लोक अदालत में 57 हजार से भी अधिक वादों का निस्तारण किया गया

फिरोजाबाद। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली व उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के दिशानिर्देशन में जनपद न्यायालय स्थित केन्द्रीय सभागार में लोक अदालत का आयोजन किया गया.इस लोक अदालत में 30 हजार के सापेक्ष्य 57 हजार 541 वादों का निस्तारण किया गया. लोक अदालत उदघाटन जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष, संजीव फौजदार द्वारा माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित करते हुए किया गया और वादकारियों से अधिक से अधिक वाद निस्तारित करवाये जाने की अपील की गयी।

कार्यक्रम में उपस्थित सुरेन्द्र नाथ त्रिपाठी, परिवार न्यायालय फिरोजाबाद एवं राजेश कुमार सिंह, मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण द्वारा निवेदन किया गया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में सहभागिता से अधिक से अधिक वादों का निस्तारण करायें। जिलाधिकारी सूर्यपाल गंगवार द्वारा राष्ट्रीय लोक अदालत की महत्ता और इसके लाभों के बारे में जानकारी दी गयी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने कहा कि शमनीय प्रकृति के वादों का राष्ट्रीय लोक अदालत एक उत्तम समाधान है और इससे जनपद के मुकदमों का भी भार कम होता है।

उदघाटन समारोह में न्यायिक अधिकारीगण के अतिरिक्त अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) अभिषेक सिंह, पुलिस विभाग की ओर से नोडल अधिकारी पुलिस अधीक्षक (शहर/यातायात) मुकेश मिश्रा, नगर निगम की ओर से अपर नगर आयुक्त संतोष कुमार यादव तथा बार एसोशिएसन के अध्यक्ष महेन्द्र सिंह यादव, महासचिव देवेन्द्र सिंह यादव के साथ-साथ अन्य विद्वान अधिवक्तागण भी उपस्थित रहे। प्राधिकरण की प्रभारी सचिव/सिविल जज (वरिष्ठ खण्ड) श्रीमती मिनाक्षी सिन्हा द्वारा राष्ट्रीय लोक अदालत में नियत किये वादों और राष्ट्रीय लोक अदालत के सम्बन्ध में किये गये प्रयासों के सम्बन्ध में जानकारी दी गयी और कथन किया गया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में 30,000 वादों का लक्ष्या रखा गया था लेकिन प्रचार-प्रसार से लक्ष्य से भी ज्यादा वादों का निस्तारण संभव है।

राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल57541 वादों का निस्तारण किया गया। इनमें से मुख्यतः जनपद न्यायालय द्वारा4वाद, परिवार न्यायालय द्वारा76 वाद, मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण द्वारा 30 वादों का निस्तारण करते हुए 11,382,000/-धनराशि प्रतिकर के रूप में प्रदान की गयी है। परिवार न्यायालय द्वारा सुलह समझौते के आधार पर 9जोडे एक साथ भेजे गये, राजस्व न्यायालय द्वारा30499 वाद, बैंक द्वारा बसूली योग्य 913 वादों में 1,12,761,288/-धनराशि का सैटलमेंट किया गया। बीएसएनएल द्वारा बसूली योग्य22 वादों में48,540/-धनराशि का सैटलमेंट किया गया। जिला न्यायालय से सम्बन्धित अधिकारीगण में से जनपद न्यायाधीश संजीव फौजदार द्वारा 4 वाद निस्तारित किये गये। आलोक पाण्डेय, स्पेशल जज पोक्सो एक्ट फिरोजाबाद द्वारा1 वाद निस्तारित किये गये। श्री चन्द्रशेखर-प्प्, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट नं० 1 फिरोजाबाद द्वारा1 वाद निस्तारित किया गया। राजेश कुमार- II स्पेशल जज एस0सी/एस0टी0 एक्ट फिरोजाबाद द्वारा2 वाद निस्तारित किये गये। विजय कुमार आजाद, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट नं० 7 फिरोजाबाद द्वारा344 वाद निस्तारित किये गये। रविन्द्र कुमार, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट नं० 11 फिरोजाबाद द्वारा2 वाद निस्तारित किये गये। श्री अवधेश पाण्डेय, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट नं० 2 फिरोजाबाद द्वारा5 वाद निस्तारित किये गये।

अरविन्द कुमार यादव- III , अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट नं० 1 फिरोजाबाद द्वारा2 वाद निस्तारित किये गये। आजाद सिंह, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट नं० 6 फिरोजाबाद द्वारा21 वाद निस्तारित किये गये। अनुराग शर्मा, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश एफटीसी कोर्ट नं० 1 फिरोजाबाद द्वारा3 वाद निस्तारित किये गये। यजुवेन्द्र विक्रम सिंह, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश एफटीसी कोर्ट नं० 2 फिरोजाबाद द्वारा1वाद निस्तारित किये गये। न्यायालय सिविल जज (वरिष्ठ खण्ड) श्रीमती मिनाक्षी सिन्हा द्वारा 74 वाद में धनराशि रूपया 14,101,599/-,के उत्तराधिकार प्रमाणपत्र जारी किये गये।

मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी राजमंगल सिंह यादव, अपर मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी फिरोजाबाद अम्बरीष त्रिपाठी, अपर मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी शिकोहाबाद सुव्रत पाठक, ग्राम न्यायालय टूण्डला गिरेन्द्र सिंह, ग्राम न्यायालय जसराना श्री मिमोह यादव, सिविल जज जू०डि० फिरोजाबाद सुश्री सृष्टि पाण्डेय, अपर सिविल जज जू०डि० कोर्ट नं० 1 शिकोहाबाद सुश्री दीक्षी चौधरी, अपर सिविल जज जू०डि० कोर्ट नं० 2 शिकोहाबाद श्रमती प्रज्ञा पाराशर, न्यायिक मजिस्ट्रेट शुभम चौधरी, अपर सिविल जज जू०डि० कोर्ट नं० 5 फिरोजाबाद, सिविल जज जू०डि० एफ०टी०सी० कोर्ट नं० 2 श्री कपिल यादव, सिविल जज जू०डि० एफ०टी०सी० कोर्ट नं० 1 अभिषेक सिंह, आदि न्यायालयों द्वारा शमनीय प्रकृति के5510 वादों के निस्तारण करते हुए 4,42,290/- धनराशि अर्थदण्ड के रूप में बसूल की गयी। राष्ट्रीय लोक अदालत के नोडल अधिकारी/अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट नं० 6 फिरोजाबाद द्वारा राष्ट्रीय लोक अदालत की सफलता के प्रत्येक सहभागी को धन्यवाद व आभार व्यक्त किया गया और अपेक्षा की गयी कि जनपद फिरोजाबाद के वादकारी लगातार अपने वादों और समस्याओं का निस्तारण कराने के लिए सहयोग प्रदान करेंगें। राष्ट्रीय लोक अदालत का संचालन प्राधिकरण की प्रभारी सचिव/ सिविल जज (वरिष्ठ खण्ड) श्रीमती मिनाक्षी सिन्हा एवं सिविल जज (कनिष्ठ खण्ड) सुश्री दीक्षी चौधरी द्वारा किया गया।

रिपोर्ट-मयंक शर्मा

About Samar Saleel

Check Also

सौ दिन की पृष्टभूमि

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें Published by- @MrAnshulGaurav Tuesday, July 05, 2022 सौ दिन ...