Breaking News

4 जून से 7 जून तक राजस्थान के दौरे पर रहेंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत, जानिए कार्यक्रम

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत राजस्थान के 5 दिन के प्रवास पर आ रहे हैं। मोहन भागवत 4 जून से 7 जून तक राजस्थान के दौरे पर रहेंगे। हिंडौन और उदयपुर में संघ शिक्षा वर्ग के प्रवास पर रहेंगे।

हिन्दवी स्वराज दिवस समारोह का हुआ भव्य आयोजन

मोहन भागवत 5 जून को पर्यावरण दिवस पर हिंडौन के शिक्षा वर्ग परिसर में रहेंगे। एक पेड़ देश के नाम अभियान के अंतर्गत आरएसएस प्रमुख पौधरोपण करेंगे। चुनावी सााल में मोहन भागवत का राजस्थान प्रवास काफी अहम माना जा रहा है। बता दें, इससे पहले भी मोहन भागवत राजस्थान के दौरे पर आते रहे हैं। लेकिन चुनावी वर्ष होने के कारण मोहन भागवत का दौरा काफी अहम माना जा रहा है।

4 जून से 7 जून तक राजस्थान के दौरे पर रहेंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत

इस बार के क्रम में सरसंघचालक मोहन भागवत वर्ग के अंतिम सप्ताह 4 जून रात्रि से 7 जून रात्रि तक हिंडौन में लग रहे चालीस वर्ष से कम आयु एवं 8 और 9 जून को 40 वर्ष से अधिक आयु के स्वयंसेवकों के विशेष द्वितीय वर्ष में उदयपुर प्रवास पर आ रहे हैं।

वर्गों के समय सरसंघचालक का पूरा समय संघ शिक्षा वर्ग करने आए शिक्षार्थियों के लिए ही रहता है शिक्षार्थियों से परिचय, अनौपचारिक वार्ता, बौद्धिक व जिज्ञासा के कार्यक्रम रहते हैं। 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर हिंडौन के शिक्षा वर्ग परिसर में एक पेड़ देश के नाम अभियान के अंतर्गत सरसंघचालक पौधारोपण भी करेंगे।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के उत्तर पश्चिम क्षेत्र के द्वितीय वर्षों में सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत के प्रवास की जानकारी देते हुए क्षेत्र संघचालक डॉ. रमेश अग्रवाल ने बताया कि ग्रीष्मावकाश में कार्यकर्ताओं के शारीरिक व बौद्धिक प्रशिक्षण के लिए तीन सप्ताह के संघ शिक्षा वर्गों का आयोजन होता है।

इसमें प्रथम वर्ष करने के उपरांत एक से अधिक शाखाओं की देखरेख करने वाले कार्यकर्ताओं का द्वितीय वर्ष क्षेत्र अनुसार होता है। इस वर्ष राजस्थान में दो स्थानों पर द्वितीय वर्ष का आयोजन हो रहा है। द्वितीय वर्ष के संघ शिक्षा वर्ग में एक बार सरसंघचालक एवं अगले वर्ष सरकार्यवाह का प्रवास रहता है।

About News Room lko

Check Also

यात्रियों को पूरा किराया और वाउचर देगा एयर इंडिया, तकनीकी खराबी के बाद रूस में लैंड हुआ था विमान

एयर इंडिया की तरफ से जारी पत्र में उल्लेख किया गया है, सैन फ्रांसिस्को की ...