Breaking News

सुप्राजीत इंजीनियरिंग ने नकली उत्‍पादों के विरुद्ध चलाया देशव्‍यापी अभियान

लखनऊ। सुप्राजीत इंजीनियरिंग का एक ब्राण्‍ड फीनिक्‍स, हैलोजन बल्‍ब में वैश्विक अग्रणी और दुनिया का तीसरे सबसे बड़ा विनिर्माता, ने हाल ही में दिल्‍ली पुलिस के साथ मिलकर करोल बाग समेत राष्‍ट्रीय राजधानी के कई प्रमुख बाजारों में छापे मारे। इन छापों में पूरी तरह से पैकेज्‍ड नकली फीनिक्‍स ऑटोमोटिव हैलोजन बल्‍ब की भारी मात्रा मिली। यह छापे दिल्‍ली के तीस हजारी कोर्ट के माननीय डिस्ट्रिक्‍ट जज के आदेश पर मारे गये थे। यह नकली उत्‍पाद समीपवर्ती राज्‍यों, जैसे उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और भारत के अन्‍य राज्‍यों में बिक सकते थे।

कंपनी के प्रवक्‍ता ने कहा, हम इन छापों में शामिल स्‍थानीय पुलिस और अन्‍य प्रवर्तन अभिकरणों के आभारी हैं। हम प्रमुख बाजारों में नकल के विरूद्ध एक देशव्‍यापी कैम्‍पेन जारी रखेंगे, जैसे पंजाब, हरियाणा, उत्‍तर प्रदेश और अन्‍य राज्‍य। इसमें नकली उत्‍पाद बनाने के लिये अपराधियों, विनिर्माताओं और व्‍यापारियों के विरूद्ध सारी जरूरी कानूनी और दंडात्‍मक कार्यवाही और अपने बिजनेस पार्टनर्स तथा ग्राहकों को नकली उत्‍पादों के बारे में जागरूक करना शामिल है।

उन्‍होंने कहा, एसीएमए के आकलन के अनुसार, 20 प्रतिशत सड़क दुर्घटनाएं नकली ऑटो पार्ट्स के कारण होती हैं, जिनमें कई लोगों की जान जाती है। हमने देखा कि करोल बाग मार्केट यूपी, हरियाणा और पंजाब में आपूर्ति करता है और हम इस पर जागरूकता निर्मित करना चाहते हैं, ताकि ग्राहक पर इसका असर न हो। ग्राहक की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है और हम इस उद्योग में नये मापदंड स्‍थापित करते हुए गुणवत्‍ता की सर्वश्रेष्‍ठ वैश्विक पद्धतियां सुनिश्चित करने के लिये लगातार प्रयत्‍न कर रहे हैं। हम उपभोक्‍ता को सशक्‍त करना चाहते हैं और सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उत्‍पाद शुल्‍क, वैट और अन्‍य स्‍थानीय करों के रूप में सरकार को मिलने वाला राजस्‍व कम न हो।

छापे के दौरान, सुप्राजीत के नाम से बनाये गये नकली फीनिक्‍स ऑटोमोटिव हैलोजन बल्‍ब मिले। टीम ने अन्‍य नकली उत्‍पादों के साथ लेबल और कंपनी के ब्राण्‍डेड नकली पैकिंग मटेरियल्‍स भी जब्‍त किये। छापा मारने वाली टीम में कोर्ट द्वारा नियुक्‍त कमिश्‍नर्स, पुलिस कॉन्‍स्‍टेबल्‍स और सुप्राजीत इंजीनियरिंग की सतर्कता विशेषज्ञ टीम थी। आरोपी के विरूद्ध कॉपीराइट अधिनियम की धारा 64 के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया।

सुप्राजीत इंजीनियरिंग और फीनिक्‍स, दोनों ही पंजीकृत ट्रेडमार्क्‍स हैं और उनकी अलग पहचान वाले पार्ट्स हैं, जिनका पूरी तरह से पता लगाया जा सकता है। सरकार की ‘’मेक-इन-इंडिया’’ और आत्‍मनिर्भर भारत पहलों के अनुसार, सुप्राजीत इंजीनियरिंग नये भारत और उसकी आकांक्षाओं को सशक्‍त और साकार करने में महत्‍वपूर्ण योगदान दे रही है। ऑटोमोटिव बल्‍ब उद्योग का मार्केट लीडर होने के नाते ब्राण्‍ड फीनिक्‍स ग्राहकों को स्‍वावलंबी और जागरूक करने के लक्ष्‍य से उनके हित में नकली और अवैध पार्ट्स का खतरा दूर करने की लड़ाई लड़ने के लिये प्रतिबद्ध है।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

यूपी: 2.61 करोड़ किसानों को मिलेगी पीएम किसान सम्मान निधि

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। उत्तर प्रदेश में दो करोड़ 61 लाख ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *