कमजोर पड़ा बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवात,लुबान की आशंका

लखनऊ। भारतीय मौसम विभाग ने देश में चक्रवातीय तूफान लुबान luban cyclone की आशंका जताई है। अरब सागर में न्यूनतम दबाव को इसकी मुख्य वजह बताया जा रहा है। यह तेजी के साथ पश्चिम-उत्तर पश्चिम आैर दक्षिण-पश्चिम की आेर बढ़ रहा है। अगले 24 घंटे में चक्रवात का व्यापक असर आसपास के इलाकों में तेज हवाओं आैर तूफान के रूप में देखने को मिल सकता है।

आेमान आैर यमन की आेर बढ़ सकता है लुबान

चक्रवातीय तूफान लुबान आने वाले पांच- छह दिनों में यह आेमान आैर यमन की आेर बढ़ सकता है।वहीं बंगाल की खाड़ी में बने न्यूनतम दबाव का असर अब कम हो रहा है,जो खाड़ी के दक्षिण पूर्व आैर पूर्व मध्य के क्षेत्र में बना हुआ था। बंगाल की खाड़ी में बने न्यूनतम दबाव का असर कम होने से हवाआें की रफ्तार भी कम होर्इ है। ऐसे में इसके आसपास के इलाकों आैर दक्षिण प्रायद्वीपीय के कुछ हिस्सों में बरसात होने की संभावना बेहद कम हो गर्इ है। पूर्वोत्तर मानसून की वजह से तमिलनाडु, पुडुचेरी, केरल,आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में पूर्व में जो भारी बारिश का अनुमान लगाया गया था वहा अब हल्की बारिश होने के अासार हैं। अगर कल के मौसम पर नजर डाला जाये तो अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में सबसे ज्यादा बारिश हुर्इ।

पोर्ट ब्लेयर में 13 सेंटीमीटर बरसात

इसके अलावा केरल और लक्षद्वीप, तमिलनाडु और पुडुचेरी के अधिकांश इलाके बारिश के चलते पानी से लबरेज रहे। जम्मू-कश्मीर, पश्चिम बंगाल और सिक्किम, बिहार, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा और तटीय कर्नाटक के अधिकांश इलाकों में भी बारिश खासी बरसात देखने को मिली। जहां पोर्ट ब्लेयर में 13 सेंटीमीटर, लांग आइसलैंड में 12 सेंटीमीटर, हट-बे व कोच्चि में 4 सेंटीमीटर, निकोबार, कन्नूर और नागपट्टिनम में 3 सेंटीमीटर आैर तिरुवनंतपुरम, कन्याकुमारी, मदुरै में 2 सेंटीमीटर बारिश होना दर्ज किया गया। गुजरात के भुज का उच्चतम तापमान 42.4 डिग्री सेल्सियस तमिलनाडु के कुन्नूर में कम देश का न्यूनतम तापमान 14.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *