दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित फिल्मकार Mrinal Sen का निधन

अपनी फिल्मों से समाज को आइना दिखाने वाले महान फिल्म मेकर मृणाल सेन Mrinal Sen अब हमारे बिच नहीं रहे। दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात फिल्म निर्देशक मृणाल सेन का लंबी बीमार के बाद रविवार को निधन हो गया,वह 95 वर्ष के थे।

एक दिन अचानक, पदातिक और मृगया समेत चर्चित फिल्में

नील आकाशेर नीचे,भुवन शोम, एक दिन अचानक, पदातिक और मृगया समेत तमाम चर्चित फिल्मों के जरिए अपनी अलग पहचाने बनाने वाले पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित सेन देश के सबसे प्रख्यात फिल्म निर्माताओं में से एक थे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने टि्वटर पर सेन के निधन पर शोक जताया। उन्होंने कहा, ‘‘मृणाल सेन के निधन से दुखी हूं। फिल्म उद्योग की बड़ी क्षति। उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।’’

संस्कृति और भारत की सभ्यता के मूल्यों की क्षति : सीताराम येचुरी

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने भी फिल्म निर्माता को उनके मानवीय कथानक के लिए याद किया। उन्होंने कहा,‘‘मृणाल सेन का गुजर जाना न केवल सिनेमा बल्कि दुनिया की संस्कृति और भारत की सभ्यता के मूल्यों की बड़ी क्षति है। मृणाल दा लोगों पर आधारित अपने मानवतावादी कथानक से सिनेमैटोग्राफी में बड़ा बदलाव लाए।’’ बंगाली फिल्म उद्योग भी दिग्गज निर्देशक के निधन से शोक में है।

परमब्रत चटर्जी ने ट्वीट करते हुए लिखा,‘‘एक युग का अंत। युग…लीजेंड्स कभी नहीं मरते।’’

प्रसेनजीत चटर्जी ने कहा, ‘‘साल के अंत में लीजेंड मृणाल सेन के निधन जैसी खबरें मिलना हमारे लिए दुख की बात है और हम इससे स्तब्ध हैं। मृणाल सेन ने भारतीय सिनेमा को नया नजरिया दिया। यह हम सभी के लिए भारी क्षति है। उनकी आत्मा को शांति मिले।’’

About Samar Saleel

Check Also

लंबी बीमारी के बाद अरुण जेटली का AIIMS में हुआ निधन, भाजपा में दौड़ी शोक की लहर

पूर्व वित्त मंत्री व भाजपा (BJP) के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली (Arun Jaitley) का शनिवार को दिल्‍ली के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *