Breaking News

विदेश राज्यमंत्री ने अबू धाबी संवाद में श्रम और गतिशीलता के मुद्दों पर चर्चा की

विदेश राज्य मंत्री (एमओएस) वी. मुरलीधरन ने यूएई की अपनी दो दिवसीय आधिकारिक यात्रा आज पूरी कर ली। इस यात्रा के दौरान उन्होंने 26 और 27 अक्टूबर को दुबई के अबू धाबी डायलॉग (ADD) के छठे मंत्रिस्तरीय परामर्श में भाग लिया।

प्रवासी गतिशीलता और मजदूरी संरक्षण पर चर्चा करने के लिए सऊदी मंत्री के साथ आमने-सामने बैठकर की बातचीत।

ADD श्रम उपलब्ध कराने वाले 11 देशों का एक समूह है। इसमें अफगानिस्तान, बांग्लादेश, चीन, भारत, नेपाल, पाकिस्तान, फिलीपींस, श्रीलंका, थाईलैंड और वियतनाम तथा श्रम प्राप्त करने वाले 07 देश- बहरीन, कुवैत, मलेशिया, ओमान, कतर, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात शामिल हैं। श्रम संबंधी गतिशीलता और अन्य मुद्दों पर चर्चा करने के लिए इस समूह की यह पहली व्यक्तिगत बैठक थी।

भाग लेने वाले देशों के मंत्रियों के साथ परामर्श के दौरान विदेश राज्यमंत्री ने प्रवासन से संबंधित समकालीन मुद्दों की बात की और कहा यह महत्वपूर्ण है कि प्रवासियों को कार्यबल प्रणाली में फिर से एकीकृत किया जाए क्योंकि महामारी ने उन्हें सबसे अधिक प्रभावित किया है।

विदेश राज्यमंत्री ने ADD के इतर सऊदी मानव संसाधन और सामाजिक विकास मंत्री अहमद अल-राझी के साथ एक-एक बैठक भी की। एक ट्वीट में सऊदी मंत्री के साथ बैठक के बारे में अपने विचार साझा करते हुए विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने कहा यात्रा में आसानी, प्रवासी गतिशीलता, वेतन संरक्षण और विवाद निपटान पर चर्चा की। सऊदी अरब में हाल ही में प्रवासी-केंद्रित श्रम सुधार पहल को सुनकर खुशी हुई।

2.6 मिलियन मजबूत भारतीय समुदाय सऊदी अरब में सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है और अनुशासन, कानून का पालन करने और शांतिप्रिय प्रकृति की भावना के कारण अत्यधिक सम्मानित भी है।

ADD मंत्रिस्तरीय बैठक के अलावा वी. मुरलीधरन ने दुबई एक्सपो 2020 में ‘आकर्षक भारत मंडप’ का भी दौरा किया और इसे “नए भारत का शानदार चित्रण” कहा। इसके अतिरिक्त विदेश राज्यमंत्री ने दुबई में भारतीय वाणिज्य दूतावास में आयोजित एक कार्यक्रम में भारतीय समुदाय के साथ एक संवादात्मक सत्र आयोजित किया और “नए भारत के निर्माण में भारतीय समुदाय के सदस्यों के निरंतर समर्थन की सराहना की।

अबू धाबी में बीएपीएस मंदिर निर्माण स्थल का किया दौरा: अंत में आधिकारिक यात्रा की समाप्ति से पहले विदेश राज्यमंत्री वी० मुरलीधरन ने अबू धाबी में बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर के निर्माण स्थल का भी दौरा किया। वर्तमान में निर्माणाधीन मंदिर मध्य पूर्व में बनने वाला पहला पारंपरिक पत्थर का मंदिर है।

यूएई सरकार को शुरू से ही लगातार समर्थन के लिए धन्यवाद देते हुए मंत्री ने इस तथ्य की भी सराहना की कि मंदिर का निर्माण “फ्लाई ऐश का उपयोग करके पर्यावरण के अनुकूल हरित नींव का उपयोग करके किया जा रहा है।

शाश्वत तिवारी
   शाश्वत तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

फलस्तीन समर्थक रिद्धि पटेल बोली- सबको मार दूंगी, तत्काल गिरफ्तारी; PM मोदी के लिए भी कर चुकी बदजुबानी

इस्राइल के खिलाफ लड़ाई में फलस्तीन का समर्थन नहीं करने पर सबको मारने की धमकी ...