Breaking News

प्रयागराज: कोरोना के खिलाफ व्‍यापारियों की जंग, अब तीन दिन दुकानें रहेंगी बंद

संगम नगरी प्रयागराज में कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए व्‍यापारियों ने कमर कस ली है। उन्‍होंने अब हफ्ते में तीन दिन दुकानें बंद रखने का फैसला किया है।

बता दें कि पिछले दिनों सिविल लाइंस उद्योग व्‍यापार मंडल ने सभी व्यापारियों से आवाह्न किया गया था कि वह खुद से ही अपनी दुकानों को हफ्ते में तीन दिन बंद करें और कोरोना संक्रमण को रोकने में सहयोग दें। इस पर सिविल लाइंस के व्‍यापारियों ने इसका पूर्ण समर्थन करते हुए सिविल लाइंस में आज से तीन दिन (शुक्रवार, शनिवार और रविवार) सभी दुकानें बंद रहेंगी।

व्‍यापारियों ने दिखाई एकजुटता

आपको बता दें कि प्रयागराज में जिस तरह से कोरोना संक्रमण फैल रहा है, उससे व्यापारी भी अछूता नहीं रहा है। कई बड़े व्यापारियों की कोरोना संक्रमण से अब तक मौत भी हो चुकी है। ऐसे में कोरोना संक्रमण की गंभीरता को समझते हुए प्रयागराज के सभी व्यापारियों ने एकजुटता दिखाने का संकल्प लिया है।

prayagraj 2 1 कोरोना के खिलाफ व्‍यापारियों की जंग, अब तीन दिन दुकानें रहेंगी बंद

 

सिविल लाइंस उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष नीरज जयसवाल द्वारा राणा ज्वैलर्स के प्रोपराइटर पंकज सिंह ने फोन पर बात करके यह आश्वासन दिया कि उनकी चारों दुकानें निर्धारित बंदी के दिन बंद रहेंगी तो वहीं चड्ढा ज्वैलर्स के साथ-साथ कई मल्टीनेशनल कंपनियों ने भी अपनी कंपनियों को बंद रखने का ऐलान किया है।

सिविल लाइंस उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष नीरज जायसवाल ने बताया कि, लगातार कोरोना का संक्रमण प्रयागराज में बढ़ता जा रहा है। ऐसे में व्यापारियों द्वारा स्वत: की जा रही दुकान बंदी कोरोना जैसी महामारी की चेन तोड़ने में कारगर साबित होगी।
prayagraj 1 1 कोरोना के खिलाफ व्‍यापारियों की जंग, अब तीन दिन दुकानें रहेंगी बंद

वहीं, सिविल लाइंस उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री अमित कुमार सिंह और बबलू ने बताया कि, बंदी में आवश्यक आपूर्ति जैसे- दूध, सब्जी, फल वा दवाओं से संबंधित मेडिकल स्टोर को इस बंदी से मुक्त रखा जा रहा है।

Loading...

About Aditya Jaiswal

Check Also

मम्मी-पापा के विवाद से नाराज किशोरी ने फांसी लगा की आत्महत्या

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें औरैया। जिले के दिबियापुर क्षेत्र में मम्मी-पापा के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *