Breaking News

बोस ने हिंदू महासभा की ‘विभाजनकारी राजनीति’ का विरोध किया व एकजुट भारत की खातिर लड़े : ममता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने हिंदू महासभा की ‘विभाजनकारी राजनीति’ का विरोध किया था और वह धर्मनिरपेक्ष तथा एकजुट भारत की खातिर लड़े थे। बनर्जी ने नेताजी की जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की मांग की।

 

उन्होंने कहा कि बोस ने अपने संघर्ष के जरिए यह संदेश भेजा कि सभी धर्मों का सम्मान किया जाना चाहिए और एकजुट भारत के लिए लड़ना उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। ममता बनर्जी ने सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कहा, ”नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था।

 

वह धर्मनिरपेक्ष भारत के लिए लड़े। लेकिन अब धर्मनिरपेक्षता का पालन करने वालों को बाहर करने के प्रयास किए जा रहे हैं।” उन्होंने केंद्र पर आरोप लगाया कि नेताजी के लापता होने के रहस्य से पर्दा उठाने के लिए सरकार गंभीर नहीं है। बनर्जी ने कहा, ”उन्होंने (केंद्र) केवल कुछ ही गोपनीय फाइलों को सार्वजनिक किया है।

वास्तविकता में क्या हुआ था, यह पता लगाने के लिए कोई कदम नहीं उठाए गए। यह शर्मिंदगी की बात है कि 70 वर्ष से भी अधिक समय बीत जाने के बावजूद हम यह नहीं जान पाए हैं कि उनके साथ क्या हुआ था।”

About News Room lko

Check Also

कनाडा की विदेश मंत्री “मेलानी जोली” का भारत दौरा

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें कनाडा की विदेश मंत्री मेलानी जोली भारत यात्रा ...