Breaking News

हम सभी को जीवन में लक्ष्य और उद्देश्य में अंतर ज्ञात होना चाहिए- नंदकुमार शंक

लखनऊ। बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के व्यापार प्रशसान विभाग कि इकाई-एलूमनी सेल ने इंटरएक्टिव एलुमनी लेक्चर का आयोजन किया। यह आयोजन लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अलोक कुमार राय की संरक्षता में संपन्न हुआ। इस आयोजन की संयोजक विभागाध्यक्ष प्रो संगीता साहू के मार्गदर्शन से इस आयोजन को सफलता को मिली। कार्यक्रम के समन्वयक डॉ हिमांशु मोहन थे,उनके साथ डॉ एसके कौशल एवं डॉ अंकिता श्रीवास्तव ने भी सहयोग किया।

दीक्षांत समारोह सप्ताह: लखनऊ विश्वविद्यालय में चौथे दिन भी चलता रहा छात्रों के प्रतिभाग एव जीत हार का सिलसिला 

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता नंदकुमार शंकर (मतास्मा डिजिटल के सह-संस्थापक) एवं गौरव लावनिया (मतास्मा डिजिटल के प्रबंधन मैनेजर) ने अपनी उपस्तिथि दर्ज करवा इस कार्यक्रम कि शोभा बढ़ाई। उक्त दोनों ही सत्र 1993-95 के व्यापार प्रशासन विभाग के पुराने छात्र भी रह चुके हैं।

इस आयोजन के दौरान भूतपूर्व छात्र गौरव लावनिया एवं नंदकुमार शंकर ने अपनी पुरानी यादों को एक बार फिर से संजोया। दोनों भूतपूर्व छात्रों ने अपने व्यक्तिगत जीवन एवं व्यापारिक जीवन की कुछ महत्वपूर्ण अनुभवों को साझा कर छात्रों के ज्ञान को बढ़ाने में योगदान दिया। दोनों पुराने छात्र अपने विभागीय परिसर में वापस आकर प्रफुल्लित थे। भूतपूर्व एवं वर्तमान छात्रों ने एक दूसरे से संवाद कर वातावरण को ऊर्जा प्रदान की।

लखनऊ विश्वविद्यालय: लिंग आधारित हिंसा, उत्पीड़न और लैंगिक समानता पर चर्चा के लिए कार्यक्रम की शुरुआत

विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों ने अपने तत्कालीन सुनहरे पलों का अनुभव चाणक्य सभागार मे अपने जूनियर छात्रों के साथ खुले मन से साझा किया। इसी के साथ-साथ एलुमनी मीट मे जूनियर छात्रों और पूर्वछात्रों मे सामयिक घटनाओ एवं कई विषयो पर संवाद हुआ जैसे की सरकार कि औद्योगिक नीतियों, बिज़नेस एनवायरनमेंट, आर्थिक मंदी, वैश्विक आर्थिक सुस्ती, अंतर्राष्ट्रीय मुद्दे, और सबसे महत्पूर्ण कौशल विकास प्रशिक्षण आदि जैसे विषय पर गहन चर्चा हुई, जो ना कि सिर्फ वर्तमान के छात्रों को मदद करेगा साथ ही साथ उनको अपने भविष्य में सही राह पर आगे बढ़ने कीg हिम्मत प्राप्त होंगी।

सभी तत्कालीन छात्रों ने इस इंटरएक्टिव सेशन मे अपना सहयोग प्रदान कर जूनियर छात्रों का मार्गदर्शन किया। अंततः, उन दोनों वक्ताओं की एक अविस्मरणीय सलाह गूँजती रही वो यह थी की- जीवन में लक्ष्य और उद्देश्य में अंतर ज्ञात होना चाहिए, जिससे पुराने छात्र एवं नये छात्रों का दिल जीत लिया। इस कार्यक्रम के दौरान विभाग के सभी अध्यापक मौजूद रहे, कार्यक्रम के अंत में डॉ निमिषा कपूर ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

About Samar Saleel

Check Also

माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना के साथ ही समाज को जागरूक करने की अनूठी पहल

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। आजाद हिन्द क्लब के तत्वाधान में इन्दिरा ...