Breaking News

इंटरनेशनल डॉग डे: अपने सोसाइटीज के कुत्तों को भी दें प्यार

इंटरनेशनल डॉग डे के अवसर पर, ह्यूमेनसोसाइटीइंटरनेशनल/इंडिया (ह्चएसआई/इंडिया) अपने समुदाय के कुत्तों के साथ सद्भाव मेंरहने वाले कुछ ऐसे दयालु व्यक्तियों की कहानियां साझा कर रहा है, जिससे उइन बेजुबानों को वह प्यार मिलता रहे है जिसके वे हकदार हैं

लखनऊ। इंडियन स्ट्रीट डॉग कई तरह की परिस्थितियों का सामना करते हुए एक दिन से दूसरे दिन तक जीवित रहता है।पड़ोसी से दोस्तु और पालतू जानवर बनने से लेकर, अत्यधिक क्रूरता तक, हमारे चार पैरों वाले सबसे अच्छे दोस्त उन लोगों के बीच फंस जाते हैं जो उन्हें पसंद करते हैं और जो नहीं करते हैं। इंटरनेशनल डॉग डे पर, ह्चएसआई/इंडिया ने स्ट्रीटडॉग्स के प्रति कुछ प्रेम, आशा और करुणा की कहानियां की।

ह्चएसआई/इंडिया, अपने सामुदायिक जुड़ाव कार्यक्रम के माध्यम से, उत्तराखंड, लखनऊ और वडोदरा में सैकड़ों सामुदायिक स्वयं सेवकों के साथ काम करता है ताकि लोगों और गली के कुत्तों के संबंधों को बेहतर ढंग से समझा जा सके। कार्यक्रम के माध्यम से, एचएसआई/इंडिया ने 500 से अधिक समुदाय के सदस्यों और स्वयं सेवकों के साथ सहयोग किया और उनसे मुलाकात की, जो हजारों स्ट्रीट डॉग्स की मदद करते हैं जैसे- बुनियादी प्राथमिक चिकित्सा, चिकित्सा उपचार, नसबंदी और एंटी रेबीज टीकाकरण, स्वच्छ भोजन और पानी के साथ, गोद लेने की व्यवस्था करते हैं।

वही दूसरी और ह्चएसआई/इंडिया के डॉग मैनेजमेंट प्रोजेक्ट्स के सहयोग से, इन स्वयं सेवकों ने 7200 से अधिक कुत्तों की नसबंदी और टीकाकरण करने मदद कि है। इससे अवांछित पिल्ले में कमी, सोसाइटीज में एक स्थिर कुत्तो की आबादी, कुत्ते के काटने और रेबीज के मामलो में काफी कमी देखी गयी है।मानव-कुत्ते की समस्या पर हल निकालते है, रेस्क्यू और अडॉप्ट करने के साथ साथ जब वे क्रूरता देखते हैं तो पुलिस में शिकायत भी दर्ज करते हैं।

ऐसा ही एक उदाहरण वडोदरा की ईशा बारोट है, जो ह्चएसआई/इंडिया के साथ स्वयं सेवा करने वाली एक युवा लड़की है। ईशा अपने आस-पड़ोस और आस पास के 40 गली के कुत्तों को खाना खिलाती है और किसी भी बीमार और घायल जानवरों को प्राथमिक उपचार भी देती है।

इनके मदद से, ह्चएसआई/इंडिया टीम ने नसबंदी और टीकाकरण के लिए मानवीय रूप से 50 सेअधिक कुत्तों को पकड़ा। वह दयालु, जिम्मेदार और एक समर्पित स्वयं सेवक हैं जो वडोदरा में कुत्तों के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करती हैं और अपने क्षेत्र के युवाओं के लिए एक प्रेरणा हैं।

देहरादून का एक और उदाहरण वाशुदेव है, जो जीवन यापन के लिए चाय की एक छोटी सी दुकान चलाते है। अपनी वित्तीय चुनौतियों और सीमाओं के बावजूद, वह अप नेक्षेत्र में रहने वाले लगभग 35 गली के कुत्तों को दैनिक आधार पर खिलाता है। उन्हें थोड़ी भी मदद मिलती है, लेकिन वह बड़े पैमाने पर अपने भोजन का प्रबंधन खुद करते है। जब ह्चएसआई/इंडिया टीम को वाशु के निस्वार्थ कार्य के बारे में पता चलातो वे तुरंत उनकी पहल का समर्थन करने के लिए उनके पास पहुंचे। वाशु ने टीम को नसबंदी और टीकाकरण के लिए स्ट्रीट डॉग्स को पकड़ने में मदद भी की – यह सुनिश्चित करते हुए कि जिन जानवरों की वह देखभाल करता है और उन्हें प्यार करता है, उन्हें सड़कों पर एक अच्छा और स्वस्थ जीवन मिले।

लखनऊ की श्रीवास्तव बहनें प्रतिदिन लगभग 350 गली के कुत्तों और अन्य गली के जानवरों के भोजन और चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करती हैं। उनके पिता से वह प्रेरित होकर जानवरों के करीब आईं। उन्होंने पिछले एक साल में ह्चएसआई/इंडिया के समर्थन से अपने पड़ोस के लगभग 400 कुत्तों की नसबंदी और टीकाकरण किया और वे अन्य क्षेत्रों में जागरूकता पैदा करने और ह्चएसआई/इंडिया द्वारा संचालित अभय संकल्प प्रोग्राम के तहत किए गए सामुदायिक कार्यों का समर्थन करना भी जारी रखे हुए हैं।

अन्य उदाहरणों में, देहरादून में, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के पशु चिकित्सक कमांडेंट डॉ. विनोद ठाकुर द्वारा दो स्ट्रीटडॉग को गोद लिया गया था।उनका विचार उन्हें भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों में काम करने के लिए खोजी कुत्तों के रूप में उपयोग करना है। वह दिखाना चाहते हैं कि कैसे इंडियन स्ट्रीटडॉग्स को ऐसे क्षेत्रों में प्रशिक्षित किया जा सकता है और उम्मीद है कि भारत में स्ट्रीट डॉग्स की धारणा को बढ़ाने के साथ-साथ अन्यनस्लों पर निर्भरताकम होगी।

COVID-19 महामारी और उसके बाद के लॉकडाउन के दौरान, देहरादून, लखनऊ और वडोदरा में सामुदायिक प्रतिनिधियों और स्वयं सेवकों ने सड़कों और बाजार क्षेत्रों के आस पास भूखे कुत्तों को नियमित भोजन उपलब्ध कराने में सक्रियरूप से भाग लिया। 520 ऐसे सामुदायिक प्रतिनिधियों और स्वयं सेवकोंको लॉकडाउन की अवधि में 2,20,000 से अधिक भोजन उपलब्ध कराने के लिए जुटाया गया था।

कुत्तों को उनके क्षेत्र से हटाए बिना या उन्हें घर के अंदर रखे बिना उनकी देखभाल करने और उनकी जिम्मेदारी लेने की यह अवधारणा नई नहीं है, लेकिन यह बहुत अधिक प्रचलित हो रही है और लोगों के लिए अपने पड़ोस के जानवरों की देखभाल करने का एक संतुलित तरीका बन रही है। जैसा कि कहा जाता है, एक कुत्ते की मदद करने से दुनिया नहीं बदल सकती, लेकिन उस कुत्ते की दुनिया बदल जाएगी। भारत में लाखों स्ट्रीट डॉग हैं, सबसे अधिक उद्धृत अनुमान 33 मिलियन है। ये कुत्ते अलग-अलग तरीकों से जीवित रहते हैं और पनपते हैं, और कुछ नहीं। शहरों में, हम अधिक से अधिक लोगों को शहरी पारिस्थिति की तंत्र में उनकी भूमिका को समझते और स्वीकार करते हुए स्ट्रीट डॉग्स के साथ सह-अस्तित्व कीकोशिश करते हुए देख रहे हैं। ईशा, वाशु, श्रीवास्तव बहनो और डॉ. ठाकुर जैसे व्यक्ति इस बात के प्रमुख उदाहरण हैं कि कैसे हर कोई इंडियन कुत्तों की दुनिया को एक सुरक्षित और खुशहाल जगह बनाने में भूमिका निभा सकता हैं।

About Samar Saleel

Check Also

टीकाकरण के बाद इन 3 चीजें को अपनाकर आप भी पा सकते हैं कोरोना के नए Variant से निजात

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें कोरोना नियमों का पालन करते रहना जरूरी है ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *