Breaking News

EMISAT अंतरिक्ष से रखेगा दुश्‍मनों पर नजर

श्रीहरिकोटा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) ने आज अंतरिक्ष में इतिहास रचा है। इसरो ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से इलेक्ट्रॉनिक इंटेलीजेंस सैटेलाइट एमिसैट (EMISAT) को लाॅन्च किया। इसरो ने इस सैटेलाइट को सुबह 9.27 बजे पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (पीएसएलवी) C45 के जरिए अंतरिक्ष में भेजा।

PSLV-C45 ने 436 किलोग्राम के सैटेलाइट EMISAT को

इसरो ने दूसरे देशों के 28 सैटेलाइट्स को भी लाॅन्च किया। इसमें अमेरिका के 24, लिथुआनिया का 1, स्पेन का 1 व स्विट्जरलैंड का भी 1 सैटेलाइट शामिल है। इसरो पहली बार इन सभी सैटेलाइट्स को अंतरिक्ष की 3 अलग-अलग कक्षाओं में स्थापित करने जा रहा है। इस संबंध में इसरो का कहना है कि रॉकेट, PSLV-C45 ने 436 किलोग्राम के सैटेलाइट एमिसैट को इंजेक्ट किया।

सभी 28 सैटेलाइट्स का वजन लगभग 220 किलोग्राम

इसरो प्रमुख के सिवन व इसके वैज्ञानिकों की यह बड़ी उपलब्धि है क्योंकि एमिसैट EMISAT को सफलता पूर्वक कक्षा में रखने के बाद 28 विदेशी सैटेलाइट को 504 किलोमीटर की ऊंचाई पर लाया गया। सभी देशों की 28 सैटेलाइट्स का वजन लगभग 220 किलोग्राम है।

Loading...

इलेक्‍ट्रोमैग्‍नेटिक स्‍पेक्‍ट्रम को मापने के लिए

चौथे चरण में ही रॉकेट को 485 किलोमीटर की कक्षा में उतारा जाएगा। एमिसैट सैटेलाइट संचार से जुड़ी किसी भी तरह की गतिविधि पर नजर रखेगा। सैटेलाइट सीमा पर व दुश्मनों पर पैनी नजर रखेगा। इसका इस्तेमाल इलेक्‍ट्रोमैग्‍नेटिक स्‍पेक्‍ट्रम को मापने के लिए होगा। इसके जरिए दुश्मन देशों के रडार सिस्टम पर नजर व उनकी लोकेशन को आसानी से ट्रैक किया जा केगा।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

यौन उत्पीड़न मामले में असिस्टेंट प्रोफेसर निलंबित

प्रयागराज। यौन उत्पीड़न के आरोपित सीएमपी डिग्री कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर मदन यादव को निलंबित ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *