Breaking News

विधानसभा चुनाव से पहले सीएम अशोक गहलोत ने उठाया ये बड़ा कदम, करने जा रहे OBC, SC और ST के लिए…

राजस्थान में ओबीसी, एससी और एसटी आरक्षण बढ़ेगा। अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार रिव्यू कराएगी। कांग्रेस ने जातिगत गणना के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखा है। राजस्थान में ओबीसी का आऱक्षण 21 से बढ़ाकर 27 प्रतिशत किया जा सकता है।

2024 के लोकसभा चुनाव में बाबा का बुलडोज़र बीजेपी के लिए प्रशस्त करेगा दिल्ली का रास्ता

अशोक गहलोत Ashok Gehlot

सीएम गहलोत ने कहा कि ओबीसी की जनसंख्या बढ़ती जा रही है औऱ वे ज्यादा आरक्षण (Reservation) की मांग कर रहे हैं। हम चाहेंगे कि इस बारे में इसे नए सिरे से दिखें। किस प्रकार से हम 27 प्रतिशत तक जाना है। एससी-एसटी आरक्षण भी कहां तक ले जाना है, क्योंकि उनकी जनसंख्या भी अब बढ़ रही है। वो भी यही मांग कर रहे है कि आरक्षण का प्रतिशत बढ़ना चाहिए। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि ये तमाम काम हम कमीशन के माध्यम से कराएंगे।

कर्नाटक में NEP खत्म करने की तैयारी में कांग्रेस, 2020 में केंद्र सरकार ने की थी इसकी शुरुआत

इसमें किसी को राजनीतिक माहौल खराब करने की आवश्यकता नहीं है। सीएम गहलोत ने कहा कि कांग्रेस के रायपुर राष्ट्रीय अधिवेशन में हमने जातिगत जनगणना कराने का प्रस्ताव पारित किया है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने पीएम मोदी को पत्र लिखा है। सभी जातियों को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए। ये सरकार की ड्यूटी है।

लेकिन इससे पहले ओबीसी कमीशन पूरा रिव्यू करेगा। सीएम गहलोत ने इस बारे में संकेत दिए है। विधानसभा चुनाव से पहले सीएम अशोक गहलोत के इस दांव से ओबीसी, एससी और एसटी वर्ग के वोटों का कांग्रेस को लाभ मिल सकता है। सीएम गहलोत ने कहा कि जब मैं पहली बार सीएम बना तो ओबीसी का आरक्षण 21 फीसदी लागू हुआ। एससी-एसटी आरक्षण डबल किया गया। एससी को 8 का 16 और एसटी को 6 का 12 प्रतिशत आरक्षण कांग्रेस ने किया था। हम आगे भी सोच-समझकर फैसला करेंगे।

About News Room lko

Check Also

बसपा को लगा बड़ा झटका, बरेली और आंवला लोकसभा के प्रत्याशियों का नामांकन निरस्त

बरेली। उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी को बड़ा झटका लगा है।आंवला और बरेली लोकसभा ...