Breaking News

कन्‍या पूजन व नारी सशक्तिकरण

डॉ दिलीप अग्निहोत्री
 डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

नवरात्र देवी उपासना का विशिष्ट अवसर होता है। दोनों नवरात्र प्रकृति परिवर्तन के काल में आयोजित होते है। इसे आराधना के लिए श्रेष्ठ माना जाता है। इस अवधि में नियमों के पालन से शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य का संवर्धन होता है। भारतीय संस्कृति में नारी को सदैव सम्मान दिया गया-
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः इस प्रकार का उद्घोष केवल भारत में ही किया गया। विदेशी आक्रांताओं के कारण भारत की इस संस्कृति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।

फिर भी देवी आराधना व कन्या पूजन की परंपरा चलती रही। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने सन्यास व राजधर्म निर्वाह में इस परम्परा पर अमल करते है। गोरक्ष पीठाधीश्वर के रूप में वह नवरात्र के प्रथम दिन कलश स्थापना हेतु गोरखपुर जाते है।

इसी प्रकार नवमी पर वह हवन व कन्या पूजन के लिए पहुंचते है। गोरक्ष पीठ मंदिर में उन्होंने परम्परा के अनुरूप नौ कन्‍याओं के पांव पखारे। उनका तिलक कर उन्‍हें लाल चुनरी ओढ़ाई। एक सौ ग्यारह कन्‍याओं और इतने ही बटुकों को स्वयं भोजन परोसा। मुख्यमंत्री पद की व्यस्तता के चलते योगी अन्य दिनों पर अन्यत्र भी उपासना का क्रम जारी रखते है। कलश स्थापना व नवमी को वह गोरक्षपीठाधीश्‍वर की भूमिका का विधिवत निर्वहन करते है।

मुख्यमंत्री के रूप में वह इस विचार को नारी सशक्तिकरण,स्वालंबन व सम्मान से जोड़कर चलते है। उनकी सरकार इस दिशा में प्रयास कर रही है। बालिकाओं के लिए सरकार की ओर से अनेक योजनाएं चलाई जा रही है। कन्या सुमंगला से लेकर मिशन शक्ति तक अनेक योजनाएं उल्लेखनीय है। यह सभी योगी आदित्यनाथ की अभिनव योजनाएं है। मिशन शक्ति अभियान का उद्देश्य महिलाओं और लड़कियों को जागरूक करना है। इसके साथ ही उन्हें स्वावलंबी भी बनाया जा रहा है। महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा सम्मान एवं स्वावलंबन के लिए शासन स्तर से कई अभियान और कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

अभियान से सभी विभागों के बीच समन्वय स्थापित किया गया है। चौबीस विभाग इसमें योगदान दे रहे है। इस अभियान के अंतर्गत पिंक पेट्रोल व पुलिस थानों और तहसीलों में हेल्प डेस्क,सीक्रेट रूम गठित किये गए। महिलाओं की सुविधा के लिये पुलिस के एक सौ बारह हेल्पलाइन में क्षेत्रीय भाषाओं को शामिल किया गया। योगी आदित्यनाथ ने पुलिस में महिलाओं की बीस प्रतिशत अनिवार्य भर्ती का निर्णय लिया था। मिशन शक्ति शुरू किया। इस मिशन की शुरुआत पिछले साल अक्टूबर से की गई थी।

अभियान के पहले चरण में महिला सुरक्षा और सशक्तीकरण के सम्बन्ध में व्यापक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। दूसरे चरण में अभियान को ऑपरेशन के रूप में संचालित किया किया। बीते अगस्त में रक्षाबंधन के दिन मिशन शक्ति का तीसरा चरण शुरू किया गया था। इसमें निराश्रित महिला पेंशन योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत करीब तीस लाख महिलाओं के खातों में साढ़े चार सौ करोड़ रुपये से अधिक धनराशि डेढ़ लाख से अधिक बेटियों के खातों में ट्रांसफर किए गए थे।

इसके अलावा महिलाओं के लिए तीस करोड़ रुपये से अधिक की राशि भी जारी की थी। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इन सभी योजनाओं का सकारात्मक प्रभाव हो रहा है।

About Samar Saleel

Check Also

आत्मनिर्भर भारत में यूपी का योगदान

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें महात्मा गांधी खादी को केवल वस्त्र नहीं विचार ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *