Breaking News

14 अप्रैल जयंती विशेष : आधुनिक भारत के निर्माता डा भीमराव अंबेडकर

नई दिल्ली। बाबा साहव डा भीमराव अंबेडकर (Baba Saheb Dr. Bhimrao Ambedkar) दलितों के अभिमन्यु संविधान के वास्तुकार और युग निर्माता थे। डा अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 में आधुनिक मध्य प्रदेश के मऊ नामक स्थान पर हुआ था। महार परिवार में जन्में डॉ भीमराव अंबेडकर के पिता रामजी सकपाल ब्रिटीश फौज में सुबेदार थे जबकि माता भीमा बाई ईश्वर भक्त गृहिणी थी। एक संत ने भविष्यवाणी करते हुए भीमा बाई को आशीर्वाद देते हुए कहा था कि तुम्हें एक तेजस्वी पुत्र की प्राप्ती होगी।

अतीक अहमद पूछताछ के दौरान फिर रोया, कहा सब मेरी गलती है…

भीमा बाई के पुत्र का नाम भीम रखा गया। इनके पिता रामजी सकपाल सेवा निवृत होने के बाद महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में अम्बावडे गांव में बस गये। इस कारण इनका नाम स्कूल में भर्ती करवाते समय भीम राव रामजी अम्बावडे लिखा गया। नाम के उच्चारण में परेशानी होने के कारण स्कूल के एक ब्राहम्ण शिक्षक रामचंद्र भागवत अंबेडकर ने अपना उपनाम इन्हें रख दिया। तभी से इनका नाम अंबेडकर पड़ा।

डा अंबेडकर को महार जाति में पैदा होने के कारण स्कूली शिक्षा के दौरान उन्हें कई कटु अनुभव हुए। उन्हें कमरा में पीछे बैठाया जाता था, पानी पीने की अलग व्यवस्था थी। उस समय समाज में काफी असमानतायें थी, जिस कारण डा अंबेडकर का जीवन काफी संर्घषमय एवं सामाजिक विडंबनाओं एवं कुरीतियों से लड़ते हुए बीता।

डा भीमराव अंबेडकर

इनकी प्रारमंभिक शिक्षा दापोली के प्राथमिक विद्यालय में हुई। 6 वर्ष की आयु में इनके माता का निधन हो गया। फलस्वरुप इनका लालन-पालन इनकी बुआ ने की। 1907 में इन्होंने मैट्रीक की परीक्षा पास किया। अपने बिरादरी का मैट्रीक पास करने वाले पहले छात्र थे। फिर इनकी शादी भीकूजी वालगकर की पुत्री रमा से हो गई। उच्च शिक्षा के लिए सतारा से मुम्बई के एलिफिंसटन कालेज में गये। इस दौरान बडौदा महाराज की ओर से उन्हे 25रु प्रतिमाह का वजीफा मिलने लगे।

हर घर नल योजना ने छुआ रिकार्ड का आसमान, 1 करोड़ नल कनेक्शन का कीर्तिमान

1912 में बीए की परीक्षा पास करने के बाद बडौदा राज्य की सेवा में वित फिर रक्षा में लेफ्टिनेंट पद पर नियुक्त हुए। बडौदा महाराज ने उच्च शिक्षा के लिए सन 1913 में इन्हें न्यूय़ार्क भेज दिया। उच्च शिक्षा ग्रहण करने के बाद स्वदेश आये और भारत में फैले अस्पृश्यता को रोकने के लिए काफी प्रयास किया और संविधान में इसकी ब्यवस्था करवाया।

स्वतंत्र भारत के प्रथम कानूनन मंत्री बने। दलितो के उद्दार के साथ साथ समाजिक भाईचारे को बढ़ावा देने तथा वर्ण व्यवस्था से व्याप्त कुरीतियों को खत्म करने के लिए ता-उम्र लड़ते रहे और अंत में बाबा भीम राव अंबेडकर का 6 दिसंबर 1956 को इनका निधन हो गया।

       लाल बिहारी लाल

About Samar Saleel

Check Also

राहुल गांधी की यात्रा में इंडिया न्यूज संवाददाता की पिटाई करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

नई दिल्ली। नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन और एनयूजे उत्तर प्रदेश ने ...