Breaking News

गांधी फैमिली को बीजेपी राज में ही क्यों नजर आता है खोट

कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका वाड्रा लखीमपुर खीरी में हुई घटना को योगी सरकार के खिलाफ अधिक से अधिक तूल देना चाहती हैं ताकि उत्तर प्रदेश  विधान सभा चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाया जा सके। प्रियंका को लगता है कि लखीमपुर कांड कांग्रेस की ‘बाजी’ पलट सकता है। इसी लिए प्रियंका यह बताने से भी नहीं चूकती हैं कि समाजवादी पार्टी के नेता लखीमपुर मामले में औपचारिकता निभाते रहे,जबकि कांग्रेस सड़क पर संघर्ष कर रही थी। कांग्रेस इतनी उतावली है कि यूपी को बॉय-बॉय कर चुके राहुल गांधी भी यहां आ धमके और पीड़ितों को इंसाफ दिलाने का का वादा करते हुए योगी सरकार को खूब खरी खोटी सुनाई,लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि गांधी परिवार का सारा प्यार और दर्द लखीमपुर के पीड़ितों के ही क्यों उबाल मार रहा है।

हत्या तो कश्मीर में भी हुई है। वह भी कश्मीरी हिन्दुओं की। बीते मंगलवार को आतंकवादियों ने श्रीनगर में कश्मीर के प्रमुख दवा विक्रेता मक्खन लाल बिंदरू को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया था। बिंदरू उन गिने-चुने कश्मीरी हिन्दुओं में से एक थे,जिन्होंने लगातार मिल रही धमकी के बाद भी यहां से पलायन नहीं किया था। इसके कुछ समय बाद ही आतंकियों ने दो और हमले किए। जिसमें श्रीनगर के लाल बाजार में गोलगप्पे की रेहड़ी लगाने वाले को निशाना बनाया,जिसकी पहचान विरेन्द्र पासवान निवासी बिहार के रूप में हुई है। यह मामला ठंडा भी नहीं हो पाया था और आज गुरूवार को करीब सवा 11 बजे कुछ आतंकियों ने ईदगाह के संगम इलाके में बने गवर्नमेंट ब्वॉयज स्कूल में गोलीबारी की।

इसमें स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और टीचर दीपक चंद बुरी तरह घायल हो गए। दोनों को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, लेकिन दोनों की मौत हो गई। हिन्दुओं को घाटी से डरा-धमकाकर भगा देने के लिए आतंकवादियों द्वारा ऐसी कायराना हरकतों को अंजाम दिया जा रहा है, लेकिन कांग्रेस और गांधी परिवार वहां जाकर पीड़ित  परिवार का दर्द बांटने तो दूर संवेदना के दो शब्द भी नहीं बोल  पाया। इसी प्रकार राजस्थान में कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों पर लाठियां बरसाई जाती है।उत्तर प्रदेष में राहुल-प्रियंका इस बात से दुखी थे कि उन्हें लखीमपुर नहीं जाने दिया जा रहा है। गांधी परिवार इसे लोकतंत्र की हत्या बता रहा था,लेकिन जो आरोप राहुल-प्रियंका योगी सरकार पर लगा रहे थे,वैसा ही कृत्य छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री भी कर रहे थे,लेकिन किसी कांग्रेसी के जूं नहीं रेंगी।

छत्तीसगढ़ में झंडा लगाने के विवाद दो सम्प्रदायों के बीच तनात के बाद दंगा भड़क गया था। इस पर पुलिस ने जमकर लाठी चार्ज किया था। बीजेपी प्रतिनिधिमंडल दंगा प्रभावित कवर्धा में घायलों से मिलने जाना चाहता था,लेकिन वहां की बघेल सरकार ने  भाजपा प्रतिनिधिमंडल को सर्किट हाउस में ही नजरबंद कर लिया, भाजपाई धरने पर बैठ गए,फिर भी स्थानीय प्रशासन नहीं माना तो भाजपा नेताओं को वापस लौटना पड़ गया। लखीमपुर में सियासत चमकाने के चक्कर में गांधी परिवार को या तो यह घटनाएं दिखाई ही नहीं दी अथवा इस पर बोलना उसके सियासी हित के लिए उचित नहीं रहा होगा। इसी तरह से पंजाब में भी कांग्रेस सरकार द्वारा एक तरफ मोदी के खिलाफ किसानों को भड़काया जा रहा है तो दूसरी ओर पंजाब सरकार किसानों के हितों के खिलाफ कई फैसले ले रही है।

बहरहाल, लगता है कि लखीमपुर की घटना से कांग्रेस को उम्मीद है कि वह भाजपा के खिलाफ माहौल बनाने और सूबे के सियासी समीकरण को बदलने में कामयाब हो सकती है। जहां, एक तरफ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने खुद मोर्चा संभाल रखा है वही, दूसरी तरफ अपने वरिष्ठ नेताओं और मुख्यमंत्रियों का भी सहारा ले रही हैं। पंजाब, छत्तीसगढ़, राजस्थान, झारखंड और उत्तराखंड के कांग्रेस नेता पीड़ितों से मुलाकात करने लखीमपुर जा रहे हैं। बुधवार को प्रदेश सरकार से इजाजत मिलने के बाद राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा समेत पांच नेताओं को लखीमपुर खीरी जाकर हिंसा में मारे गए लोगों के परिवारों से मुलाकात की थी।

    संजय सक्सेना

About Samar Saleel

Check Also

‘मन की बात’ के 82वें संस्करण पर पीएम मोदी ने राष्ट्र को किया संबोधित व सरदार पटेल को किया नमन

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *