के लिए तैनात किया जाता है। हाल में हुए गंगा पुष्कर कुंभ महोत्सव में दक्षिण भारत से आये श्रद्धालुओं की सहायता हेतु भी एनडीआरएफ की मेडिकल टीम ने चिकित्सा शिविर लगाया।

👉बरेका में विद्युत रेल इंजनों के संबंध में Customer Meet का आयोजन

बारह दिन तक चले गंगा पुष्कर महोत्सव में लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई। महोत्सव के दौरान कई लोगों को चिकित्सीय सहायता की भी जरुरत पड़ी, उनके लिए एनडीआरएफ की मेडिकल टीम ने पूरी तत्परता और समर्पण के साथ सहायता प्रदान की।

एनडीआरएफ NDRF

आंध्र प्रदेश से आई एक 60 वर्षीय महिला सला लक्ष्मी नारायम्मा राजघाट की सीढ़ियों से फिसलकर गिर गई और पैर चोटिल हो गया जिसे मेडिकल टीम ने दर्द निवारक दवा के साथ उपचार देकर स्थानीय अस्पताल भिजवाया। तेलंगाना राज्य से आये 73 वर्षीय रंगारेड्डी नारद घाट पर गंभीर रूप से चोटिल हो गए थे। मेडिकल टीम ने उनके सिर से हो रहे रक्त के स्त्राव को रोक कर ड्रेसिंग बैंडेज किया और तत्काल अग्रिम उपचार के लिए एम्बुलैंस द्वारा स्थानीय अस्पताल भिजवा दिया।

एनडीआरएफ NDRF

अलीगढ़ ज़िले से आई 65 वर्षीय सरोज शर्मा राजेन्द प्रसाद घाट पर लकड़ी के नाव से उतरते समय गिर गई और पैर में गंभीर चोट आई। महिला दर्द से बिलख रही थी और अपने पैर को हिलाने डुलाने तक में असमर्थ थी। एनडीआरएफ की मेडिकल टीम को जैसे ही घटना की जानकारी मिली टीम ने तुरंत कार्यवाही करते हुए महिला को सुरक्षित घाट के किनारे लाकर उपचार दिया और घायल को राहत पहुँचाने के बाद अग्रिम उपचार हेतु कबीर चौरा अस्पताल भिजवा दिया।
एनडीआरएफ की मेडिकल टीम ने डॉ पंकज गौरव और डॉ विवेक सिंह की देख-रेख में 1200 से अधिक जरुरतमंद लोगों का उपचार एवं चिकित्सीय सहायता प्रदान की, साथ ही निःशुल्क दवा भी वितरित की।

एनडीआरएफ NDRF

डॉ पंकज गौरव ने बताया कि इस महोत्सव के दौरान टीम ने दशाश्वमेध घाट पर मेडिकल कैंप लगाया और मोटर बोट और वाटर एम्बुलेंस के माध्यम से भी विभिन्न घाटों पर जरुरतमंदों को तत्काल सहायता पहुंचाई गई। मेडिकल टीम में सुमित ओझा, जीतेन्द्र सिंह और देवेन्द्र कुमार ने अपनी सेवाएं दी।

रिपोर्ट-संजय गुप्ता

About Samar Saleel

Check Also

पर्यावरण संरक्षा जागरूकता के लिए बस्ती स्टेशन पर रेल कर्मियों ने बोर्ड एवं बैनर के माध्यम से यात्रियों को किया जागरूक

लखनऊ। पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मण्डल में मिशन लाइफ के तहत पर्यावरण को अनुकूल करने हेतु ...