डीएम ने संचारी रोग नियंत्रण अभियान की तैयारियों की समीक्षा की

औरैया। संचारी रोगों को रोकने के लिए विभागों की जिम्मेदारी तय हो गई है। किस विभाग को क्या करना है और रोगों की रोकथाम के क्या उपाय अपनाने हैं, इसके निर्देश जारी हो गए हैं। शिक्षा विभाग बच्चों और अभिभावकों को किस तरह जागरूक करेगा और स्वास्थ्य विभाग को क्या काम करना है ये बताया गया है। नगर विकास और कृषि विभाग इन रोगों की रोकथाम में क्या भूमिका निभाएंगे इसकी रूपरेखा भी तय की गई है। बता दें कि, जनपद में एक जुलाई से संचारी रोगों की रोकथाम के लिए संचारी रोग नियंत्रण अभियान और दस्तक अभियान चलाया जाएगा।

इस सम्बंध में मंगलवार को जिलाधिकारी अभिषेक सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार कक्ष में द्वितीय संचारी रोग नियंत्रण अभियान 1 जुलाई से 31 जुलाई तक चलाये जाने की अन्तर्विभागीय बैठक सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी ने बताया कि शासन की मंशा के अनुरूप संचारी रोग तथा दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण तथा इनका त्वरित एवं सहयोग सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है।

जिलाधिकारी ने दिये आवश्यक निर्देश

जिलाधिकारी ने बैठक के दौरान समस्त संबंधित अधिकारियों, ईओ, डीपीआरओ, बीएसए, डीआईओएस, कृषि अधिकारी, समाज कल्याण अधिकारी, जिला दिव्यांगजन अधिकारी आदि को निर्देश दिये कि नगरीय व ग्रामीण क्षेत्रों में वातावरणीय तथा व्यक्तिगत स्वच्छता के उपायों, खुले में शौच न करने, शुद्ध पेयजल के प्रयोग तथा मच्छरों के रोकथाम हेतु विशेष अभियान चलाकार जनजागरूकता फैलाई जाए। इसके अलावा खुली नालियों को ढकने की व्यवस्था एवं नालियों की साफ सफाई कराने के दिशा निर्देश दिये।

जिलाधिकारी ने समस्त अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह अपने अपने विभागों से सम्बन्धित क्रियाकलापों का गहनता से समीक्षा करते हुए प्रतिदिन निर्धारित प्रारूप में क्रियाकलापों व फोटोग्राफ्स के साथ चिकित्सा विभाग को सूचित करना सुनिश्चित करें। बैठक में अन्य बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा की गयी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी बृज किशोर पाठक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी अर्चना श्रीवास्तव, डिप्टी सीएमओ शिशिर पुरी, अपर सीएमओ डॉ. अशोक कुमार, डीएमओ, सभी ईओ, सभी एमओआईसी आदि संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

इन विभागों को मिली जिम्मेदारी

स्वास्थ्य विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है। संचारी रोग व दिमागी बुखार की रोकथाम के लिए जिला व ब्लॉक मुख्यालय पर समन्वय बनाकर काम करेगा। रोगियों के उपचार की व्यवस्था, मरीजों के परिवहन के लिए वाहन की सेवा, प्रचार-प्रसार की जिम्मेदारी भी स्वास्थ्य विभाग संभालेगा। नगरों में खुली नालियों के ढकने का इंतजाम, फागिग करवाना, हैंडपंपों के पास शॉकपिट का निर्माण, सड़कों के किनारे उगी घास को हटवाने की जिम्मेदारी नगर निकाय संभालेंगे।

Loading...

ग्राम स्तर पर साफ-सफाई, जागरूकता कार्यक्रम, जल निकासी, गांवों के सरकारी नलों की मरम्मत, जलाशयों व नालियों की नियमित सफाई आदि का जिम्मा पंचायती राज विभाग को दिया गया है।आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कुपोषित बच्चों का चिह्नीकरण, पोषाहार वितरण व अन्य जिम्मेदारी संभालेंगी। संचारी रोग व दिमागी बुखार की रोकथाम के लिए दस्तक अभियान में आशा व एएनएम का सहयोग करेंगी।

शिक्षा विभाग के जिम्मेदार अभिभावक व बच्चों का वाट्स एप ग्रुप बनवाकर संचारी रोगों की रोकथाम के उपाय बताए जाएंगे। ऑनलाइन जागरूकता संदेश दिया जाएगा।

जुलाई माह में चलेगा दस्तक अभियान

जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि दिमागी बुखार कोविड-19 एवं अन्य संक्रामक रोगों के संबंध में व्यापक जन जागरूकता हेतु माह जुलाई में दस्तक अभियान आयोजित किया जा रहा है जिसमें प्रशिक्षित स्वास्थ्य कर्ता घर-घर जाकर इन बीमारियों के बचाव तथा उपचार के संबंध में विभिन्न जानकारी देंगे आशा व आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा गृह भ्रमण कर विशेष सावधानी बरतने हेतु दिमागी बुखार से बचाव तथा इसके उपचार के विषय में स्वास्थ्य विभाग तथा अन्य जानकारी देते हुए जनता का कार्य किया जाएगा।

रिपोर्ट-अनुपमा सेंगर

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

गोरखपुर के ताल सुमेर सागर का बदलेगा स्वरूप, 15 करोड़ की लागत से होगा निर्माण

ताल सुमेर सागर को दोबारा ताल का स्वरूप देने के लिए जिला प्रशासन 15 करोड़ ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *