Breaking News

अन्य देशों के साथ संबंधों के निर्माण में भारतीय सिनेमा

खुशी की बात है कि हमारा क्षेत्रीय सिनेमा बड़ी तेजी से आगे बढ़ रहा है। इन क्षेत्रों से कई दमदार फिल्में आ रही हैं। भारतीय सिनेमा हमारे देश की विशाल विविधता को दर्शाता है जो विभिन्न संस्कृतियों, धर्मों और भाषाओं का घर है। इस तरह की सांस्कृतिक और धार्मिक प्रथाएं भी दुनिया के कई हिस्सों में व्यापक रूप से प्रचलित हैं। इस संबंध में भारतीय सिनेमा अन्य देशों के साथ सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ावा दे सकता है। सिर्फ हिंदी फिल्में ही नहीं बल्कि भारतीय भाषाओं की फिल्मों को भी अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक दर्शक मिल रहे हैं। विश्व भर मैं फैले भारतीय मूल के लोगों में खूब लोकप्रिय सिनेमा के वैश्वीकरण से इस में मदद मिल सकती है। हमें भारत को ब्रांड बनाने के लिए सामग्री तैयार करने और देश को दुनिया का सामग्री उपमहाद्वीप बनाने के लिए हमें फिल्म बिरादरी और भारत की ताकत का इस्तेमाल करते हुए सार्वजनिक-निजी भागीदारी को बढ़ावा देने की आवश्यकता है।

पिछले 100 वर्षों से, सिनेमा एक महत्वपूर्ण संचार उपकरण बन गया है जो राष्ट्रीय राजनीतिक सीमा से परे फैलता है और लोगों को जोड़ता है। विशेष रूप से भारतीय सिनेमा में, जो एक वैश्विक उद्यम है और पूरे दक्षिण एशिया में व्यापक दर्शक वर्ग है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेजी से फैल रहा है, राष्ट्रों के बीच संबंध बनाने और मजबूत करने में एक संभावित उपकरण बन सकता है। भारतीय सिनेमा की जीवंतता, विविधता और कल्पना वास्तव में अद्भुत है। ऐसी कई कहानियां हैं जिसे भारत को दुनिया को दिखाने की जरूरत है। समकालीन भारत की कलात्मक कल्पना आज अधिकांश फिल्मों में दिखाई देती है।

खुशी की बात है कि हमारा क्षेत्रीय सिनेमा बड़ी तेजी से आगे बढ़ रहा है। इन क्षेत्रों से कई दमदार फिल्में आ रही हैं। भारतीय सिनेमा हमारे देश की विशाल विविधता को दर्शाता है जो विभिन्न संस्कृतियों, धर्मों और भाषाओं का घर है। इस तरह की सांस्कृतिक और धार्मिक प्रथाएं भी दुनिया के कई हिस्सों में व्यापक रूप से प्रचलित हैं। इस संबंध में भारतीय सिनेमा अन्य देशों के साथ सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ावा दे सकता है। भारतीय #सिनेमा दुनिया भर में भारतीय शास्त्रीय परंपराओं को बढ़ावा देने में भी मदद कर सकता है। उदाहरण के लिए, हाल ही में कांटारा (एक कन्नड़ फिल्म) जो स्थानीय कन्नड़ परंपरा को दर्शाती है, विदेशों में कई देशों में रिलीज हुई थी।

भारतीय सिनेमा विदेशों में रहने वाले भारतीय प्रवासियों की सांस्कृतिक पहचान को बनाए रखने में भी मदद करता है। भारतीय सिनेमा पुरानी परंपराओं के साथ-साथ आधुनिकता का संगम भी दिखाता है। उदाहरण के लिए, पैडमैन जैसी भारतीय फिल्में महिलाओं के लिए सामाजिक विकास में भारतीय अनुभव को दर्शाती हैं जो मध्य-पूर्व में स्थित राष्ट्रों को प्रेरित कर सकती हैं। इसके अलावा, हाल ही में भारतीय सिनेमा महिला सशक्तीकरण (जैसे, मैरी कॉम, शाबाश मिठू आदि) पर गहन रूप से ध्यान केंद्रित कर रहा है, जिस पर अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं और लैंगिक समानता को बढ़ावा देने वाले देशों द्वारा भी जोर दिया जाता है।

भारतीय सिनेमा भारत के कई हिस्सों की सामाजिक परिस्थितियों को भी दर्शाता है जो विभिन्न राष्ट्रों के लोगों के बीच अंतर्राष्ट्रीय जागरूकता और बंधन पैदा कर सकता है। भारतीय सिनेमा का वैश्विक हिस्सा बहुत बढ़ रहा है। यह कई देशों में बढ़ती आर्थिक उपस्थिति के साथ-साथ भारी मात्रा में राजस्व उत्पन्न कर सकता है। उदाहरण के लिए, दंगल चीन में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली गैर-हॉलीवुड विदेशी फिल्म थी। कई #भारतीय_फिल्में विदेशों में फिल्माई जाती हैं जो विदेशी राष्ट्रों के उपकरणों और तकनीकों का भी उपयोग करती हैं जो राष्ट्रों के बीच आर्थिक संबंध बनाने में मदद कर सकती हैं। भारतीय सिनेमा पड़ोस की भाषाओं का उपशीर्षक संस्करण प्रदान करके, रेस्तरां और विदेशों में सार्वजनिक स्थानों पर इसका प्रचार करके अपनी आर्थिक उपस्थिति बढ़ा सकता है।

जबकि एक सॉफ्ट पावर के रूप में भारतीय सिनेमा की क्षमता का काफी हद तक उपयोग नहीं किया गया है, जिसका यदि लाभ उठाया जाए तो अपरिवर्तनीय लाभ पैदा हो सकता है। यह मॉडल फिल्म नीति तैयार करने, प्रौद्योगिकी के उपयोग में वृद्धि, विभिन्न फिल्म संस्थानों के साथ #आईसीसीआर सहयोग आदि के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है। वैश्विक बाज़ार में खुद को आकर्षक बनाने के लिए किसी राष्ट्र की वैचारिक क्षमताएं समकालीन अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में एक महत्वपूर्ण पहलू बन गईं है। सिनेमा राष्ट्र की ब्रांडिंग के प्रयासों में प्रमुख भूमिका निभा सकता है। तेजी से हुए उदारीकरण, नियंत्रण में छूट, मीडिया और संस्कृति के निजीकरण ने पिछले कुछ दशकों में भारतीय फिल्म उद्योग को बदल दिया है, और साथ ही वैश्विक डिजिटल मीडिया उद्योगों और वितरण प्रौद्योगिकियों के विस्तार ने भारतीय मनोरंजन चैनलों और फिल्में का वैश्विक मीडिया में अधिक से अधिक उपस्थिति और दृश्यता सुनिश्चित की है।

विश्व मानचित्र पर भारतीय सिनेमा की बढ़ती लोकप्रियता ही है कि आज हिंदी फिल्में दुनिया भर में एक साथ रिलीज होती हैं और इसके सितारों के चेहरे अंतरराष्ट्रीय विज्ञापन और मनोरंजन क्षेत्र में पहचान पाते हैं। यहां तक कि दूर-दराज के अफ्रीकी देश भी हमारी फिल्मों और संगीत से मोहित हैं। हम नाइजीरिया जैसे देशों के बारे में जानते हैं वहां का नॉलिवुड बाजार भारतीय सिनेमा से बहुत प्रेरणा लेता है; बॉलीवुड ने लैटिन अमेरिका जैसे अज्ञात देशों में भी विस्तार किया है तथा हमारा सिनेमा दक्षिण कोरिया, जापान, चीन जैसे देशों में  भी पैठ बना रहा है।

सिर्फ हिंदी फिल्में ही नहीं बल्कि भारतीय भाषाओं की फिल्मों को भी अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक दर्शक मिल रहे हैं। विश्व भर में फैले भारतीय मूल के लोगों में खूब लोकप्रिय सिनेमा के वैश्वीकरण से इस में मदद मिल सकती है। हमें भारत को ब्रांड बनाने के लिए सामग्री तैयार करने और देश को दुनिया का सामग्री उपमहाद्वीप बनाने के लिए हमें फिल्म बिरादरी और भारत की ताकत का इस्तेमाल करते हुए सार्वजनिक-निजी भागीदारी को बढ़ावा देने की आवश्यकता है।

      डॉ. सत्यवान सौरभ

About Samar Saleel

Check Also

लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में आए दिन शिक्षकों के अधिकारों का हनन, पक्षपात एवं मानसिक आघात

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। डॉ राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय ...